سائنس نے بھی کیا معراج النبی ﷺ کا اعتراف

نئی دہلی، 4مارچ، پریس ریلیز
درگاہ بھورے شاہ رحمۃ اللہ علیہ، نزد نظام الدین ریلوے اسٹیشن ،نئی دہلی میں کل رات جشن معراج النبی ﷺ اور خواجہ غریب کانفرنس کا انعقاد ہوا جس میں آل انڈیا علماء و مشائخ بورڈ کے صدرا ورلڈ صوفی فورم کے چیئر مین حضرت سید محمد اشرف کچھوچھوی نے بطور مہمان خصوصی شرکت کی۔ حضرت نے کہا کہ واقعہ معراج کی حقیقت کو دور جدید کی سائنسی ایجادات نے ثابت کر دیا ہے۔ انسان سات سمندرپار کسی دیہات میں بیٹھا ویڈیو لنک سے تصویر اور آواز کے ساتھ بات کر سکتا ہے، ایک ہی وقت میں ہندوستان میں بھی ہے اور امریکہ میں بھی موجود ہے، بذریعہ کمپیوٹر براہ راست مشاہدہ ہورہاہے، معجزات ، مشاہدات و کشف وکرامات جیسے روحانی معاملات کے منکرین کی عقلی دلیلوں کو سائنس نے مسترد کر دیا ہے۔حضرت نے معترضین کا سوال کہ اتنی طویل و عظیم مسافت ایک رات میں کیسے طے ہو سکتی ہے تو ان کو برقی رو کی تیز رفتاری سے مثال دیتے ہوئے کہا کہ جب بجلی کا ایک بلب ایک لاکھ چھیاسی ہزار میل کے فاصلے پر سوئچ دبانے سے ایک سیکنڈ میں جل جاسکتا ہے تو رسول اللہ ﷺ معراج کیوں نہیں کر سکتے۔ آپ نے کہا کہ ذہن کو صاف کرنے اور غور کرنے کی ضرورت ہے۔
حضرت نے خواجہ غریب نواز کی تعلیمات پربھی روشنی ڈالی، آپ نے کہا کہ ہمیں اس نفرت کے دور میں خواجہ معین الدین چشتی رحمۃ اللہ علیہ کی پیروی کرنی ہوگی ،تبھی ہم کامیاب ہوسکتے ہیں۔ حضرت نے مسجد اور درگاہ بھورے شاہ کمیٹی کے نوجوانوں کو دعاؤں سے نوازتے ہوئے کہا کہ جب تک نوجوانوں کے دلوں میں محبت رسول و محبت اولیا ہے تب تک ہماری قوم کو کوئی گمراہ نہیں کرسکتا۔
پروگرام کی صدارت حضرت سید شاہ بختیار حسن صاحب صابری فریدی چشتی، سجادہ نشین خانقاہ چشتیہ فریدیہ صابریہ قادریہ عالیہ دھموارہ شریف نے کی۔پروگرام کا اختتام صلوٰ ۃ وسلام اور ملک میں امن وامان کی دعا کے ساتھ ہوا۔

रमज़ान में पूरे जोश के साथ वोट करें मुसलमान : सय्यद मोहम्मद अशरफ

March: 30, महाराजगंज,

वर्ल्ड सूफ़ी फोरम एवं ऑल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत मौलाना सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने नौतनवां में अपने प्रेसवार्ता के दौरान रमज़ान में मुसलमानों के वोट डालने को लेकर छिड़ी बहस पर कहा कि रमज़ान में मुसलमान वोट नहीं कर पाएंगे यह एक प्रोपेगन्डा है, ताकि मुसलमानों में इसके निगेटिव सोच पैदा हो और वो वोट न कर सकें।

