ज़ुल्म के खिलाफ उठने वाली हर आवाज़ का नाम है हुसैन : सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी

29 अगस्त 2020 नई दिल्ली
आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने मोहर्रम में ऑनलाइन चल रहे अपने एक प्रोग्राम में करबला के यूनीवर्सल पैग़ाम को बताते हुए कहा कि कर्बला में हज़रत इमाम हुसैन अैहिस्सलाम की शहादत के बाद रहती दुनिया तक ज़ुल्म के खिलाफ उठने वाली हर आवाज़ इस अज़ीम शहादत का सदका है।
उन्होंने कहा कि ज़ुल्म के खिलाफ अपने छोटे छह माह के बच्चे जनाबे अली असगर को पेश कर इमाम ने बताया कि हक के लिए अगर ज़रूरत हो तो फिर बड़ी से बड़ी कुर्बानी भी पेश करनी पड़े तो पैर पीछे मत खींचो बल्कि अपना सबकुछ लुटा कर भी हक की बुलंदी तुम्हारी फतह है और ज़ालिम की हार।
करबला का यही सबक है कि ज़ुल्म को सहना भी गुनाह है इमाम का यह कौल कि “जुल्म के खिलाफ जितनी देर से उठोगे कुर्बानी उतनी बड़ी देनी पड़ेगी” सबको याद रखना चाहिये ।लिहाज़ा सबको मजलूम के साथ खड़ा होना है और ज़ालिम के खिलाफ, यही दुनिया में इंसाफ को कायम करने का रास्ता है और इसी अमल से शांति की स्थापना संभव है ।क्योंकि जब समाज जागृति होता है तो ज़ालिम कमजोर हो जाता है इसीलिए शायर ने कहा कि इंसान को ज़रा बेदार तो हो लेने दो हर कौम पुकारेगी हमारे हैं हुसैन।हज़रत ने करबला के शहीदों को सलाम पेश करते हुए कहा कि हुसैन हर मजलूम की हिम्मत का नाम है और जुल्म के खिलाफ उठने वाली हर आवाज़ का नाम भी।

हुसैन का ज़िक्र ज़ुल्म और भ्रष्टाचार का इलाज है : सय्यद मोहम्मद अशरफ

9 सितंबर, रायपुर छत्तीसगढ़
आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक धर्म सभा को संबोधित करते हुए कहा कि हुसैन का ज़िक्र ज़ुल्म एवम भ्रष्टाचार का इलाज है।
उन्होंने कहा कि दुनिया में जहां भी ज़ुल्म है कुप्रबंधन है नाइंसाफी है वहां हुसैन का ज़िक्र उसके खिलाफ आवाज है,क्योंकि रसूले अकरम सल्लललाहू अलैहि वसल्लम के नवासे ने अपने 6 माह के बेटे से लेकर अपने पूरे घर की कुर्बानी इस ज़ुल्म और भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष में दी और आने वाली दुनिया को यह संदेश दिया कि अगर कहीं ज़ुल्म और नाइंसाफी हो भ्रष्टाचार हो तो उसके खिलाफ बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटना चाहिए।
हज़रत ने कहा कि जिस तरह की जंग करबला में इमाम ने लड़ी उसकी मिसाल पूरी इंसानी तारीख में नहीं मिलती जहां वफादारी ने भी अपने कमाल को छुआ यह वाहिद जंग है जिसमें मैदान में सर कटाने वाला जीता और क़ातिल बुरी तरह हार गया । अली के बेटों ने करबला के तपते रेगिस्तान में भूके और प्यासे रहते हुए जो इबारत लिखी उससे रहती दुनिया तक लोग हौसला पाते रहेंगे।
करबला सिर्फ जंग नहीं है बल्कि एक पैगाम है कि ज़ुल्म को बर्दाश्त करना भी ज़ुल्म है इसीलिए हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने फरमाया कि ज़ुल्म के खिलाफ जितनी देरी से खड़े होंगे कुर्बानी उतनी ज़्यादा देनी होगी,लिहाजा हम सब मोहर्रम में इमाम का ज़िक्र इसलिए करते हैं कि हम ज़ुल्म करने वाले नहीं बल्कि ज़ालिम के विरोधी हैं भ्रष्टाचार के नाइंसाफी के विरोधी है। मोहर्रम दुनिया में ज़ुल्म के खिलाफ अमन वालों के प्रदर्शन का नाम है।

By: Yunus Mohani