अहंकार और नफरत को ज़िबाह किये बिना पूरा नहीं कुर्बानी का मकसद – सय्यद अशरफ

11 अगस्त ,लखनऊ
लोगों को ईद उल अजहा की मुबारकबाद देते हुए आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कहा कि अल्लाह की राह में कुर्बानी का असल मकसद तब पूरा होगा जब हम अपने घमंड गुरूर और नफ़रत को भी खतम कर दें और लोगों के लिए आसानी पैदा करने वाले बन जाएं।
उन्होंने कहा कि मुल्क में जिस तरह से नफरतें सर चढ़ कर बोल रही हैं उन्हें खतम करना हमारा काम है ,हमें खुद आगे बढ़ कर लोगों को गले लगाना है सुन्नते इब्राहिमी तो हम अदा कर रहे हैं सीरते रसूल पर भी हमारी नजर रहनी चाहिए और अगर हमारी ज़िन्दगी का हर लम्हा उसमें ढल गया तो हम कामयाब हो जायेंगे ,फिर कोई हमसे नफरत नहीं कर सकेगा।
हज़रत ने लोगों से कहा कि कुर्बानी ज़रूर करें जिनपर वाजिब है लेकिन अपने हमवतन भाइयों के जज्बात का ख्याल रखें,हमारी वजह से किसी को किसी भी तरह की परेशानी न हो,साफ सफाई का खूब ख्याल रखे,जिन जानवरों पर पाबंदी है हरगिज़ उनकी कुर्बानी न करें,कानून का पालन करे और खून को नालियों में न बहाएं,सोशल मीडिया पर एहतियात बरतें कि किसी भी कुर्बानी वाली विडियो को शेयर न करें,।
हज़रत ने अपील करते हुए कहा कि जो लोग नफली कुर्बानी करना चाहते हैं वह मुल्क में परेशान हाल लोगों की मदद करें ,कुर्बानी भुखमरी के खिलाफ सबसे बड़ी जंग है इस बात का ख्याल रखते हुए जरूरतमंदो तक उनका हिस्सा हर हाल में पहुंचाएं ,दुनिया में जहां भी इंसानियत परेशान है ज़ुल्म का शिकार है उनके लिए दुआ करें और मुल्क की फिज़ा खुशगवार रहे इसकी दुआ करें।उन्होंने आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड की जानिब से लोगों को मुबारकबाद पेश करते हुए यह भी कहा कि सभी बोर्ड के जिम्मेदार अपनी अपनी जगह पर लोगों में जागरूकता फैलायें,ताकि लोग असल मकसद तक पहुंच सके।