Follow the country’s law along with the religion on the occasion of Eid-ul-Azha : Syed Mohammad Ashraf

Ajmer: August 29
On the occasion of the upcoming festival, Eid-ul-Azha, Muslims will be sacrificing the animals while exercising the right to freedom of religion. But at the same time, they should also take care of the laws of the country. This point was particularly highlighted by the Founder and President of All India Ulama & Mashaikh Board, Hazrat ​​Sayed Mohammad Ashraf in Ajmer Sharif Dargah Khwaja Gharib Nawaz (Rahmatullah alaih) in the gathering of Chhati Sharif in Baitun Noor.
He appealed to the people and said that in many places now, some enemies of peace and the people might try to spoil the atmosphere of peace during the sacrifice. “Therefore, we need to work with patience and respect the law of the country and follow it completely”, he said.
He also said that people should not sacrifice in open places. Our Deen (religion) also says this. We should not shed the blood of the Qurbani in the drains, rather bury it, as well as those parts of the animal which are not eaten and the food which is forbidden in Islam should also be buried. We do not have permission to give any of them to anyone else because we cannot give any such food to anyone. At the same time, we must take care of cleanliness so that nobody could have trouble with our sacrifice.
Hazrat further said: we have to make special arrangements to bring the meat of the Qurbani to the disadvantaged, less-fortunate and the poorest of the poor. He said that there is no restriction on sacrifice in our country, but we must take care of the feelings of those practicing other religions and faiths. We have to fulfill the rights of our neighbors and non-Muslims, while we take care of our co-religionists, because we are Muslims, so we must maintain peace and tranquility. This responsibility is ours. He also congratulated the people on Hajj.
Hazrat Maulana Syed Mehdi Mian Chishti congratulated the people on Khwaja Gharib Nawaz’s Chatti Sharif saying that the occasion of Eid-ul-Adha is the best way to get closer to our lord.
Syed Mehdi Mian continued: Every capable Muslim should sacrifice, but we must take care that no one’s heart is hurt, no one is troubled, and it does not spread any kind of dirt. This is the only way we can emulate the example of Hazrat Gharib Nawaz Moinuddin Chishti (r.a).
If someone’s heart is broken, it is a big sin like breaking God’s house. “Hearts are to be connected, not to be broken”….. “You cannot achieve the pleasure of your Lord (Rabb) until you help the disturbed people”, he said.
Joint National Secretary of the AIUMB, Haji Syed Salman Chishti, with the grace of Huzur Gharib Nawaz, greeted on Eid-e-Ibrahimi and the Haj pilgrimage, saying that one should remember that in many parts of the country, people are upset with the flood. We have to help them on this occasion of Eid. Qurbani also teaches us that we are sacrificing our pleasure and welfare for the sake of our Lord. This feeling has to be awakened and spread widely, because human life is in danger and doing something about it is the means to achieve the pleasure of our Lord (Rabb-ul-Alameen). We have to tread the path of Sufia to benefit larger section of the people. “Love for everyone, hatred for none” is the only way to save the world from chaos and strife”, he said.
By: Ghulam Rasool Dehalvi

18th Century Ulema: The Unsung Heroes of the First Indian Independence War In 1857: By Ghulam Rasool Dehlvi

By Ghulam Rasool Dehlvi
29 August 2017
On this Independence Day, we need to also remember the freedom strugglers who have been forgotten almost completely. The first Indian freedom movement of 1857 should particularly be recalled in this context. While 70 percent of the soldiers came from the Hindu or Sikh community, the Ulema and Muslim leaders like Maulana Fazle Haq Khairabadi, Maulana Ahmed Shah, Bahadur Shah Zafar, Khan Bahadur Khan, Begum Hazrat Mahal, Firoz Shah and Azimullah Khan were the most prominent characters in the annals of the revolt. Remarkably, Nana Sahib, Rani Laxmi Bai and Tantya Tope declared Bahadur Shah Zafar, a Muslim King, India’s first independent ruler on May 11, 1857. Similarly, Ram Kunwar Singh, Raja Nahir Singh, Rao Tula Ram exerted herculean efforts and sacrifices to uphold the 1857 revolt.

During the 1857 revolt, India’s top Ulema declared the rebellion for freedom as “Wajib-e-Deeni” (religious obligation). They issued an anti-British fatwa while actively participating in the blood-spattered insurgents. Among the most forgotten Ulema and Maulvis who valiantly campaigned for an independent India were: Maulana Sadruddin Azurda Dehlvi, Maulana Ahmadullah Shah Madrasi, Maulana Fazle Haq Khairabadi, Maulana Kifayat Ali Moradabadi, Maulana Rahmatullah Kairanvi, Imam Bakhsh Sahbai Dehlvi and Maulana Wazir Khan Akbarabadi. These Ulema were imbued in an Indian strain of Islam with a pluralistic and nationalistic ideology originally underpinned by the Sufi mentors such as Mirza Mazhar Jaan-e-Jaanan (1195-1781), Shah Abdul Aziz Dehlvi (1239-1824), Qazi Sana’ullah of Panipat (1225-1810), Shah Rafiuddin Dehlvi (1233-1818) and Mufti Sharfuddin Rampuri (1268-1852). Their exhortation of nationalism called Hubb-ul-Watani (love for the country) was the driving force behind the Ulema’s fierce struggles and sacrifices in the Independence movements from 1857 to 1947. I suffice to reproduce three prominent examples from the Indian Ulema’s traditions and accounts.

