AIUMB के शादाब हुसैन रिज़वी अशरफी बने दिल्ली हज कमेटी के सदस्य।

3 जुलाई,नई दिल्ली
दिल्ली हज कमेटी में सामाजिक संगठन से लिए जाने वाले सदस्य के रूप में आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड दिल्ली शाखा के अध्यक्ष सय्यद शादाब हुसैन रिज़वी अशरफी को नामित किया गया है।
सय्यद शादाब लंबे समय से हज यात्रियों की सेवा निस्वार्थ भाव से करते रहे हैं और लगातार हाजियों की हर संभव मदद करते रहे हैं ,उनके इस समर्पण भाव को देखकर उन्हें इस पद के लिए उपयुक्त समझा गया । सय्यद शादाब लगातार AiUMB के जरिए सामाजिक कार्य करते रहे हैं और दिल्ली में 2016 मार्च में संपन्न हुए विश्व शांति के उद्देश्य से आयोजित वर्ल्ड सूफी फोरम में अग्रणी भूमिका में रहे और लगातार समाज में व्याप्त बुराइयों के विरूद्ध अभियान चलाते रहे हैं।
शांति बहाली और मोहब्बत का संदेश जन जन तक पहुंचाने की उनकी शैली लोकप्रिय है ।
सय्यद शादाब को दिल्ली हज कमेटी का सदस्य बनाए जाने पर आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष एवम् वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने मुबारकबाद देते हुए कहा कि हमारी दुआ है कि आजमीने हज की और खिदमत करे और अपनी मेहनत और कोशिश से वहां हाजियों को होने वाली तकलीफों को दूर करने में कामयाब हो ,अपने ओहदे को एजाज़ नहीं ज़िम्मेदारी मानते हुए काम करें।हज़रत ने दिल्ली सरकार को भी शुक्रिया कहा।

By: यूनुस मोहानी

अल्पसंख्यकों में विश्वास के लिए सुरक्षा ज़रूरी : सय्यद मोहम्मद अशरफ

24 जून दिल्ली आल इंडिया उलमा व मशाइख़ बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने सरकार को सीधे चेताते हुए कहा कि यदि सरकार का सूत्र सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास है तो तुरंत माब लिंचिंग जैसी घिनौनी घटनाओं पर प्रभावी रोक लगाई जाए।
उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर एक सभ्य समाज में इसे स्वीकार्य नहीं किया जा सकता विश्वास तभी कायम हो सकता है जब देश में आमजन खुद को सुरक्षित महसूस करे खास तौर से अल्पसंख्यक समुदाय अपने आप को सुरक्षित महसूस करें ,लेकिन आय दिन होने वाली ऐसी हिंसक घटनाएं विश्वास तोड़ने वाली हैं ।सरकार को चाहिए कि इस संबंध में कड़ा संदेश देते हुए प्रभावी कार्यवाही करे, ताकि इस प्रकार की घटनाओं पर रोक लगे क्योंकि इस प्रकार की घटनाओं से समाज में नफरत फैलती है ।
हज़रत ने कड़े शब्दों में ऐसी घटनाओं की निन्दा करते हुए कहा कि यह भारत की संस्कृति नहीं है ,इंसानियत से गिरी हुई वारदातों को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता ,यहां एक बात और है जिस तरह ऐसी हिंसा करने वाले गुनहगार हैं उतने ही गुनहगार तमाशा देखने वाले भी हैं ,क्योंकि ज़ुल्म पर खामोश रहना भी ज़ुल्म है।सभी लोगों को इसका विरोध करना चाहिए और इस प्रकार के हिंसक तत्वों का सामाजिक बहिष्कार करना चाहिए।
नफरत का कोई धर्म नहीं होता आज यह एक के खिलाफ है कल आपके खिलाफ होगी क्योंकि धर्म कोई भी हो जान लेने की शिक्षा नहीं देता बल्कि जीवन बचाने का पाठ पढ़ाता है ।हज़रत किछौछवी ने सरकार से मांग की फौरन ऐसी घिनौनी और हिंसक घटनाओं पर रोक लगे और दोषियों को सज़ा मिले।
उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की कि सरकार इस विषय में अपनी इच्छाशक्ति दिखाए ताकि अल्पसंख्यकों का विश्वास कायम हो सके।

