HomeNewsStatements

जो लोगों के लिए आसानी पैदा करे उस पर दोज़ख़ की आग हराम : सय्यद मोहम्मद अशरफ

21 मार्च / हनुमानगढ़, "जो लोगों के लिए आसानी पैदा करे उस पर दोजख की आग हराम है" यह विचार वर्ल्ड सूफी फोरम और आल इन्डिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक

सारी मखलूक़ रब का कुंबा लेकिन एक ख़ुदा को मानने वाले एक नहीं : सय्यद आलमगीर अशरफ
ज़ुल्म किसी भी तरह का हो, हुसैनियत उसका इलाज : सय्यद मोहम्मद अशरफ
सीरिया समेत पूरी दुनिया में इंसानियत खतरे में ,जुमे में करें ख़ास दुआ : सय्यद मोहम्मद अशरफ

21 मार्च / हनुमानगढ़,
“जो लोगों के लिए आसानी पैदा करे उस पर दोजख की आग हराम है” यह विचार वर्ल्ड सूफी फोरम और आल इन्डिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कल एक जलसे को खिताब करते हुए कही, उन्होंने कहा कि प्यारे अाक़ा सरवरे आलम सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का इरशाद है कि जिसने अपने लोगों के लिए आसानी पैदा की उस पर जहन्नुम और जहन्नुम की आग पर वह शख्स हराम कर दिया गया ।
उन्होंने कहा, सूफिया ए किराम ने सबके लिए आसानी पैदा की और लोगों को बुराई से भलाई की तरफ लगा दिया, उनका मिशन मोहब्बत है और नफरत की हर बात इनके यहां मना है, इनकी बारगाहों में दिलों को संभाल कर आया जाता है क्योंकि इनकी नजर हमारे ज़ाहिर पर नहीं हमारे दिलों पर होती है।
हज़रत ने कहा दुनिया भूजल संरक्षण दिवस मना रही है, प्यारे नबी का इरशाद है कि “पानी को बर्बाद न करो चाहे तुम्हारे पास झरना ही क्यों न हो “नबी ने यह बात आज से 1400 साल पहले कही, दुनिया आज इसके लिए परेशान है, यानी अगर तालीमे नबी पर अमल किया जाए तो हर समस्या का आसानी से हल निकाला जा सकता है।
उन्होंने कहा, पूरी दुनिया तरह तरह की चोरियों से परेशान है, किसी का डाटा महफूज़ नहीं है लेकिन अल्लाह का निज़ाम यह है कि क़ुरआन का एक एक लफ्ज़ महफूज़ है यह उसकी कुदरत की शान है।

By: यूनुस मोहानी

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0