Maulana Fazle Haq Khairadabadi (1797–20 August 1861)

A leading revolutionary in the 1857 revolt was Maulana Fazle Haq Khairadabadi, son of Allama Fazle Imam Farooqi, the Grand Mufti of Delhi in the 18th century and a disciple of the noted Sufi master, Shah Abdul Qadir (1230/1815). He rendered various services to the country but the anti-British fatwa known as “Tahqeeq al-Fatwa fi Ibtal al-Taghwa” (fatwa in refutation of the devil) was his most remarkable contribution to India’s first freedom struggle.

Vivek Iyer noted in his book “Ghalib, Gandhi and the Gita” that Khairabadi was a celebrated poet, philosopher and social scientist, but was most remembered as a freedom struggler of the 1857 Indian rebellion. He took up service with the government in 1815 but resigned from the job in 1831 and spent most of his time in an intellectual activism for the country’s freedom. He penned down a comprehensive historical account of the 1857 revolt in Arabic titled “al-Thaura al-Hindiya” (Indian rebellion). After his resignation from the services of the British government, Khairabadi got an opportunity to serve the Nawab of Jhajjar. He was also close to Bahadur Shah Zafar. When the 1857 revolt broke out, he travelled from Alwar to Delhi several times to hold meetings with Bahadur Shah Zafar. Munshi Zakaullah notes in his famous research work in Urdu “Taarikh-e-‘Urooj-e-Saltanat-e-Englishiah (History of the British government’s rise in India):

“When General Bakht Khan, along with his fourteen thousand soldiers, came for Bareilly to Delhi, Maulana Khairabadi delivered a Friday sermon before hundreds of Ulema in Delhi’s Jama Masjid. He put fourth an Islamic decree (Istifta) on the freedom fight for the country with the signatures of Mufti Sadruddin Azurda, Maulvi Abdul Qadir, Qazi Faizullah Dehlvi, Maulana Faiz Ahmed Badayuni, Dr. Wazir Khan Akbarabadi, Syed Mubaraksha Rampuri”.

No sooner did this fatwa against the British was declared and widely disseminated, the revolt intensified throughout the country. Some ninety thousand soldiers gathered in Delhi. Quoting from the “Akhbar-e-Dehli” of Chunni Lal, a contemporary Urdu researcher Khushtar Noorani writes: Maulana Khairabadi continued to hold gatherings delivering sermons on the significance of the jihad against the British to rescue the country which was Darul Islam (abode of Islam) in his view”.

In January 30, 1859, Khairabadi was arrested by the British authorities and a case was filed against him for ‘taking a leadership role in the rebellion’, as C. Anderson records in “The Indian Uprising of 1857-8: prisons, prisoners, and rebellion”. He was tried in the court and was sentenced to imprisonment at Kalapani (Cellular Jail) on Andaman Island with confiscation of his property by the Judicial Commissioner, Awadh Court. During the court proceedings, Maulana himself defended his case and categorically stated in the court that he had issued the anti-British fatwa with his free will, not by compulsion. He reached Andaman on 8 October 1859. Sir William Wilson Hunter, a Scottish historian and a compiler and a member of the Indian Civil Service, writes: “Fazl-e-Haq was an alim (Islamic scholar) who was sentenced to imprisonment in the Kaala Paani and whose library was confiscated and brought to Calcutta by the English government”. (Hamare Hindustani Musalamaan, [Urdu] Page: 203, Delhi).

Mufti Sadruddin Azurda Dehlvi (1804 -1868)

One of the most notable revolutionaries of the 1857 revolt in Delhi was Mufti Sadruddin ‘Azurdah’. An intellectual, spiritually inclined literary figure from the Kashmiri origin, Azurdah was a disciple of the renowned and authoritative classical scholar of Islam Maulana Fazl-e-Imam Faruqi (1244/1829) of Khairabad located in Sitapur (Uttar Pradesh).

Notably, Azurdah was Delhi’s Grand Mufti, an excellent Urdu poet and a bosom friend of Mirza Ghalib. His proactive engagement with the revolt of freedom in 1857 resulted in the loss and devastation of all his poetry during the riots. The only known collection of his poetry is the “Surviving Poetic work of Azurdah” compiled by A’bdur Rahman Parwaz from various Tazkiras (memoirs). One of the architects of modern Muslim mindset in India, Sir Syed Ahmed Khan mentioned Azurda in his book “Asaar-us-Sanadid” (the remnants of ancient heroes) as a “well-versed Muslim scholar of his age”.

When the Ulema of Delhi declared Jihad against the British, the fatwa was signed by Azurdah as published in the famous Urdu daily Akhbaar-uz-Zafar dated July 26, 1857. The newspaper is preserved in Delhi’s National Archives. Azurdah is also reported to have been the mediator between the English and Mughal elites in the early days of the British ascendancy in Delhi. He held meetings and consultations with Bahadur Shah Zafar in the Red Fort during the Mutiny to help the Indian revolutionaries further their cause. When the British curbed the 1857 revolt, a case for rebellion was filed against Azurdah. He was tried in the court and suffered a painful imprisonment. Consequently, a large part of his property was confiscated. The British authorities destroyed almost 3 Lakh books collected in Azurdah’s personnel library.

Remarkably, Azurda trained many Ulema and scholars like Maulana Ahmadullah Shah Madrasi and sent them to Agra in 1846 where they established a council of Ulema (Majlis-e-Ulema) to systematically campaign for the rebellion against the British colonialism.