AIUMB & World Sufi Forum extend help in Centre’s bid to mainstream the Madrasas and uplift minorities

New Delhi: June 13, 2019

 The World Sufi Forum’s chairman, Syed Mohammad Ashraf Kichhowchhawi, President & Founder of All India Ulama & Mashaikh Board (AIUMB), an apex body of Sufi Muslims in India applauded and spiritedly welcomed the Centre’s decision to mainstream and modernise the Madrasas across the country.

The Modi government’s focus on the development of the Madrasa education is part of the actual inclusive policies aimed at the betterment of the Muslim minority community rather than the appeasement politics, he said.

Syed Mohammad Ashraf Kichhowchhawi said: “For this historic initiative, I personally thank Prime Minister Narendra Modi and Union Minister for Minority Affairs Mukhtar Abbas Naqvi and pray for the ultimate success in the implementation of this desirable proposal. This goes in full spirit of ‘Sabka Saath Sabka Vikas’ if the plan is put into action.”

He further said that if Madrasas are connected with formal education and mainstream education, lakhs of students enrolled over there can contribute more vigorously to the development of the nation. Syed Kichhowchhawi showed full cooperation to uphold the cause of “Hold Quran in one hand and computer in other” in the nook and corner of the country.

This welcome move reflects an ongoing internal overhaul in the outlook of the BJP leadership towards the Muslims. While the Modi government is gearing up for a major reformation in the madrasa education system, AIUMB seeks to extend all possible support in introducing the new vocational courses, tech-based education programmes and professional skill development will in the Madrasa educational curricula.

As an apex organisation of Indian Sufi Muslims, All Indian Ulama and Mashaikh Board (AIUMB), reaffirms its commitment to work with the Narendra Modi government for mainstreaming the Madrasas, countering extremism and radicalism, setting up education centres to curb the foreign radical ideologies.

“The AIUMB will help prepare the syllabus for such education centres in Muslim areas where counter-extremism Islamic courses based on pluralistic Indian ethos are taught”, said the founder and president of AIUMB and chairman of World Sufi Forum. “Sufism is a way of life and is above religion. It stands for peace. Wherever Sufi ideology got weakened, terrorism grew. The example is Kashmir,” he added.

Kichhowchhawi, however, warned of intermediaries between the Muslims and the Modi government and said that they want the Prime Minister to establish direct contact with the mainstream minorities of India, including the Muslims. He also reminded of PM Modi’s remarks in his Mann ki Baat in which he spoke about his interaction with the Sufi leaders: “I had the opportunity of meeting Sufi saints and scholars… Perhaps, it has become the foremost need for the world to know the true picture of Islam… I am confident that Sufi culture, which is associated with love and generosity will spread this message far and wide. It will benefit Islam as well as humankind”.

In the World Sufi Forum held in March 2016, the AIUMB had submitted a 15-point memorandum to Modi government, demanding among other things, setting up of a Sufi research centre in Delhi and creation of a “Sufi circuit” to promote syncretic Sufi culture, tourism to Indian Sufi shrines.

AIUMB welcomes PM Modi’s assurance to minorities as message of inclusion in India

Hazrat Sayyed Mohammed Ashraf Kichhouchi, the founder president of All India Ulama and Mashaikh Board (AIUMB), and Chairman of World Sufi Forum, hailed the agenda of the new government on minorities which came in the speech of Prime Minister Narendra Modi at the parliamentary party meeting of the National Democratic Alliance (NDA).

Now it is a matter of great concern to repose the faith in the slogans of the new government such as #SabkaVishwas or  “winning everyone’s faith”. He welcomed PM Modi’s assurance to minorities in India stating:

‘After Sabka Saath, Sabka Vikas, win Sabka Vishwas’ is PM Modi’s message of inclusion which is welcomed by the Sufi community since the beginning.

