बरकती जैसे लोग अमन के दुश्मन , ऐसे लोगों का करें पूर्ण बहिष्कार : सय्यद मोहम्मद अशरफ

ऑल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत मौलाना सय्यद मोहममद अशरफ किछौछवी ने कोलकाता के टीपू सुलतान मस्जिद के इमाम बरकती के बेहूदा बयान पर आज मुरादाबाद में कहा कि बरकती हिन्दुस्तानी मुसलमानों का प्रतिनिधित्तव नहीं करते, हिन्दुस्तान का मुसलमान ख्वाजा ग़रीब नवाज़ का मानने वाला, मोहब्बत से लबरेज़ और अमन का पैरोकार है।
हज़रत किछौछवी ने कहा कि जनाब नरेंद्र मोदी किसी राजनैतिक दल के नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री हैं उनके पद का सम्मान किया जाना चाहिए और किसी को हक़ नहीं है कि संवैधानिक पद पर बैठे किसी व्यक्ति पर ऐसी ओछी बयानबाज़ी करे, न तो यह क़ानून की नज़र में सही है न ही इस्लाम की नज़र में, ये जहाँ देश के क़ानून का उल्लंघन है वहीँ इस्लामिक नज़रिये से भी ग़लत है।
हज़रत ने कहा कि इस देश में जिहादी मानसिकता रखने वालों की कोई जगह नहीं है, यह मुल्क़ अमन वालों के लिए है, फसादी चाहे खुद को किसी भी धर्म का मानने वाला बताता हो लेकिन हिन्दुस्तान की जनता उसका विरोध करते हैं, जिहाद की बात करने वाले जब अपने नफ़्स से जिहाद करने की सलाहियत नहीं रखते और जिनका अपनी भाषा शैली पर क़ाबू नहीं हैं उल्टा बेहूदा बाते करते हैं वह भला किस मुंह से इस्लाम की बात करते हैं, ऐसे लोग धर्म को बदनाम करते हैं ।
ऑल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड एक तरफ जहाँ उनके इस क़दम की भरपूर मज़म्मत करता है वहीं आवाम से अपील करता है की ऐसे लोगों का सामाजिक बहिष्कार किया जाये क्योंकि जो भी अमन को खतरे में डालने वाले लोग हैं वह हमारे लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए परेशानी का सबब हैं ,ऐसे लोगों की समाज में कोई जगह नहीं है ।
हज़रत किछौछवी ने कहा यहाँ सिर्फ एक बात के मानने वालों की जगह है और वह यह कि ”मोहबब्त सबके लिए नफरत किसी से नहीं” नफरतों के लिए न हमारे दिल में जगह है न हमारे देश में, क़ानून को अपना काम करना चाहिए और आवाम को अपना।