HomeNewsStatements

देश खतरे में, भीड़ कर रही है लोकतंत्र की हत्या -सय्यद अशरफ

सऊदी अरब /मदीना :आल इंडिया उलेमा मशाइख बोर्ड के संस्थापक अध्यछ हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कल मदीने से जारी अपने बयान में कहा है कि हमारा मुल्क

सऊदी अरब /मदीना :आल इंडिया उलेमा मशाइख बोर्ड के संस्थापक अध्यछ हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कल मदीने से जारी अपने बयान में कहा है कि हमारा मुल्क इस वक़्त नफरतों की आग में तप रहा है खतरनाक हिंसक भीड़ खूबसूरत हिन्दोस्तान को तबाह करने पर तुली है .
हज़रत ने कश्मीर में अलविदा नमाज़ के बाद जामिया मस्जिद से निकली भीड़ के ज़रिये डी.एस .पी मोहम्मद अय्यूब पंडित की हत्या को कायरता करार देते हुए इसे मजहबे इस्लाम को बदनाम करने की घिनौनी साजिश करार दिया उन्होंने कहा की आखिर यह कौन सी नमाज़ थी जिसके बाद लोग किसी की जान लेने पर आमादा हो गए कट्टरपंथ को अगर नहीं रोका गया तो यह गुमराह भीड़ सब कुछ तबाह कर देगी .
हज़रत किछौछवी ने चलती ट्रेन में एक मुसलमान लड़के की हत्या को भी शर्मनाक बताया है उन्होंने कहा की यह कोई मज़हब नहीं सिखाता कि किसी का क़त्ल कर दिया जाये लगातार जिस तरह एक मज़हब के लोगों को बीफ के नाम पर निशाना बनाया जा रहा है उससे कानून का राज ख़तम होता दिख रहा है और हम अपने इस मोहब्बत वाले मुल्क को नफरत की आग में जाता हुआ देख रहे हैं भीड़ लोकतंत्र की हत्या कर रही है अदालत के बजाये कुछ सरफिरे फैसले कर रहे हैं और बेगुनाहों को क़त्ल कर रहे हैं .
हज़रत ने कहा क हम हुकूमते हिन्द से मांग करते हैं की इसे हर हाल में रोका जाये क्योंकि हिन्दोस्तान से हम हैं अगर मुल्क जला तो कोई महफूज़ नहीं रहेगा उन्होंने अमन पसंद लोगों से अपील करते हुए कहा की सभी अमन पसंद लोग अब इन नफरत के सौदागरों के खिलाफ एकजुट होकर आयें सवाल मुल्क का है नफरतो को रोकने के लिए मोहब्बतों की बहुत ज़रूरत है.
अमन के कयाम के लिए सभी को एक आवाज़ में कहना होगा कि सभ्य समाज में हिंसा का कोई स्थान नहीं है मौलाना ने लोगों से सब्र से काम लेने की बात कही और कहा कि अफवाहों पर ध्यान न दें अमन कायम करने की हर मुमकिन कोशिश की जाये वहीँ उन्होंने हुकूमत से मांग की कि “सबका साथ सबका विकास “का जो नारा दिया गया है इस पर अमल होना चाहिए और अल्पसंख्यको के मन से डर को निकलने की कोशिश की जानी चाहिए .
हज़रत ने मुल्क में मोहब्बत की हवा चलने और अमन कायम रहने की दुआ की .

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 1