The All India Ulama and Mashaikh Board, in their congratulatory message sent to the Prime Minister, had said that the continuous development of the country without winning the faith of every minority community is not possible. By highlighting this  crucial issue in his speech, the new government has adopted it as the original mantra given by PM Modi.

AIUMB President also told the media that the minorities of the country will get a share in the development of India without discrimination, as it clearly seems from the PM’s pledge.

He further said: “We appreciate this statement and pray that in the new story of the country’s development, the contribution of Indian Muslims would be remarkable, if the government makes an honest effort in this direction. This would be the biggest achievement against poverty and hatred”.

Communal harmony and love is is the mantra of development, he said.

Source: http://www.wordforpeace.com/he-welcomed-aiumb-welcomes-pm-modis-assurance-to-minorities-in-india/

AIUMB condemns shooting at synagogue in Poway, California

New Delhi, 29 April 2019

All India Ulama & Mashaikh Board releases the following statement condemning the Saturday shooting at the Congregation Chabad in Poway, California:

“There is no worse form of terrorist extremism than an attack on a place of worship — whether it be arson at churches in Louisiana, mass shootings at mosques in Christchurch, New Zealand, the attacks on Churches in Sri Lanka or this weekend’s attack on a synagogue in Poway, California. This evil must be confronted by all of us, especially faith leaders who at times have to overcome threats from within their own community to speak up against extremism. We cannot be bystanders in this war against the right of any community to worship in peace. Enough is enough”

AIUMB condemns attacks in New Zealand Mosque

New Delhi, Mar 15

AIUMB President & Founder Hazrat Syed Mohammad Ashraf Kichchawchchvi reacted to hate-filled terror attack targeting two mosques in the New Zealand city of Christchurch where at least 49 people were killed and 20 seriously injured.

Hazrat said that the attack on the innocent people in Mosque is extremely disturbing and painful. We strongly condemn this act of violence. Such attacks are a grim reminder to the entire world that radicalization and spread of terror in the name of religion needs to be tackled.

AIUMB President said that in such situation we need to spread the message of Khwaja Gharib Nawaz R.A as “Love for all, Malice for none”. And this is the only way to fight of terrorism, he added.

देश भर में उलमा व मशाईख़ बोर्ड का रोष विरोध प्रदर्शन, मदरसों और दरगाहों से दी गई शहीदों को श्रद्धांजली

महाराज गंज, यूपी

आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड द्वारा देश भर में पुलवामा में हुए आतंकी हमले के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन जारी है। कल बोर्ड के युवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सय्यद आलमगीर अशरफ ने इंदौर की एक जामे मस्जिद से ख़िताब करते हुए इस आतंकी हमले की कड़ी निंदा की थी और आज राजकोट में एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन करने जा रहे हैं जिस में दोषियों के ख़िलाफ़ जल्द और कड़ी सज़ा की मांग की जाएगी। सय्यद अशरफ के मुताबिक़ बोर्ड देश के कोने कोने से इस आवाज़ को उठाएगा और जब तक सज़ा नहीं मिल जाती विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

इसी कड़ी में यूपी के महाराज गंज ज़िले के नौतनवा में सय्यद अफ़ज़ाल अहमद और मौलाना क़मर आलम की अगुवाई में हमले के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन हुआ जिस में नौतनवा के लगभग सभी मदरसों के विद्यार्थियों, अध्यापकों, मस्जिदों के इमामों ने भाग लिया और एक साथ बोर्ड की आवाज़ को मज़बूत किया कि सब्र का पैमाना भर चुका है। अब ज़ालिम और क़ातिल को बख्शा ना जाये।

मदरसा अशरफिया दारुल उलूम और मदरसा गौसिया बरकतुल उलूम के प्रबंधकों और अध्यापकों ने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेते हुए कहा कि मुल्क पर उठने वाली किसी भी नज़र को हम किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं कर सकते।