उन्होने कहा कि इस मसले को तूल न दिया जाए रमज़ान जैसे पाक पवित्र महीना में जहाँ मुसलमान अपने दिलो दिमाग को फ्रेश रखता है। और रोज़ा रहते हुवे अपने सारे कामो को भी करता है तो वो वोट क्यों नहीं कर सकता? रमज़ान को लेकर एक भरम की स्थिति मुसलमनों में पैदा की जा रही है जो ग़लत है। मुसलमान रोज़ा रख कर अपने दिलो दिमाग को फ्रेश कर के अपने हक़ का इस्तेमाल बढ़ चढ़ कर करेगा। मुल्क को तरक़्क़ी अमन व शांति और विकास देने वाली सरकार को चुनेगा।

उन्होने आखिर में कहा कि उलमा हज़रात अपने अपने इलाके में अवाम से वोट की अहमियत बतायें, साथ ही परशासन के लोगों को चाहिये कि वोट डालने वाले दिन वैसा इंतेज़ाम करें, ताकि रोजे़दारों को ज्यादा देर तक लाइन में न खड़ा होना पड़े।

AIUMB condemns attacks in New Zealand Mosque

New Delhi, Mar 15

AIUMB President & Founder Hazrat Syed Mohammad Ashraf Kichchawchchvi reacted to hate-filled terror attack targeting two mosques in the New Zealand city of Christchurch where at least 49 people were killed and 20 seriously injured.

Hazrat said that the attack on the innocent people in Mosque is extremely disturbing and painful. We strongly condemn this act of violence. Such attacks are a grim reminder to the entire world that radicalization and spread of terror in the name of religion needs to be tackled.

AIUMB President said that in such situation we need to spread the message of Khwaja Gharib Nawaz R.A as “Love for all, Malice for none”. And this is the only way to fight of terrorism, he added.

अजमेर से दिया गया संदेश, लोकतंत्र को मज़बूत करना हमारी ज़िम्मेदारी ।

प्रेस रिलीज़:13 मार्च, बुधवार, अजमेर

चिश्ती मंज़िल दरगाह अजमेर शरीफ में आल इंडिया उलमाव मशाइख़ बोर्ड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सालाना मीटिंग संपन्न हुई जिसमें बोर्ड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों सहित सभी प्रदेशों के अध्यक्षों ने हिस्सा लिया.

सभा की अध्यक्षता बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने की. उन्होंने इस मौके पर कहा कि आज अजमेर की धरती से ख्वाजा गरीब नवाज़ के उर्स के मौके पर हम देश को यह संदेश देना चाहते हैं कि नफरतों की हर दीवार गिरा कर हम सब मोहब्बत से गले मिलें, उन्होंने कहा कि मुल्क में आम चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है, कहीं कहीं चुनाव रमज़ान के मुबारक महीने में होना है जिसको लेकर बेमतलब की बहस की जा रही है।

रमज़ान में मुसलमान रोज़े की हालत में मज़दूरी करते हैं, ठेले लगाते हैं, दुकानदारी करते हैं अपनी जॉब पर जाते हैं, पढ़ने वाले बच्चे नवजवान अपनी पढ़ाई करते हैं तो वोट डालने में क्या परेशानी हो सकती है।

हज़रत ने कहा कि हमारे रसूल ने लोकतांत्रिक व्यवस्था दुनिया को दी है और उसे पसंद फरमाया है तो लोकतंत्र को मजबूत करना हमारी जिम्मेदारी है, जब हमें अपनी राय अपना प्रतिनिधि चुनने के लिए देनी है उस वक़्त हम रोज़े की हालत में अपने रब की इबादत भी कर रहे हों तो इससे बेहतर क्या हो सकता है।

रुदौली शरीफ दरगाह शेखुल आलम के सज्जादानशीन व बोर्ड के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हज़रत अम्मार अहमद अहमदी उर्फ नय्यर मियां ने कहा कि बोर्ड को हर इलाक़े में लोगों तक यह संदेश पहुंचाना है जिसके लिए एक कार्यक्रम तय किया जाना है ताकि लोग अपने लिए अपना प्रतिनिधि चुनने में अपनी राय ज़रूर दे , देश के हर नागरिक को वोट देना ज़रूरी है,उन्होंने लोगों को उर्स की मुबारकबाद दी। बीजापुर कर्नाटक से तशरीफ लाये सय्यद तनवीर हाशमी ने कहा कि मुल्क के निज़ाम को चलाने के लिए सही सरकार का चुनाव अहम काम है जिसे करने का मौका अगर रमज़ान में मिल रहा है तो यह खुशी की बात है मुसलमान फजर की नमाज़ और क़ुरआन की तिलावत के बाद अपनी सच्ची राय मुल्क की बेहतरी के लिए देने पोलिंग बूथ पर पहुँचें।

