भारत का अमन बचाना हम सब की सांझी ज़िम्मेदारी : सय्यद अशरफ

25 फरवरी,नई दिल्ली
आल इंडिया उलमा व माशाईख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फ़ोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने दिल्ली में हो रही हिंसा पर चिंता जाहिर करते हुए लोगों से अमन की अपील की उन्होंने कहा कि भारत के अमन की हिफ़ाज़त हम सब की सांझी ज़िम्मेदारी है।
उन्होंने कहा कि मुल्क में हिंसा फैलाने वाले न सिर्फ देश के बल्कि इंसानियत के दुश्मन हैं ,हिंसा चाहे कोई भी करे उस बर्दाश्त नहीं किया जा सकता सरकार को इस रोकने के लिए फौरन कार्यवाही करनी चाहिए इतना ही नहीं जिस तरह दिल्ली पुलिस ने किरदार पेश किया है उससे चिंता और बढ़ जाती है इसकी भी जांच होनी चहिए।
हज़रत ने लोगों से अफवाहों से बचने का आह्वाहन किया उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति अपने स्तर से लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करे ,हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई में न बंटे बल्कि इस चुनौती का सामना एक भारतीय बनकर कर अगर हम सब सिर्फ देश के बारे में सोचें तो शांति स्थापित हो जाएगी ,सिर्फ खुद को देशभक्त बताना ही देशभक्ति नहीं है बल्कि इसके लिए आपको योगदान देना होता है,वक़्त आने पर कुर्बानी देनी होती है यह समय एकजुट होकर नफरत को हराने का समय है।
धर्म हिंसा से रोकता है जबकि अधर्म हिंसा की प्रेरणा देता है तो भला कोई रामभक्त हिंसा कैसे कर सकता है और कोई अल्लाह से डरने वाला आग कैसे लगा सकता है इसपर विचार ज़रूरी है कि फिर यह राम का नारा लगाने वाले या आग लगाने वाले कौन लोग हैं जो धर्म का चोला ओढ़कर देश जलाने निकले हैं।
यह देश सांझी संस्कृति का देश है जहां ब्रह्मा की नगरी कहे जाने वाले पुष्कर में खिलने वाला गुलाब गरीब नवाज़ की बारगाह में चढ़ता है अभी अजमेर शरीफ में उर्स में सभी मजहबों के लोग एक साथ अपनी अकीदत के फूल पेश करने जमा होंगे यह मुल्क की खूबसूरती है।आइए हम सब मिलकर इस देश की सुंदरता की हिफ़ाज़त करें ,दिल्ली के लोग किसी के बहकावे में न आएं ।