विरोध प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे मौलाना कमर आलम ने कहा कि यह मुल्क हमारा है और इस मुल्क का हर बाशिंदा हमारा भाई है। मुल्क की सरहदों पर सिपाही हमारी रक्षा में खड़े हैं। आज उन पर हुआ यह जघन्य हमला हम पर और हमारी आन बान और शान पर हमला है जो हमें किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं। अगर सरकार इन के ख़िलाफ़ कुछ नहीं कर सकती तो हम सर पर कफ़न बाँध कर मुल्क की हिफाज़त के लिए तैयार हैं।

मास्टर शमीम अशरफी ने कहा कि हमारे सिपाही हमारा अभिमान और स्वाभिमान हैं। हम उन के परिवार के साथ हैं। उन्हीं इन्साफ दिला कर रहेंगे और और हमला में लिप्त एक एक अपराधी को जब तक सज़ा नहीं मिल जाती चुप नहीं बैठेंगे।

इन के अलावा प्रदर्शन में हाफिज़ कलीम उल्लाह, मौलाना ज़ुल्फ़िकार, मौलाना रफ़ीक, कारी जुनैद अशरफी, मौलाना उमर, मुहम्मद इदरीस खान अशरफी, अतीक़ अंसारी, शम्स तबरेज़, मुहम्मद नियाज़ कुरैशी, आज़ाद अशरफ कुरैशी, महबूब आलम, इरशाद खान और सद्दाम हुसैन समेत मदरसों छात्र, प्रबंधक, अध्यापक और मस्जिदों के इमाम शामिल हुए।

 

Source: Nayasavera.net

देश भर में उलमा व मशाईख़ बोर्ड का रोष विरोध प्रदर्शन, मदरसों और दरगाहों से दी गई शहीदों को श्रद्धांजली

उलमा मशाइख बोर्ड के आह्वाहन पर मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षकों की लडाई लड़ रहे सभी बड़े संगठन आये एक साथ

6 फ़रवरी ,लखनऊ ,

विगत 36 महीनों से वेतन न मिलने पर समस्याओं से जूझ रहे मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक अलग अलग संगठन बना कर अपनी लडाई को लड़ रहे थे जिससे आपस में एक संवाद हीनता की स्थिति उत्पन्न हो गयी थी और लडाई शिथिल पड़ रही थी .

आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड ने इनकी लड़ाई को अपना समर्थन देते हुए जहाँ 28 जनवरी को सामाजिक न्याय सम्मलेन से इस आवाज़ को ज़ोरदार तरीके से उठाया वहीँ बड़ा क़दम उठाते हुए सभी संगठनों के प्रमुखों से मिलकर उनके विचारों को सुना बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक संयुक्त मोर्चा बनाकर सभी संगठनों से इसमें सदस्य रहने का प्रस्ताव रखा जिसके माध्यम से लड़ाई को एकजुटता के साथ लड़ा जा सके और संवादहीनता की जो स्थिति पनप रही है उसे रोका जा सके .
हज़रत के इस प्रस्ताव को सभी बड़े संगठनों से स्वीकार किया और प्रस्ताव पर हस्ताक्षर कर अपनी मजूरी दी यह इस लड़ाई को लड़ने वाले सभी शिक्षकों की पहली जीत है और जल्द ही उनकी समस्या का समाधान निकलने की ओर पहला क़दम है .
उत्तर प्रदेश में इन शिक्षकों की संख्या लगभग 30 हज़ार है जिनको एक संयुक्त मोर्चा बना कर एकजुट किया गया है .