Maulana Ahmaddullah Shah Madrasi (1787-1858)

In his well-researched work in Urdu, Taarikh-e-Jang-e-Azadi-e-Hind 1857 (page: 205), Syed Khurshid Mustafa Rizvi writes: “Ahmaddullah Shah prominently figures the list of ulema who prepared the whole country for the 1857 Revolt….He visited different parts of the country and instigated the people for the Revolt.”

Ahmaddullah Shah was a spiritually inclined Alim or Islamic scholar. He got fascinated towards a mystical lifestyle from his youth. Therefore, he left his home and travelled far and wide, from Hyderabad and Madras to England, Egypt, Hijaz, Turkey, Iran and Afghanistan. Back in India, he spent most of his life in mysticism and even in Chillahkashi (Sufi practice of mystical seclusion for 40 continuous days) at Bikaner and Sambher.

He attained the spiritual disciplehood of his Pir-o-Murshid (Sufi master) Mir Qurban Ali Shah in Jaipur where he was granted the Ijazat-O-Khilafat (spiritual succession and authorization). From Jaipur, he travelled to Tonk where he held the Mahfil-e-Sima (gathering for mystical music) which was criticized by the conformist Ulema. Dismayed by their objection, he left for Gwalior where he met another Sufi mystic Mehrab Shah Qalandar. Having granted him the Ijazat-o-Khilafat, Shah Qalandar exhorted him to work for India’s freedom movement. Therefore, he left Gwalior for Delhi in 1846.

In Delhi, he met Mufti Sadruddin Azurda who directed him to go to Agra which he thought was the best place for a better and successful preparation for the campaign against the British oppression. In Agra, he consolidated ties with the leading Ulema who cooperated him in the formation of Majlis-e-Ulema (Council of Ulema) to campaign against the British regime.

In the famous book, “The Indian mutiny of 1857” edited by Colonel Malleson, Maulana is mentioned as follows: “If a patriot is a man who plots and fights for the independence, wrongfully destroyed, for his native country, then most certainly, the Maulvi (Ahmadullah) was a true patriot”.

The British historian Malleson has described Maulana in these words: “The Maulvi was a very remarkable man…. In person, he was tall, lean and muscular with large deep set eyes, beetle brows, a high aquiline nose, and lantern jaws….. The British considered him a worthy enemy and a great warrior”.

Malleson further writes that “no doubt, the leader behind this conspiracy (1857) which had spread all over India was the Maulvi (Ahmadullah)…….. I think that he the brain behind the revolt”. During his journeys, Maulana introduced a novel scheme which is known as the ‘Chapati scheme’. He devised the circulation of Chapatis from hand to hand to disseminate the message amongst the rural population of the North India that a great uprising would take place. The English historian G.W. Forest heaps high praises on the Maulana for being a ‘practicing alim’, a ‘Sufi soldier’ and commander with great military skills (Kaye’s and Malleson’s History of the Indian mutiny of 1857-8).

In his article, “Maulvi Ahmedullah: The Unsung Hero of the Revolt” published in Radiance Viewsweekly, Mohd. Asim Khan depicts a portrait of how valiantly Maulana fought against the British: “Maulvi Ahmedullah Shah was a rare combination of both a writer and a warrior. He used his sword valiantly, and his pen effortlessly for awakening and mobilising the people against the foreign subjugation…..He wrote revolutionary pamphlets and started distributing them. It was too much for the imperialists and they ordered his arrest. He was tried for sedition and sentenced to be hanged”.

The British officers declared a reward of Rs. 50,000 for capturing Maulana alive. The proclamation reads: “It is hereby notified that a reward of Rs.50, 000 will be paid to any person who shall deliver alive, at any British Military post or camp, the rebel Moulvee Ahmed Molah Shah, commonly called “the Moulvee”. It is further notified that, in addition to this reward, a free pardon will be given to any mutineer or deserter, or to any rebel, other than those named in the Government Proclamation No. 476 of the lst instant, who may so deliver up the said Moulvee”.

Noted Urdu historian of Karachi, Prof. Mohammad Ayyub Qadri writes: “The martyrdom of Maulana Ahmadullah put an end to the [first] war of independence, not only in Ruhelkhand But in the entire country” (Jang-e-Azadi-e-Hind 1857, P. 303).

The author is a scholar of classical Islamic studies, cultural analyst and researcher in media and communication studies and regular columnist with New Age Islam.

ईद उल अज़हा के मौक़े पर मज़हब के साथ मुल्क के क़ानून का भी पूरा पालन करें मुसलमान : सय्यद मोहम्मद अशरफ

