देश का माहौल खराब करने की हो रही है साजिश : सय्यद मोहम्मद अशरफ

07 जनवरी 2021 नई दिल्ली,
आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक नफरत के वाहक द्वारा हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज की शान में गुस्ताखी कर सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल करने पर सरकार से मांग की है कि इस तरह के लोगों पर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाये,क्योंकि इस तरह की बाते करने वाले देश के दुश्मन है और देश को तोड़ने की साजिश कर रहे हैं ,क्योंकि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज में हर धर्म और मजहब के लोग आस्था रखते हैं लिहाज़ा यह देश एवम दुनिया के करोडों करोड़ लोगों की भावनाओं को आहत करने वाला है और इस प्रकार देश का माहौल खराब करने की साजिश रची जा रही है।
उन्होंने कहा कि यह देश गंगा जमुनी तहजीब का देश है यहां सभी की भावनाओं का आदर होता है ऐसे में ऐसे लोग देश के हर कोने में नजर आ रहे हैं जो देश को कमज़ोर करने की कोशिश में दिन रात एक किए हैं यह साफ तौर से विदेशी साजिश जान पड़ती है ,हमारी सीमाओं पर अपनी गंदी नजर गड़ाये लोग हमारे मुल्क के माहौल को खराब करने के लिए इस तरह के लोगों को प्रोत्साहन से रहे हो सकते है इसकी गंभीरता से जांच होनी चाहिए और नफरत के वाहकों को तुरंत सलाखों के पीछे भेजा जाना चाहिए।
हज़रत ख़्वाजा गरीब नवाज़ की शान में गुस्ताखी किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जा सकती यह भारत की ज़मीन सूफ़ी संतों की ज़मीन है इनके दरबार से मुहब्बत का संदेश आम होता है और भारत की सुन्दरता यहां दिखाई देती है लेकिन यह नफरत के सौदागर इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रहे और विदेशी ताकतों के हाथों में खेल कर देश को कमज़ोर करने में लगे हुए हैं।
हज़रत ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री और ग्रह मंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि जल्द से जल्द ऐसे लोगों की गिरफ्तारी हो और देश का माहौल खराब करने वालों को सलाखों के पीछे धकेला जाए ,हज़रत ने कहा कि पूरे देश में अलग अलग जगहों पर इस प्रकार का काम ऐसे देशद्रोहियों के द्वारा किया जा रहा है अभी मध्य प्रदेश से जिस प्रकार धार्मिक स्थलों पर हमले के जो वीडियो वायरल हुए वह सब इसी ओर इशारा करते हैं।
उन्होंने कहा कि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज पर भद्दी अपमानजनक टिप्पणी करने वाले व्यक्ति को तुरंत गिरफ्तार करने की हम मांग करते हैं भारत को कमज़ोर करने वालो को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता सरकार फौरन कार्यवाही करे ।

By: Yunus Mohani