बोर्ड कार्यकारणी सदस्य सैय्यदी मियां ने कहा कि हमें अपनी ज़िम्मेदारी से भागना नहीं है लोगों में जागरूकता लाने के लिए अभियान चलाया जायेगा, हर खानक़ाह से यह काम किया जाये।

बोर्ड के राष्ट्रीय संयुक्त सचिव व दरगाह अजमेर शरीफ के गद्दीनशीन सय्यद सलमान चिश्ती ने पूरी दुनिया को गरीब नवाज़ के 807 वें उर्स की मुबारकबाद दी, उन्होंने कहा कि देश की बेहतरी के लिए सही चुनाव ज़रूरी है ताकि देश विकास कर सके, हम सबकी ज़िम्मेदारी है कि हम वोट करें ।

तेलंगाना से तशरीफ लाए सय्यद आले रसूल पाशा ने कहा कि मुल्क में जिस तरह से नफरत फैलाने की कोशिश हो रही है हमें उसे नाकाम करना है और उसके लिए अपनी ज़िम्मेदारी निभानी होगी।

सभा में राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष क़ारी अबुल फतेह, छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष मौलाना मोहम्मद अली फारूक़ी, एमपी से मौलाना मेराज अशरफ, यूपी प्रदेश महासचिव सय्यद हम्माद अशरफ, पंजाब से रमज़ान अशरफी, कश्मीर से मौलाना क़ुतबुद्दीन ने शिरकत की, सभा के समापन पर पूरी दुनिया को उर्स की मुबारबाद देते हुए संसार से नफरतों के समापन एवं शांति स्थापना की दुआ की गई।

By: Younus Mohani

دہلی عرس کمیٹی کی طرف سے سید محمد اشرف کو مومینٹو پیش کیا گیا

10مارچ؍ نئی دہلی (پریس ریلیز)
دہلی کے براری میں عرس خواجہ غریب نواز میں حاضری دینے ملک بھر سے جانے والے زائرین کے لئے دہلی سرکار کی طرف سے عرس ٹرانزٹ کیمپ لگایا یا گیا ہے جو 1مارچ سے 20مارچ تک زائرین کی خدمت کے فرائض انجام دے گا۔ کل رات آل انڈیا علما ء ومشائخ بورڈ کے ذمہ دار مولانا مختار اشرف صاحب،اسکالر جامعہ ملیہ اسلامیہ نے عرس کیمپ میں چل رہی محفل میں خصوصی خطاب کیا۔آل انڈیا علماء ومشائخ بورڈ کی جانب سے دہلی سرکار اور دہلی عرس کمیٹی کے چیئر مین جناب ذاکر حسین خاں صاحب کو مبارکباد پیش کی کہ جس طرح کے انتظامات کئے گئے ہیں وہ واقعی قابل تعریف ہیں۔ آپ نے زائرین کو تعلیمات خواجہ غریب نوازسے روشناس کرایااور کہا کہ آپ کا قول ’’محبت سب سے نفرت کسی سے نہیں ‘‘جیسی تعلیمات کی وجہ سے ہی آج 807برسوں کے بعد بھی لوگوں کے دلوں میں خواجہ معین الدین چشتی رحمۃ اللہ علیہ کی محبتیں زندہ ہیں اورآل انڈیا علماء ومشائخ بورڈ خواجہ غریب نواز کے اسی پیغام محبت کو عام کررہا ہے ۔
دہلی عرس کمیٹی کے چیئر مین جناب ذاکر حسین خاں صاحب نے آل انڈیا علماء ومشائخ بورڈ کے ذمہ دار مولانا مختار اشرف صاحب کو بورڈ کے بانی وقومی صدر حضرت سید محمد اشرف کچھوچھوی کے نام ملک میں ان کی خدمات کے اعتراف میں مومینٹو پیش کیا ۔ بورڈ کے کارکنان حسین شیرانی اور حافظ قمرالدین نے کیمپ کا جائزہ لیتے ہوئے زائرین سے ان کی شکایات معلوم کیں تو زائرین ہر طرح سے مطمئن اور خوش نظر آئے،زائرین نے کہا کہ ہمیں کسی بھی طرح کی کوئی پریشانی نہیں ۔حسین شیرانی نے کہا کہ مستقبل میں بھی دہلی سرکار اور دہلی عرس کمیٹی سے اسی طرح کے اطمینان بخش انتظامات کی امید کرتے ہیں۔