अजमेर: 29 अगस्त
आने वाले त्योहार ईदुल अज़हा के मौक़े पर मुसलमान जहां मज़हबी आज़ादी के अधिकार पर अमल करते हुए क़ुर्बानी करें वहीं मुल्क के क़ानून का भी पूरा ख्याल रखें. यह बात आल इंडिया उलमा मशाइख़ बोर्ड के संस्थापक व अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने अजमेर शरीफ में दरगाह ख्वाजा ग़रीब नवाज़ रहमतुल्लाह अलैहि में छटी शरीफ की नजर के बाद बैतुन नूर में कही।
हज़रत ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि कई जगह इस बार कुछ इंसानियत और अमन के दुश्मन लोग और संगठन क़ुर्बानी के दौरान अमन खराब करने की कोशिश कर सकते हैं लिहाजा सब्र से काम लें और मुल्क के क़ानून का सम्मान करते हुए उसका पूरा पालन करें ,उन्होंने कहा कि लोग हरगिज़ खुली जगह क़ुर्बानी न करें, दीन भी यही कहता है, क़ुर्बानी के खून को नालियों में न बहाएँ बल्कि उसे दफन करें, साथ ही जानवर के वह अंग जो खाऐ नहीं जाते और इस्लाम में जिनका खाना मना है उसे भी दफन करें, इन्हे किसी को देने की इजाजत नहीं है क्योंकि आपके लिए जो खाना ठीक नहीं वह आप किसी को नहीं दे सकते, साफ सफाई का पूरा ख्याल रखें, किसी को आपकी वजह से परेशानी नहीं होनी चाहिए।
हज़रत ने कहा कि आप क़ुर्बानी का गोश्त ग़रीबों और परेशान हालों तक पहुंचाने का खास इंतज़ाम करें। हज़रत ने बताया कि हमारे मुल्क में क़ुर्बानी पर कोई पाबंदी नहीं है लेकिन किसी गैरमज़हब के मानने वाले की भावनाओं का हमें ख्याल रखना चाहिए, हमें अपने पड़ोसी का हक़ अदा करना है, अपने हमवतन का ख्याल रखना है क्योंकि हम मुसलमान हैं तो अमन क़ायम रखने की ज़िम्मेदारी हमारी है।उन्होंने लोगों को हज की मुबारकबाद दी।
बोर्ड के संरक्षक हज़रत मौलाना सय्यद मेहदी मियां चिश्ती ने लोगों को ख्वाजा गरीब नवाज़ की छटी शरीफ की मुबारकबाद देते हुए कहा कि क़ुर्बानी अपने रब से क़रीब होने का बेहतरीन ज़रिया है और हर साहिबे हैसियत पर क़ुर्बानी वाजिब है लेकिन ख्याल रहे कि हरगिज़ किसी का दिल न दुखे, किसी को परेशानी न हो,गंदगी बिल्कुल न फैले, इसका खास ख्याल रखे, ग़रीब नवाज़ का यही पैग़ाम तो है कि किसी का दिल तोड़ना अल्लाह का घर तोड़ने से बड़ा गुनाह है, लिहाजा दिलों को जोड़िए और ख्याल रहे कि इंसान तब तक अपने रब की खुशी हासिल नहीं कर सकता जब तक वह परेशान हाल लोगों की हैसियत रखते हुए मदद नहीं करता।
बोर्ड के संयुक्त राष्ट्रीय सचिव सय्यद सलमान चिश्ती ने सभी को गरीब नवाज़ की छटी के साथ ही ईद ए इब्राहीमी और हज की मुबारकबाद देते हुए कहा कि हमें याद रहना चाहिए कि मुल्क के कई हिस्सों में बाढ़ से लोग परेशान हैं, हमें उनकी मदद करनी है और यह ईद हमें यही सिखाती भी है कि अपने रब की खुशी के लिए हम अपना माल क़ुर्बान करते हैं. इसी एहसास को और जगाना है, क्योंकि इंसानी ज़िंदगियां खतरे में है और रब की खुशी हासिल करने का हमारे पास ये ज़रिया है। ज़रूरतमंद की मदद करना ही सुफिया का तरीका रहा है. यही नबी का दीन है। मोहब्बत सबके लिए नफरत किसी से नहीं. यही पैग़ाम है दुनिया को नफरतों से बचाने का।
By: यूनुस मोहानी

AIUMB ने कैंप लगाकर राहत सामान इकट्ठा किया

AIUMB (ऑल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड) की इटावा और ग़ज़िआबाद यूनिट का बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत सामग्री जुटाने का कार्य जारी, कैंप लगाकर राहत सामान इकट्ठा किया।

इटावा। असम, उत्तर प्रदेश, बिहार सहित देश के अन्य भागों में बाढ़ से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है।
बड़ी संख्या में लोग मुसीबत का शिकार हैं और लोगों के पास खाने, पीने और ज़रूरी वस्तुओं की बहुत कमी है। ऐसे वक़्त में आल इंडिया उलेमा व मशाईख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सैयद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने लोगों से खुलकर बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के लिए और बोर्ड के सभी शाखाओं द्वारा बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए राहत सामग्री एकत्र करने के लिए कहा था। जिस पर पूरे देश में प्रयास जारी है और राहत सामग्री जमा करके भेजी जा रही है। इसी संबंध में बोर्ड की इटावा और ग़ाज़ियाबाद यूनिट ने बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए अंजुमन हुसैनिया, इटावा के सहयोग से कैंप लगाया और लोगों से अधिक से अधिक मदद करने की अपील की और लोगों की मदद से राहत सामग्री एकत्र की गयी जिसे जल्द ही बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में भेज दिया जाएगा। अंजुमन हुसैनिया शहर इटावा के अध्यक्ष हाजी गुड्ड मंसूरी ने बताया कि ऑल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड की घोषणा के बाद हम लोग हरकत में आ गए हैं क्योंकि मानवता यही है और इस्लामी शिक्षा भी कि परेशान हाल लोगों की मदद की जाए।
गाजियाबाद यूनिट के जिम्मेदार आबिद सिद्दीकी ने कहा कि हमारा मज़हबी और इंसानी कर्तव्य है कि परेशान लोगों की मदद के लिए आगे आएं तथा अल्लाह और उसके रसूल की रजा के लिए लोगों की
उदारता पूर्वक मदद करें।
AIUMB के सक्रिय सदस्य हाजी सरफराज खान ने बताया कि जल्द ही रहत सामग्री लेकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए रवाना होंगे जहां यह बिना किसी भेदभाव के परेशान हाल लोगों में वितरित किया जाएगा।

