तकरीर के हर लफ्ज में हरियाली का दिया पैगाम: Dainik Jagran

Moradabad,28 May 2016

  • हरियाली अभियान से जुड़ी इंटरनेशनल शख्सियत
  • शहर की दरगाहों के सज्जादानशीन और मुफ्ती उलेमा हुए शामिल
  • हर एक नमाजी से की गई जिंदगी में दो पौधे लगाने की अपील

हरियाली के लिए दिये हवाले:

उलेमा मशायख बोर्ड के अध्यक्ष श्री किछौछवी ने नमाज से पहले हुई तकरीर में इस्लाम और खानकाहों द्वारा दिये गए हरियाली के पैगाम के बारे में लोगों को बताया। बुजुगरे द्वारा दरगाहों पर जाने पर पौधरोपण करने का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि छाया और फलदार पौधे लगाएं।

d142010-large

दरगाह शाह मुकम्मल साहब में हरियाली के लिये दुआ कराते उलेमा मशायख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद मुहम्मद अशरफ किछौछवी व दरगाहों के सज्जादानशीन

दस्ते मुबारक से लिया पौधा:

दरगाह शाह मुकम्मल साहब में पहुंचे हजरत सैयद मुहम्मद अशरफ किछौछवी के दस्ते मुबारक से पौधा लेने के लिए अकीदतमंदों की कतार लग गई। लोगों का कहना था कि देश के बड़े आलिम और सूफी के दस्ते मुबारक से पौधा लेना हमारे लिए बहुत खुश नसीबी की बात है।

हरियाली के लिए दुआ:

दरगाह हजरत शाह मुकम्मल साहब के आस्ताने पर फातिहा ख्वानी के बाद हजरत सैयद मुहम्मद अशरफ किछौछवी ने मुल्क की खुशहाली-तरक्की और हरियाली के लिए दुआ कराई।

सम्भल-डींगरपुर से भी पहुंचे उलेमा:

मशायख बोर्ड के अध्यक्ष सैयद मुहम्मद अशरफ किछौछवी के मुरादाबाद पहुंचने की खबर मिलने के बाद सम्भल और डींगरपुर के उलेमा दरगाह पहुंचे थे। यहां उन्होंने डींगरपुर व सम्भल के मदरसों में पौधरोपण कराने का संकल्प लिया।

पर्यावरण प्रहरी

 d3908

जागरण संवाददाता, मुरादाबाद : धरा को हराभरा बनाने की मुहिम से शुक्रवार को इंटरनेशनल शख्सियत वल्र्ड सूफी फोरम के संयोजक एवं उलेमा मशायख बोर्ड के अध्यक्ष सैयद मुहम्मद अशरफ किछौछवी के जुड़ने के साथ प्रमुख दरगाहों के सज्जादानशीनों ने दरगाह परिसर में पौधे रोपित करने के साथ नमाजियों को पौधे नजराने के तौर पर दिये।

ईदगाह मैदान स्थित दरगाह हजरत शाह मुकम्मल साहब में हरियाली के लिए पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। मेहमाने खुसुसी के तौर पर पहुंचे किछौछवी का सभी दरगाहों के सज्जादानशीन के अलावा तमाम लोगों ने मालाएं पहनाकर उनका जोरदार खैरमख्दम किया। इसके बाद दरगाह परिसर में पौधे रोपित किये। जुमे की नमाज की तकरीर में श्री किछौछवी ने कहा कि खाने और पानी के बिना तीन से पांच दिन आदमी जिंदा रह सकता है, लेकिन ऑक्सीजन नहीं मिलीं तो सांसें थम जाएंगी। इसलिए सभी लोग अपने घर व बाहर, मुहल्ले व पार्क में कम से कम दो अपने नाम के पौधे रोपित करें। नमाजियों को अमरूद, साइकस, चांदनी, बड़ी, चांदनी छोटी, कनेर बड़ी व छोटी नजराने के तौर पर साढ़े तीन सौ पौधे दिये। इस मौके पर कारी आमिर रजा, कारी सखावत, मेराजउद्दीन यानी, मिस्बाहउद्दीन यानी, साजिद अंसारी, अमीर अंसारी, सरफराज अली, आजम सैफी, मुहम्मद असलम आदि भारी संख्या में अकीदतमंद मौजूद रहे। व्यवस्थाएं सैयद सरवर मियां ने संभाली।

d142009-large

ईदगाह मैदान के नजदीक दरगाह शाह मुकम्मल साहब में जागरण के हरियाली अभियान के तहत उलेमा मशायख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद मुहम्मद अशरफ किछौछवी के साथ पौधे रोपते दरगाहों के सज्जदानशीन।

 

  • हरियाली की सबसे ज्यादा जरूरत है। खुले स्थान पर छायादार पौधे लगाएं। लोगों से पौधे लगाने की अपील जारी रहेगी: सैयद शिब्ली मियां, सज्जादानशीन।
  • फल-फूल वाले पौधे भी लगाएं। दैनिक जागरण का हरियाली अभियान लोगों के लिए प्रेरणादायी है। : आसिफ अली, समाजसेवी
  • दरगाह में आने वाले जायरीन को पौधे लगाने का संदेश दिया जाता रहेगा। बच्चों को पौधों की अहमियत बताएंगे।: सैयद गुल्लू मियां, सज्जादानशीन
  • घर या फिर खाली स्थान मिले तो वहां पौधा रोपित कर दें। पौधे की देखभाल लगातार करते रहें। : असद मौलाई, समाजसेवी 
  • हाफिज साहब दरगाह से भी हरियाली अभियान का पैगाम जारी किया जाएगा। मुरीदीन को पौधा लगाने के लिए बोलेंगे। : हयातुन्नबी खां, सज्जादानशीन 1
  • दैनिक जागरण की हरियाली के लिए चलाई गई पहल बेहतरीन है। हरियाली से ही ऑक्सीजन मिलेगी। : सैयद अली नईम चिश्ती, सज्जादानशीन 1
  • पेड़ों का कटान पूरी तरह बंद कराया जाना चाहिए। कंक्रीट के जंगल से मौसम बदल रहा है। पौधे लगाएं। : हाफिज इफ्तेखार हुसैन साबरी, सज्जादानशीन 
  • बुजुगरे के सभी आस्तानों पर भरपूर हरियाली देखने को मिलेगी। इससे हमें संदेश मिलता है कि पौधे लगाएं। : सूफी सिब्ते नबी अशरफी, सज्जादानशीन 
  • सजावट के लिये फूल और ऑक्सीजन के लिए खिरनी के पौधे रोपित करें। इससे सांसों को ताजगी मिलेगी। : सूफी इशरत साबरी, सज्जादानशीन 
  • सार्वजनिक स्थलों पर पौधे रोपने से राहगीरों को पहले की तरह ताजा हवा मिलेगी। इसलिए सड़क किनारे भी पौधे लगाएं। : हाजी इश्त्याक हुसैन बब्बू सिद्दीकी, सज्जादानशीन