آل انڈیا علماء ومشائخ بورڈ کا پلوامہ خودکش حملہ کے خلاف احتجاجی مظاہرہ جاری

28 February, Moradabad

جموں کشمیر کے پلوامہ میں سینٹرل ریزرو پولیس فورس کے قافلے پر دہشت گردانہ حملے کے خلاف احتجاجی مظاہرہ میں خطاب کرتے ہوئے آل انڈیا علماء مشائخ بورڈ مرادآباد یونٹ کے صدرقاری عامر رضا اشرفی صاحب نے کہا کہ اس بزدلانہ و وحشیانہ حرکت کی جتنی بھی مذمت کی جائے کم ہے۔ہم ہندوستانی مسلمان اس دہشت گردانہ حملہ کے خلاف شدید بیزاری اورنفرت کااظہار کرتے ہیں اورشہید جوانوں کے اہل خانہ کے غم میں برابر کے شریک ہیں اورزخمی جوانوں کی صحت یابی کے لئے دعا کرتے ہیں ۔
بورڈ کے ذمہ دار مولانا مختار اشرف صاحب نے کہاکہ ۱۴؍فروری کو پلوامہ میں جو حملہ ہوا اس قدر خوفناک اور انسانیت سوز تھاکہ اس کی مثال نہیں ملتی ۔اس سانحہ کے بعد پورے ملک میں غم وغصہ کی لہر ہے، انہوں نے حکومت سے دہشت گردی کونیست ونابود کرنے کے لئے ٹھوس کاروائی کئے جانے کا مطالبہ کیا۔
مولانا راحل اشرفی صاحب نے اس دہشت گردانہ حملے کی مذمت کرتے ہوئے قصورواروں کے خلاف سخت کارروائی کا مطالبہ کیا ۔حافظ فاروق صاحب کہا کہ مذہب اسلام ہر قسم کے تشدد اور ظلم و ستم کے ہمیشہ خلاف رہا ہے اورحکومت ہندسے مطالبہ ہے کہ اس مسئلہ کا کوئی مستقل حل تلاش کیا جائے۔
حافظ نظر الحسن اشرفی صاحب نے کہا کہ ملک دشمن عناصر کی جانب سے جو دہشت گردانہ حملہ کیا گیاوہ بزدلانہ حرکت ہے ملک کا ہر شہری اس طرح کے دہشت گردوں کے حملے کی مذمت کرتا ہے اور بزدلانہ اور جاہلانہ قرار دیتا ہے۔
قاری محمد عارف صاحب نے کہا کہ دہشت گردی کو جن جن ممالک کا تحفظ حاصل ہے ان سے بین الاقوامی برادری کو چاہیے کہ ناطہ توڑ لے اور کہا کہ کشمیر میں شہید ہوئے جوانوں کے ساتھ پورا ملک کھڑا ہے۔
جلوس کے آخر میں سی آر پی ایف کے جوانوں کی شہادت پر افسوس کا اظہار کرتے ہوئے ان کو خراج عقیدت پیش کی گئی ۔
الجامعۃ الصابرہ للبنات میں بھی مظاہرہ کیا گیا جس میں کثیر تعداد میں طالبات نے حصہ لیااور حادثہ میں جاں بحق ہونے والے تمام فوجی جوانوں کے اہل خانہ سے ہمدردی کا اظہار کرتے ہوئے زخمیوں کے لئے صحت یابی کی دعا کی گئی۔