AIUMB कैंप में हाजी शेख शकील अहमद, हाजी दिलशाद खान, हाजी हाफिज खुर्शीद अहमद, टिंकू भाई, रफी अब्बासी, मुन्ना वारसी, नोरीद वारसी आदि के अलावा बोर्ड के सदस्य और स्थानीय लोग मौजूद रहे।

न्यायालय के फैसले से पर्सनल लाॅ पर छिड़ी बहस पर लगा विराम : शाह अम्मार अहमद अहमदी

रुदौली:24 अगस्त
न्यायालय द्वारा एक बैठक में तीन तलाक़ पर फैसला आया है, उसने पर्सनल लाॅ पर छिड़ी बहस पर विराम लगा दिया है क्योंकि न्यायालय ने माना है कि मुस्लिम पर्सनल लाॅ संविधान के अनुच्छेद 25 सेे संरकक्षित है और इससे छेड़छाड़ नहीं की जा सकती जो कि मुसलमानों की बड़ी जीत है. यह बयान आल इंडिया उलमा मशाइख बोर्ड के राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य शाह अम्मार अहमद अहमदी उर्फ नय्यर मियां ने पत्रकारों से कही, उन्होंने कहा कि बोर्ड कोर्ट के फैसले का सम्मान करता है और स्वागत भी ।
उन्होंने कहा कि हमारे संविधान के अनुच्छेद 25 के अनुसार जो यह कहता है कि “लोक व्यवस्था, सदाचार और स्वास्थ्य तथा इस भाग के अन्य उपबंधो के अधीन रहते हुए सभी व्यक्तियों को अंतःकरण की स्वतंत्रता और धर्म के अबाध्य रूप से मानने, आचरण करने और प्रचार करने का समान हक है” के अनुसार मुस्लिम पर्सनल लाॅ को संरक्षण प्राप्त है और न्यायालय ने अपने फैसले में इसको स्पष्ट कर दिया है जो स्वागत योग्य है, अब इस बहस का कोई औचित्य नहीं है कि मुस्लिम पर्सनल लाॅ में कोई छेड़छाड़ संभव है या होने जा रही है ।
हज़रत के अनुसार देश का मुसलमान भारत के संविधान में और न्याय प्रणाली में पूरा भरोसा रखता है, उन्होंने एक ही बैठक में तीन तलाक़ को हराम बताते हुए कहा कि हम इसे बुरा हमेशा से मानते आये है लेकिन क्या जिस चीज को बुरा कहा जाता है अगर कोई उस काम को करता है तो उसका असर नहीं होगा, जरूर होगा बस इतनी सी बात समझने योग्य है ।
उन्होंने कहा कि अदालत के आदेश को पढ़ने के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि कोई नया कानून बनाने का आदेश नहीं है क्योंकि संविधान पीठ के 3 जजो ने इस बात को नहीं माना है,लेकिन मुस्लिम समाज को भी अब अपने अंदर फैल रही बुराई को रोकने के लिए कमर कसनी होगी, इसके लिए आल इंडिया उल्मा मशाइख बोर्ड समाजी बेदारी मुहिम चलाएगा।

अधिकांश मुस्लिम महिलाएं शरीअत कानून से खुश : सय्यद आलमगीर अशरफ

रायपुर:23 अगस्त
मुस्लिम महिलाएं शरीअत क़ानून से खुश है और उनके लिए शरीअत कानून में जो प्रावधान है वह उससे पूरी तरह संतुष्ट है, यह बात आज रायपुर मे पत्रकारों से आल इंडिया उल्मा मशायख बोर्ड (युवा )के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना सय्यद आलमगीर अशरफ ने कही।
उन्होंने कहा कि हम न्यायालय के आदेश का सम्मान करते है लेकिन मुस्लिम महिलाएं इस फैसले से आहत है और उन्हें ही सबसे ज़्यादा दुख हुआ है, उन्होंने कहा कि आल इंडिया उलमा मशायख बोर्ड लोगों में जागरूकता लाने के लिए पूरे देश में मुहिम छेड़ेगा कि हमारे घर के मसले हम घर में ही आपसी रज़ामंदी से निपटा लें और वह कोर्ट तक पहुंचे ही न।
उन्होंने कहा कि शरीअत के अनुसार एक साथ तीन तलाक़ दिये जाने के बाद निकाह टूट जाता है और हनफी मुस्लिम इसे मानते हैं, यह कैसे हो सकता है कि गोली चले और किसी के सीने में लगे, क्या जिसे गोली लगी वह नहीं मरेगा जबकि किसी की जान लेना कानून के अनुसार घोर अपराध है वैसे ही हम भी एक बैठक में तीन तलाक़ को हराम जानते है लेकिन यह भी उसी तरह हो जाती है जैसे मर्डर हो जाता है लेकिन इसकी रोकथाम के लिए सख्त कानूनी प्रावधान होना आवश्यक है।
हज़रत मौलाना ने कहा कि मुल्क का मुसलमान शरीअत में बदलाव किए जाने की साज़िश को कभी कामयाब नहीं होने देगा, पर्सनल लॉ में बदलाव मुमकिन नहीं है लेकिन कौमी बेदारी की बहुत सख्त ज़रूरत है जिसके लिए आल इंडिया उलमा मशाइख बोर्ड बेदारी मुहिम चलायेगा।
By: यूनुस मोहानी