By: यूनुस मोहानी

सत्ता में भागीदारी है समाज की समस्याओं का हल : सय्यद आलमगीर अशरफ

4 फरवरी/जालौन ,आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड युवा शाखा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना सय्यद आलमगीर अशरफ ने कल जालौन में एक सभा को संभोधित करते हुए कहा कि “सत्ता में भागीदारी है समाज की समस्याओं का हल” उन्होंने कहा,  28 जनवरी को आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने देश की तमाम बड़ी खानक़ाहों के सज्जादानशीन व प्रतिनिधियों और बोर्ड के तमाम राज्यों के अध्यक्षों और पदाधिकारियों की मौजूदगी में भागीदारी की मांग के बाद पूरे देश में यह बात चल चुकी है और लोग अपना मन बना रहे हैं कि  भागीदारी के बिना  हम किसी के साथ नहीं जा सकते।
मौलाना ने कहा कि अब झूठे वादे और खोखले दावों पर हमें भरोसा नहीं है,  हमें जो हमारी तादाद के हिसाब से भागीदारी देगा हम उसके साथ होंगे, उन्होंने साफ कहा कि बोर्ड ने साफ तौर से ऐलान कर दिया है कि हम अपने लोगों की लड़ाई हर जगह लड़ेंगे और सियासी रहनुमाई भी करेंगे क्योंकि समाज को तब तक कुछ हासिल नहीं हो सकता जब तक सत्ता में आप भागीदार न हो जाएं ।
सभा को संबोधित करते हुए मौलाना कैसर रज़ा मदारी ने कहा कि हम शेखुल हिन्द हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ मियां की आवाज़ में अपनी आवाज़ मिलाते हुए हर बच्चे बच्चे तक यह पैग़ाम पहुंचा दें कि अब सिर्फ बात भागीदारी की होगी क्योंकि सिर्फ मदारिस और दारुल उलूम से कौम के मसले हल नहीं किए जा सकते, इसके लिए हमें सियासत में हिस्सेदार बनना होगा, सिर्फ वोटर और सपोर्टर बन कर नहीं बल्कि सत्ता में भागीदार बन कर हम सामाजिक न्याय की लड़ाई जीत सकते हैं।
सभा में हजारों लोगों ने शिरकत की और बोर्ड के ऐलान का समर्थन किया, कार्यक्रम  का समापन  सलात व  सलाम के बाद मुल्क में शांति की दुआ के साथ हुआ।
By : यूनुस मोहानी

India cannot progress without Minorities: AIUMB President

Country cannot progress if proper and equitable representation is not given to Minorities and backward communities in jobs and government, said Syed Ashraf Kichchawchchvi  President of All India Ulama & Mashaikh Board in a largely attended programme in Lucknow.  Displaying a rare opportunity of Muslim Intellectual gathering in the Capital city of Lucknow, speakers from all prominent DARGAHS expressed their views and community voice.
Syed Salman Chisty, Gaddinnashin from Ajmer Dargah and founder president of Chishty Foundation laid emphasis on equal distribution of power and participation. “”It’s not possible that one man holds a Marshall and the the other power in this today’s world”” this will lead to confrontation. Ashraf Mia of Kichchawchcha sharif, President of the Board that merely  promises will not solve the problems of the community. Actual participation of jobs, and other fields will will lead to justice then. He said that India being a democratic Country where people’s have the great and important voting power, Minorities have always been cheated .He questions with the government as to why Article 341 has not been resolved as yet. Syed Ale Mustafa Pasha Sajjadanashin from Hyderabad and Syed Naseeruddin Chisty, Syed Farid Nizami of Nizmuddin Dargah, Delhi,  Syed Tarvin Hashmi of Bijapur Dargah and Ammar Ahmed Hashmi of Radauli sharif  and Sajjadanashin Makanpur Dargah, also expressed their concerns at justice not being given to Minorities and backward classes.
Intellectual from all walks of life gathered ,gathered to express their anguish. Shivpal Singh Yadav ,President of Pragathasheel Samajwadi Party (Lohia) supported the conclave and promised equal participation from his party to them.  He also mentioned that he himself was hounded by the government after the Babri masjid demolition to the extent that he went underground for 6 months. Criticizing the Union government on failure on all fronts he said that we should think above religion,  caste, communities and only then country development take place. He strongly condemned the recently statement of Shiv Sena that Muslims should get divested of voting rights. India belongs to both Hindus and Muslims to gather,  Shivpal Singh said.
The vast gathering of Muslims leadership and intellectual, on a single platform;, which was supported by various political outfit also fathers prominence.  In view of 2019 elections all the political parties thus conclave will make them take notice of it .Equal participation as bhagidari is a must and government cannot ignore this major demand of them.
Source: ClickTv.in
https://clicktv.in/india-cannot-progress-without-minorities-aiumb-president/