दिल्ली में मदरसा छात्र की हत्या बेखौफ गुंडाराज की मिसाल : सय्यद मोहम्मद अशरफ

26 अक्टूबर / नई दिल्ली ,

दिल्ली के मदरसे में पढ़ने वाले 8 साल के छोटे से बच्चे को जिस तरह क़त्ल किया गया वह मुल्क की राजधानी में बेखौफ गुंडाराज की घिनौनी मिसाल है यह बात आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के अध्यक्ष और वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कही।
उन्होंने कहा कि यह मुल्क भर में नफरत के बढ़ते प्रदूषण का असर है हवाओं में ज़हर घोल दिया गया है , मुट्ठी भर लोग पूरे देश को इस आग में झोंक देने की फिराक में है। हज़रत ने कहा कि मालवीय नगर के मदरसे के बच्चे को जिस तरह मार दिया गया वह कानून व्यवस्था के मुंह पर गुंडों का तमाचा है ।
देश में जानलेवा नफरत का वायरस फैल गया है सबको इसे रोकने के लिए काम करना होगा मजहबी पहचान के आधार पर जो जहरीला खेल चल रहा है वह भारत के हित में नहीं है।हज़रत ने मांग की है कि बच्चे के कातिलों को सख्त से सख्त सज़ा दी जाए क्योंकि माब लिंचिंग अब बच्चों के क़त्ल तक पहुंच गई है।
सभी को मिलजुल कर इसका मुकाबला करना चाहिए नफरत को हरगिज़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ।उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि यह जो तमाशा चल रहा है यह देशहित में नहीं है इसे सरकार तत्काल सख्ती से रोके और बच्चे के परिवार को मुआवजा दिया जाए।हज़रत ने यह भी पूछा कि राजनेता इस वक़्त कहां है कोई नजर क्यों नहीं आता ।

By: Yunus Mohani