We stand by the Muslim personal laws, not the self-imposed Muslim Personal Law Board (AIMPLB): Syed Mohammad Ashraf

Hazrat Syed Mohammad Ashraf Kichchawchchvi, Founder & President of All India Ulama & Mashaikh Board has stated that while we fully respect the Supreme Court’s Judgment, we cannot succumb to the self-imposed law of the government. For a well-intentioned and well-spirited reformation in the Indian Muslim society, the government will first have to win the community’s trust with due regard to its faith and all matters of religious conviction.
Speaking to the media outlets, Syed Ashraf Kichchawchchvi said that it would be too early to draw a conclusion from the Supreme Court’s observations, unless the final, complete and conclusive judgment is passed. Personal laws come under the ambit of the essential rights for all religious communities including the Muslim minority. They don’t stand in violation of the constitution, Kichchawchchvi said.
Syed Ashraf Kichchawchchvi also maintained that All India Ulama & Mashaikh Board (AIUMB) stands by the “Indian Muslims’ personal laws” rather than the All India Muslim Personal Law Board (AIMPLB). However, it would not support any infringement on the basic provisions of the religious freedom accorded to the Muslims in the Indian constitution. The Indian constitution’s article 25 which allows the complete freedom of profession and practice of the religion has the primacy in all such affairs, he said.
In this context, Syed Ashraf Kichchawchchvi took a note of introspection as well, while stating that the ulema and Muftis (experts on the Islamic jurisprudence) would do well to carry out a rigorous research on the entire subject. Keeping this purpose in view, the AIUMB plans to organize research seminars and workshops across the country to make a deeper delving into the subject matter. This will help us prepare and interpret a well-thought-out Muslim divorce law which will be pertinent both in the Qur’anic and constitutional terms.

By: Ghulam Rasool Dehalvi

कोर्ट का सम्मान लेकिन सरकार मनमाना क़ानून थोपने की न करे कोशिश : सय्यद मोहम्मद अशरफ

मरिशस : 22 अगस्त
तीन तलाक़ पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का हम सम्मान करते हैं लेकिन सरकार मनमाना क़ानून थोपने की कोशिश न करे, मुसलमान पर्सनल लाॅ में हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करेंगे, यह हमारा संवैधानिक अधिकार है, यह बात आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के संस्थापक एवं अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने मीडिया द्वारा तीन तलाक़ पर माननीय सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर किए गए सवाल पर कही।
उन्होंने कहा कि अभी किसी निष्कर्ष पर पहुंचना तब तक उचित नहीं जब तक आदेश को पढ़ न लिया जाए लेकिन हम स्पष्ट रूप से मुस्लिम पर्सनल लाॅ के साथ हैं, मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड के नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को जल्दबाजी में महज़ राजनीतिक लाभ के लिए क़ानून लाने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए बल्कि मुस्लिम समाज को भरोसे में लेकर कोई क़ानून लाया जाना चाहिए।
उन्होंने कहा आल इंडिया उलमा मशाइख़ बोर्ड इसके लिए पूरे देश में सेमिनार आयोजित करेगा और इस संबंध में उचित राय बनाए जाने का प्रयास करेगा ताकि इस संबंध में उचित क़ानून बन सके जिससे पर्सनल लाॅ में भी कोई दखलंदाज़ी न होती हो।
बोर्ड के संयुक्त राष्ट्रीय सचिव सय्यद सलमान चिश्ती ने भी कोर्ट के फैसले पर कहा कि दरअसल कोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक नहीं माना है लेकिन तीन तलाक़ पर 6 माह की रोक लगाते हुए सरकार को क़ानून बनाने के लिए निर्देशित किया है, ऐसे में गेंद सरकार के पाले में है और ये समय है कि सरकार मुस्लिम पर्सनल लाॅ का सम्मान करते हुए ऐसा क़ानून बनाए जिससे वह मुस्लिम समाज का भरोसा जीत सके क्योंकि मुस्लिम पर्सनल लॉ में बदलाव देश के मुसलमानों को मंजूर नहीं।

By: यूनुस मोहानी

ट्रेन प्रबंधन है हादसों का ज़िम्मेदार, बयानबाज़ी से नहीं चलती ट्रेन : सय्यद मोहम्मद अशरफ

मुंबई :21 अगस्त
रेलवे की लापरवाही की वजह हो रहे हैं हादसे, यह बात आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने मुंबई एयरपोर्ट पर मीडिया कर्मियों के सवाल के जवाब में कही, उन्होंने ट्रेन हादसे में हताहत लोगों के लिए अफ़सोस जताते हुए कहा कि ट्रेन बयानों से नहीं कुशल प्रबंधन से चलती है, यह हादसा घोर लापरवाही का नतीजा है और इसकी ज़िम्मेदारी सरकार की है.
उन्होंने कहा कि कैसे संभव हुआ कि जिस ट्रैक पर काम चल रहा था उसपर से ट्रेन को गुजरने दिया गया, इसकी जाँच होनी चाहिए कहीं यह किसी गहरी साजिश का परिणाम तो नहीं है, आखिर लोगों की जान माल की सुरक्षा कि ज़िम्मेदारी सरकार कि है तो इतनी बड़ी लापरवाही कैसे संभव है और इसकी पूरी जवाबदेही सरकार कि बनती है.