आतंक के खिलाफ हम सब एक साथ : सय्यद मोहम्मद अशरफ

26 फरवरी, लखनऊ

आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने भारतीय एयरफोर्स के ज़रिए पी ओ के में आतंकियों पर हमले की कार्यवाही पर कहा है कि हम आतंक के विरोध में एक साथ है। हज़रत ने कहा कि आतंक दुनिया के लिए बड़ा खतरा है इसके खात्मे की ज़रूरत है वरना मानवता पर मंडराते संकट को टाला नहीं जा सकता।उन्होंने कहा कि इस्लाम हर किस्म के ज़ुल्म के खिलाफ है और इसकी तालीम है कि जिसने किसी बेगुनाह को क़त्ल किया उसने पूरी इंसानियत का क़त्ल किया ।आतंक का न किसी मज़हब से ताल्लुक़ है और न ही आतंकी इंसान हैं, किसी मज़ब के क्या होंगे जो इंसान ही नहीं है और इनकी समाज में कोई जगह नहीं है।
हज़रत ने भारतीय एयरफोर्स के साहस और पराक्रम की प्रशंसा की और उनकी कामयाबी के लिए मुबारकबाद दी।

By: यूनुस मोहानी

देश भर में उलमा व मशाईख़ बोर्ड का रोष विरोध प्रदर्शन, मदरसों और दरगाहों से दी गई शहीदों को श्रद्धांजली

महाराज गंज, यूपी

आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड द्वारा देश भर में पुलवामा में हुए आतंकी हमले के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन जारी है। कल बोर्ड के युवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सय्यद आलमगीर अशरफ ने इंदौर की एक जामे मस्जिद से ख़िताब करते हुए इस आतंकी हमले की कड़ी निंदा की थी और आज राजकोट में एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन करने जा रहे हैं जिस में दोषियों के ख़िलाफ़ जल्द और कड़ी सज़ा की मांग की जाएगी। सय्यद अशरफ के मुताबिक़ बोर्ड देश के कोने कोने से इस आवाज़ को उठाएगा और जब तक सज़ा नहीं मिल जाती विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

इसी कड़ी में यूपी के महाराज गंज ज़िले के नौतनवा में सय्यद अफ़ज़ाल अहमद और मौलाना क़मर आलम की अगुवाई में हमले के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन हुआ जिस में नौतनवा के लगभग सभी मदरसों के विद्यार्थियों, अध्यापकों, मस्जिदों के इमामों ने भाग लिया और एक साथ बोर्ड की आवाज़ को मज़बूत किया कि सब्र का पैमाना भर चुका है। अब ज़ालिम और क़ातिल को बख्शा ना जाये।

मदरसा अशरफिया दारुल उलूम और मदरसा गौसिया बरकतुल उलूम के प्रबंधकों और अध्यापकों ने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेते हुए कहा कि मुल्क पर उठने वाली किसी भी नज़र को हम किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं कर सकते।

विरोध प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे मौलाना कमर आलम ने कहा कि यह मुल्क हमारा है और इस मुल्क का हर बाशिंदा हमारा भाई है। मुल्क की सरहदों पर सिपाही हमारी रक्षा में खड़े हैं। आज उन पर हुआ यह जघन्य हमला हम पर और हमारी आन बान और शान पर हमला है जो हमें किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं। अगर सरकार इन के ख़िलाफ़ कुछ नहीं कर सकती तो हम सर पर कफ़न बाँध कर मुल्क की हिफाज़त के लिए तैयार हैं।

मास्टर शमीम अशरफी ने कहा कि हमारे सिपाही हमारा अभिमान और स्वाभिमान हैं। हम उन के परिवार के साथ हैं। उन्हीं इन्साफ दिला कर रहेंगे और और हमला में लिप्त एक एक अपराधी को जब तक सज़ा नहीं मिल जाती चुप नहीं बैठेंगे।

