HomeStatementsHindi News Articles

यह वक़्त मुश्किल है आइए मदद के लिए हाथ बढ़ाये: सय्यद मोहम्मद अशरफ

06 अप्रैल सोमवार, किछौछा, अम्बेडकर नगर आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फ़ोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछ

AIUMB मुरादाबाद शाखा ने ज़रूरतमंदो को राशन और ज़रूरी सामान बांटा
घरों में रहकर कोरोना को और आपसी सहयोग से भूख को हराना है : AIUMB
AIUMB सम्भल शाखा के ज़िम्मेदारों ने बांटा ज़रूरत मंदों को राशन किट

06 अप्रैल सोमवार, किछौछा, अम्बेडकर नगर
आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फ़ोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने अपनी खानकाह खानकाहे अशरफियां शैखे आजम सरकारें कलां में लोगों की मदद के लिए दरवाजे खोल दिए हैं और लगातार यहां से जरूरतमंदों को राशन बांटा जा रहा है इस मौके पर हज़रत ने कहा कि यह वक़्त इंसानियत के लिए बहुत भारी है एक तरफ भूख है एक तरफ महामारी है लिहाज़ा सभी को मदद का हाथ आगे बढ़ाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि हम जहां महामारी को सोशल डिस्टेंसिंग के जरिए रोक सकते हैं हमारे पास कोई चारा नहीं है इसीलिए हुकूमत ने पूरे मुल्क को लॉकडाउंन किया है हमें इसका सख्ती से पालन करना है और कहीं भी किसी भी हालत में भीड़ नहीं लगानी है वहीं दूसरा सबसे बड़ा संकट भूख है क्योंकि सभी काम धंधे बंद हो गए हैं ऐसे में गरीबों पर दो वक़्त की रोटी जुटाने का संकट आ गया है अब हमारी दीनी और समाजी दोनों ज़िम्मेदारी है कि कहीं कोई भूखा न रह जाए।
हज़रत ने कहा कि महामारी के दौरान जो तरीका हमें हमारे रसूल ने बताया दुनिया आज उसे ही मान रही है हमें किसी के बहकावे में नहीं आना है जान बचाना फ़र्ज़ है लिहाज़ा उसके लिए जो ज़रूरी है किया जाना चाहिए और किसी को भी ज़िद्द नहीं पालनी चाहिए,वहीं हमें याद रहना चाहिए कि अगर हमारा पड़ोसी भूखा है और हम खाना खा रहे हैं तो हम मोमिन नहीं हो सकते लिहाज़ा हमें अपने पड़ोसी का ख्याल रखना है और याद रखिए पड़ोसी का कोई मज़हब नहीं बताया गया कोई भी हो सकता है और यह हुक्म आपके चारों तरफ 40 घर तक है अगर हम अपनी ज़िम्मेदारी समझ लें तो कोई भूख से नहीं मर सकता।
हज़रत ने तब्लीग़ी जमात के इज़तमे पर कहा कि उनके पेशवा को सामने आना चाहिए साथ ही अपने लोगों को निर्देशित करना चाहिए कि वह सब सहयोग करें ।वहीं झूठी खबरें फैलाने वालों को चेतावनी भी दी कि देश का नुक़सान मत करिए ।हज़रत ने कहा कि आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड की जानिब से मुल्क में लगभग हर जगह इस तरह से लोगो की मदद की जा रही है मैं खुद भी लोगो तक मदद पहुंचाने की कोशिश कर रहा हूं आप भी अपनी ज़िम्मेदारी निभाए साथ ही उन्होंने शबे बारात के मौके पर लोगों से घर में ही रहकर इबादत करने को कहा और ख़ास दुआ करने की बात कही।

Yunus Mohani

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0