HomeUncategorized

आतंकवादियों का मक़सद नफरत को हवा देना, अमरनाथ यात्रियों पर हमला निंदनीय – सय्यद मोहम्मद अशरफ

मुम्बई:आल इन्डिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक व अध्यक्ष हज़रत मौलाना सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकवादीयों के हमले

जो देश का दुश्मन वह हमारा दुश्मन : सय्यद मोहम्मद अशरफ
Congratulate to Pakistani People for rejecting Terrorism : Syed Muhammad Ashraf Kichhochhawi
آل انڈیا علما ومشائخ بورڈ کی کارکردگی کا جائزہ

मुम्बई:आल इन्डिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक व अध्यक्ष हज़रत मौलाना सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकवादीयों के हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि बुजदिल मानवता का क़त्ल कर रहे हैं, अमरनाथ यात्रियों पर हमला मुल्क में नफरतों को हवा देने के लिए की गयी गहरी साजिश का हिस्सा है! हुकूमत को इससे कठिनाई से निपटना चाहिए !

हज़रत ने कहा कि मुल्क के अमन को खराब करने के लिए लगातार साजिश की जा रही है हमारी सामाजिक सौहार्द्य को तोड़ने के लिए मज़हब का सहारा लिया जा रहा है, जिस तरह अमरनाथ यात्रियों को निशाना बनाया गया है वह असहनीय है, किसी को किसी की जान लेने का हक़ नहीं है, दहशतगर्द इंसान ही नहीं हैं वह तो हैवान हैं !

हज़रत किछौछवी ने लोगों से सब्र से काम लेने की अपील करते हुए कहा की अगर हमने नफरतों को बढ़ावा दिया तो याद रखिये हम आतंकियों के मददगार होंगे क्योंकि उनका यही मकसद है कि हम भारतीय आपस में टकराएँ और विदेशी ताक़तें अपने मकसद में कामयाब हो जाएँ! हज़रत ने यह भी कहा कि इस मुश्किल वक़्त में हम सब को एकजुट होकर इन नफरत फैलाने वालों को जवाब देना है अपने मुल्क को हर हाल में बचाना है क्योंकि अगर हमारा अमन खराब हुआ तो मुल्क अस्थिर हो सकता है लिहाज़ा हमे चाहिए कि नफरतों को मोहब्बत से हरा दें !

बस ड्राईवर सलीम शैख़ का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा की अपनी ज़िन्दगी खतरे में डालकर 50 लोगों की ज़िन्दगी बचाने वाले ऐसे लोग कभी नफरतों को कामयाब नहीं होने देंगे इनके जज्बे को इंसानियत सलाम करती है.मज़हब के नाम पर आतंक का घिनौना खेल बंद होना चाहिए सरकार को इस तरफ ध्यान देना होगा ताकि आगे ऐसी घटनाएँ न हों, न कहीं भीड़ कानून को हाथ में ले न कहीं मज़हबी जूनून में लोग हैवान बने, मोहब्बत का दामन किसी भी हाल में न छूटे, अगर हम मुल्क से मोहब्बत करते हैं तो इसके अमन को बरक़रार रखने की ज़िम्मेदारी भी हमारी है वरना हम सिर्फ दिखावा कर रहे हैं अपने देश से मोहब्बत नहीं.

मुल्क में किसी भी तरह की दहशतगर्दी को बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए चाहे वह किसी भी नाम पर की जाए,न भीड़ की गुंडागर्दी हो न ही दहशतगर्दों की दहशतगर्दी, इसके लिए सरकार को कड़े क़दम उठाने चाहिए!मुल्क की अमनपसंद आवाम नफरतों को हरगिज़ बर्दाश्त नहीं करेगी और मोहब्बत से इसे हराने के लिए हर दम तैयार है!

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0