हज़रत ने सरकार को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि अब बयानबाजी बंद होनी चाहिए एक तरफ लोग जलप्रलय का शिकार हैं कहीं आक्सिज़न की वजह से बच्चे मर रहे हैं और कहीं ट्रेन हादसों में लोगों की जाने जा रही हैं, ऐसे में अनर्गल बयान जनभावनाओं का मज़ाक उड़ाने वाले हैं, ऐसे समय में जब लोग बेरोज़गारी के दलदल में धसते जा रहे हैं, फसले बर्बाद हो गयी हैं और युवा पीढ़ी दिन प्रतिदिन अवसादग्रस्त होती जा रही है, अब लोगों को समस्याओं से भटकाने की कोशिश न की जाये बल्कि उनका हल निकालने का इमानदार प्रयास किया जाना चाहिए.

उन्होंने ट्रेन हादसे के लिए पूरी तरह रेलवे को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि रेल हादसों की पूरी ज़िम्मेदारी रेलवे की है और घोर लापरवाही के चलते इतने लोग हताहत हुए हैं. उन्होंने सरकार से मांग की कि इस हादसे की इमानदारी से जाँच करवा कर दोषियों को ऐसी सज़ा दी जाये कि आइन्दा ऐसी लापरवाही करने की कोई हिम्मत भी न जुटा सके.

