नबी का फरमान: जिससे लोग भलाई की उम्मीद न रख पाएँ वह सबसे बुरा इंसान : सय्यद मोहम्मद अशरफ

12 मार्च /सूरतगढ़ गंगानगर

नबी का फरमान जिससे लोग भलाई की उम्मीद न रख पाएँ वह सबसे बुरा इंसान” यह बात वर्ल्ड सूफी फोरम और आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक व अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक जलसे को ख़िताब करते हुए कही.
उन्होंने कहा कि रसूले खुदा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया कि जिस शख्स से लोगों को भलाई की उम्मीद न हो और उसके शर से महफूज़ न हो वह बदतरीन शख्स है. हज़रत ने कहा कि फरमाने नबी यह भी है कि तुम में सबसे बेहतर वह है जो लोगों के काम आए और उनकी भलाई करे तो अब हमें इस पर अमल करना होगा.
उन्होंने कहा कि यहाँ कहीं मज़हब की बात नहीं की गई बल्कि सबके लिए कहा गया है, अगर हम मोहब्बत का दावा करते हैं तो हमें भला बनना होगा न कि बदतरीन और हमारे भला बन जाने से अमन खुद बखुद कायम हो जाऐगा.
उन्होंने कहा, इसी तालीम को औलिया अल्लाह ने आम किया और इस पर अमल कर के लोगों के दिलों को जीत लिया, यही वजह है कि आज भी लोग उनकी मज़ारों पर अकीदत के फूल लेकर आते हैं और दामने मुराद भर भर कर ले जाते हैं. हजरत ख्वाजा गरीब नवाज़ रहमतुल्लाहि अलैहि का कौल कि अपने दुश्मन से मेहरबानी से पेश आना और उसका ख्याल रखना नफस की जीनत में से एक है, साफ़ इसी हदीस की तरफ इशारा करता है, हमें इस पर अमल करना है तभी हम कामयाब हो सकते हैं.

By: यूनुस मोहानी