इन के अलावा प्रदर्शन में हाफिज़ कलीम उल्लाह, मौलाना ज़ुल्फ़िकार, मौलाना रफ़ीक, कारी जुनैद अशरफी, मौलाना उमर, मुहम्मद इदरीस खान अशरफी, अतीक़ अंसारी, शम्स तबरेज़, मुहम्मद नियाज़ कुरैशी, आज़ाद अशरफ कुरैशी, महबूब आलम, इरशाद खान और सद्दाम हुसैन समेत मदरसों छात्र, प्रबंधक, अध्यापक और मस्जिदों के इमाम शामिल हुए।

 

Source: Nayasavera.net

देश भर में उलमा व मशाईख़ बोर्ड का रोष विरोध प्रदर्शन, मदरसों और दरगाहों से दी गई शहीदों को श्रद्धांजली

आतंकवाद एक नासूर ,इसका खात्मा ज़रूरी : सय्यद मोहम्मद अशरफ

14 फरवरी, आगरा

आल इण्डिया उल्मा व मशाईख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने पुलवामा में हुए आतंकी हमले की कड़ी निन्दा करते हुए कहा है कि इस दुख की घड़ी में पूरा देश शोकाकुल परिवारों के साथ खड़ा है।
हज़रत ने कहा कि आतंक एक नासूर है ,इसका खात्मा ज़रूरी है सरकार बताए आखिर कब तक हम अपने सैनिकों को यूंही खोते रहेंगे और आंसू बहाते रहेंगे,।उन्होंने कहा कि हम लगातार अपने जवानों की लाशें उठा रहे हैं आखिर यह सिलसिला कब तक चलेगा?
पुलवामा में देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले जवानों के परिवारों के साथ पूरा देश खड़ा है ,आतंकी घटना की कड़ी निन्दा से अब काम नहीं चलेगा बल्कि दिन प्रतिदिन बढ़ती इस प्रकार की घटनाओं को रोकना होगा।उन्होंने कहा कि हम उन लोगों का दर्द समझ सकते हैं जिन्होंने अपनों को खोया आपकी तकलीफ में हम बराबर के शरीक हैं।

उलमा मशाइख बोर्ड के आह्वाहन पर मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षकों की लडाई लड़ रहे सभी बड़े संगठन आये एक साथ

6 फ़रवरी ,लखनऊ ,

विगत 36 महीनों से वेतन न मिलने पर समस्याओं से जूझ रहे मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक अलग अलग संगठन बना कर अपनी लडाई को लड़ रहे थे जिससे आपस में एक संवाद हीनता की स्थिति उत्पन्न हो गयी थी और लडाई शिथिल पड़ रही थी .

आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड ने इनकी लड़ाई को अपना समर्थन देते हुए जहाँ 28 जनवरी को सामाजिक न्याय सम्मलेन से इस आवाज़ को ज़ोरदार तरीके से उठाया वहीँ बड़ा क़दम उठाते हुए सभी संगठनों के प्रमुखों से मिलकर उनके विचारों को सुना बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक संयुक्त मोर्चा बनाकर सभी संगठनों से इसमें सदस्य रहने का प्रस्ताव रखा जिसके माध्यम से लड़ाई को एकजुटता के साथ लड़ा जा सके और संवादहीनता की जो स्थिति पनप रही है उसे रोका जा सके .
हज़रत के इस प्रस्ताव को सभी बड़े संगठनों से स्वीकार किया और प्रस्ताव पर हस्ताक्षर कर अपनी मजूरी दी यह इस लड़ाई को लड़ने वाले सभी शिक्षकों की पहली जीत है और जल्द ही उनकी समस्या का समाधान निकलने की ओर पहला क़दम है .
उत्तर प्रदेश में इन शिक्षकों की संख्या लगभग 30 हज़ार है जिनको एक संयुक्त मोर्चा बना कर एकजुट किया गया है .

By: यूनुस मोहानी