सीमांचल की त्रासदी पर समाज, राजनीति एवं धर्म की ख़ामोशी :अब्दुल मोईद अज़हरी

सीमांचल में आई त्रासदी के चलते, हुई भीषण तबाही ने एक क़यामत का माहौल बना दिया है। UP, बिहार और असम के लगभग पचास जिले और उस में रहने वाले लाखों इन्सान अपनी मौत का इंतज़ार कर रहे हैं। अब तक दो सौ से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। सैकड़ों ला पता हैं। हजारों बे घर हैं। कई रास्ते एवं सड़के ख़त्म हो चुकी हैं जिसके कारण उन तक पहुंचना असंभव हो गया है। ईश्वर के सहारे सहायता कि आस और उम्मीद में दिन काट रहें हैं। कई ऐसे भी हैं जिन के सामने उन का पूरा कुन्बा और घर बार सब बह गया। उन्हें कुछ समझ में नहीं आया तो उन्हों ने आत्म हत्याएं कर लीं। हर रात खौफ़ में और दिन उम्मीद में में गुज़र रहें हैं। उन्हें लगता है कि उन कि मदद को इन्सान आयेंगे।
हर रात उन्हें वो सारे द्रश्य याद आते हैं कि हम ने अपनी नेता के लिए क्या नहीं किया। उन के लिए किसी अच्छे या बुरे में फ़र्क किये बग़ैर काम करते रहे। उन्हों ने वादा किया था कि वो हमें बे सहारा नहीं छोड़ेंगें। हमारे गाँव में आने वाली हर राजनैतिक पार्टी ने और उस के उम्मीदवार के साथ उस के समर्थकों ने हमारी हर संभव मदद कि बात कही थी। अँधेरी काली रात के सन्नाटे में उन्हें वो दिन भी याद आते हैं जब धर्म और समुदाय कि रक्षा के नाम पर इन्हीं नेताओं के इशारे पर एक दुसरे पर घातक हमले भी किये थे। खूब खून बहाया था। लेकिन यह क्या जिस के पिता पुत्र या सम्बन्धी और रिश्तेदार का खून बहाया था आज वही हमारे साथ है। हम एक दुसरे का साथ दे रहे हैं। जीने का सहारा दे रहें। और जिन के लिए यह सब खून खराबा किया था उन को तो हमारी और हमारे बच्चों कि चीखें ही सुनाई नहीं दे रही हैं। यही सब सोंच कर रात कटती है और सुबह फ़िर किसी का जिस्म बेजान मिलता है। और फिर एक साथ एक दूसरे की ढारस बंधाते हैं। अब तो आँखों के आंसू भी सूख गए हैं।
रह रह कर यह ख़याल भी बेचैन करता है कि नव दुर्गा पूजा, क्रष्ण जन्माष्टमी और गणेश चतुर्थी में हम ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। खूब भक्ति प्रदर्शन किया। इस के लिए धर्म-अधर्म की सीमाओं को तोड़ा। पंडित और धर्म गुरुओं की आव भगत की। उनकी सेवा की। लेकिन यह क्या उन्हें भी हमारी कोई फ़िक्र नहीं। उनकी वो सारी उदारता वाली बातें खोखली हो गईं। जलसे और उर्स में करोड़ों खर्च किये। पीरों, आलिमों, मुक़र्रिरों और नात ख्वानों को पात्र से ज़्यादा बल्कि औक़ात से ज़्यादा नज़राना पेश किया। उनकी तकरीरों ने हमेशा एक दूसरे की मदद की बात की लेकिन अफ़सोस आज इस मुश्किल घड़ी में वो भी काम ना आए। आज कोई भी धर्म गुरु हमारी इस दयनीय स्थिति में हमें देखने और हमारी सहायता के लिए निकलने को तैयार नहीं। तो क्या उनकी सहायता और उदारता वाली बातें झूटी हैं। या वो सिर्फ हमारे लिए ही थीं?
बिहार कि सरकार को जनता का इतना ख़याल था कि तेजस्वी यादव और लालू यादव के भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं कर पाए इस लिए एक साफ़ सुथरी और भ्रष्टाचार एवं किसी भी तरह के अधर्म से मुक्त पार्टी के साथ सरकार बना ली। लेकिन अब क्या हुआ? क्या इस सैलाब में डूबने वाले के प्रति उनकी कोई ज़िम्मेदारी नहीं है? अब उन का राज धर्म कहाँ गया? जनता के प्रति अपनी राजनीती और सत्ता को समर्पित करने वाली मर्यादा किस नकारता में विलीन हो गई? सभी खामोश हैं। हाँ यह सच है कि यह एक कुदरती आपदा है लेकिन क्या राजनीती के साथ मानवता का भी सर्वनाश हो गया है?
UP के भी बीस जिले इस बाढ़ कि चपेट में है। लेकिन यह सरकार गाय कि सुरक्षा से निकली तो मदरसे कि देश भक्ति में व्यस्त हो गई। एक सरकार कब्रस्तान और शमसान घाट में उलझी है तो दूसरी सड़कों पर ईद कि नमाज़ और थानों में जन्माष्टमी पर गहरी नज़र रख कर मामले को सुलझा रही है।गोरखपुर के मासूम बच्चों कि मौत हो या या बाढ़ कि गोद में समाने वाले लोगों कि चीखें हों, साहेब के कानों तक यह आवाजें उन्हें डिस्टर्ब कर रही हैं।
एक हमारे देश का मुखिया विश्व के किसी भी कोने में कोई छोटा से छोटा हादसा हो जाए तो न्यूज़ चैनल से पहले उनके ट्वीट से पता चल जाता है कि क्या हुआ है। लेकिन यहाँ इस भीषण आपदा की दयनीय स्थिति में नेट पैक ख़त्म हो गया और माइक काम नहीं कर रहा है। लाल किले से भी कोई संतुष्टि नहीं मिल पाई। गुजरात में GST के विरुध विशाल धरना प्रदर्शन के बाद जब वहाँ के कुछ इलाके बाढ़ से प्रभावित हो गये तो उस के लिए एक खास चार्ट प्लान तैयार किया गया था। लेकिन ना तो यहाँ कोई चार्ट है ना प्लान और ना ही कोई स्पष्ट इरादा है।
अभी सीमांचल की हालत यह है कि जो लोग बाढ़ से बच भी गए हैं अब वहाँ हुई जानवरों और इंसानों की मौतों की वजह से बदबू और सडन पैदा हो गई है उस कि वजह से लोग बुरी तरह से बीमार हो रहे हैं।
अभी भी बिहार एक एक इलाके में गायों कि रक्षा के लिए चार लो लोगों को पीट पीट कर लहू लुहान कर दिया गया। अरे इस बाढ़ में भी हज़ारों माताओं का निधन हो गया है। उन के अंतिम संस्कार कि तैयारी करों उन्हें वहाँ से निकालो। जो बची हैं उनकी सुरक्षा के प्रबल प्रबंध करो।
इन के साथ ही तमाम समाजी और धार्मिक संगठनों ने भी कुछ ना करने का निर्णय ले लिया है। जो यह साफ़ दर्शाता है कि कोई कोई भी सामाजिक और धार्मिक संगठन बग़ैर राजनितिक रिमोट के काम नहीं करता है। एक से एक बड़ी और छोटी तंजीमें जो धर्म बचाने में एड़ी चोटी का ज़ोर लगाती हैं, कहीं लम्बी छुट्टी पर चली गई हैं। ना कोई बयान है और ना ही किसी तरह के आर्थिक सहयोग की कोई ख़बर है। अगर यह लोग ही नहीं बचेंगे तो किस का धर्म और किस का मसलक बचाने के लिए धोके बाज़ी का व्यवसाय करेंगे?
अभी कुछ दिनों से दस बारह साल पुराना संगठन आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड के संस्थापक एवं अध्यक्ष के बयान देखने और सुनने को मिले हैं। मदद कि अपील भी की है। दुआवों का एहतमाम भी किया है। लेकिन यह समय उन के साथ खड़े होने, उन तक पहुँचने और उन्हें आर्थिक सहयोग पहुँचाने का है।
आज इंसानों के लिए इंसानियत की आवाज़ है। जो भी, जहाँ भी और जिस हाल में भी है, अपने तौर पर उन की मदद करे। वरना एक दूसरे को क्या मुंह दिखाओगे। धर्म, ज़ात, मसलक और राजनीती में मतभेद की लड़ाई के लिए बड़ा समय पड़ा है। लेकिन इन बाढ़ पीड़ितों के लिए क्षण क्षण की देरी उन्हें मौत के करीब कर रही है।
दवा, राशन और दूसरी ज़रूरी चीजों को पहुँचाने का हर संभव प्रयास किया जाये। जो अभी भी बच गए हैं उन्हें बचा लिया जाये। वर्ना याद रखें इतिहास कभी भी किसी भी लम्हे को भूलता और भुलाता नहीं है।
अगर अभी भी उन कि मदद के लिए आगे नहीं आ सकते तो फिर उतार दीजिये ये दस्तारें, जुब्बे, पगड़िया और माले। बंद कीजिये मानव सेवा का ढोंग। छोड़ दीजिये धर्म कि राजनीति। कर लीजिए अपने आप को इंसानियत से, धर्म से और जाती एवं बिरादरी से अलग। मुक्त कीजिये खुद को और सभी अपनी झूटी समाज कि ठेकेदारी से। छोड़ दीजिये उन को उन के हाल पर। जिस ने जान दी है वही ले रहा है। आज इस मुसीबत में हम हैं कल हम सब होंगे।

Abdul Moid Azhari (Amethi) Contact: 9582859385, Email: abdulmoid07@gmail.com