قرآنی آیات پر عدالت کافیصلہ دستور ہند اور مسلمانوں کے جذبات کاترجمان:سید محمد اشرف کچھوچھوی

اپریل14/،نئی دہلی(پریس ریلیز)
جیسا کہ توقع تھی سپریم کورٹ نے پیر کو اتر پردیش شیعہ وقف بورڈ کے سابق چیئرمین وسیم رضوی کی رٹ پٹیشن کو مسترد کردیا ہے، جس میں اس نے مبینہ طور پر تمام تر تاریخی حقائق کو یکسر نظر انداز
کرتے ہوئے قرآن پاک سے کچھ آیات کو ہٹانے کا مطالبہ کیا تھا۔ ان کا دعویٰ تھا کہ یہ آیات مبینہ طور پر غیر مسلموں کے خلاف تشدد کو فروغ دے رہی ہیں۔جو کہ ایک جھوٹ اور زہریلا پروپیگنڈا کے سوا کچھ نہ تھا۔دراصل وسیم بد بخت نے اپنے اس زہریلے اور گستاخانہ بیان سے اپنی کرپشن اور بد اعمالیوں سے جانچ ایجینسیوں کی توجہ ہٹانی تھی۔جس میں ناکام رہا۔اس کی جانچ کی فائل بھی کھل گئی ہے اور الحمد للہ!اس کی پی آئی ایل بھی سپریم کورٹ سے خارج ہوگئی۔
جسٹس آر ایف نریمن کی سربراہی والی بنچ نے رٹ پٹیشن کو خارج کرتے ہوئے کہا کہ یہ ایک بالکل بے وقوفانہ،غیر سنجیدہ پٹیشن ہے۔یہی نہیں عدالت نے درخواست دائر کرنے پر درخواست گزار پر50 ہزار روپے کا جرمانہ عائد کیا ہے۔ جب معاملہ کو اٹھایا گیا تو جسٹس نریمن نے وکیل سے پوچھا کہ کیا وہ درخواست کو لے کر سنجیدہ ہیں؟ سینئر ایڈووکیٹ آر کے رائے زادہ،جو رضوی کی طرف سے وکیل ہیں، نے جواب دیا کہ وہ مدرسہ تعلیم کے ضوابط تک درخواست کو محدود رکھے ہوئے ہیں۔ اس نے کہا کہ بعض آیات کا لفظی ترجمہ غیرمسلموں کے خلاف تشدد کو فروغ دیتا ہے اور اس لیے انھیں پڑھانے سے بچوں کو یقین ہوسکتا ہے۔
وکیل نے کہا کہ میری تجویزیہ ہے کہ یہ پیغام غیر مسلموں کے خلاف تشدد کی وکالت کرتا ہے۔ بچوں کو معصوم عمر میں مدرسوں میں اسیر بنا کر رکھا جاتاہے۔ طلبہ کوایسی تعلیم نہیں دی جانی چاہیے اور ایسے نظریات کی مارکیٹنگ میں کوئی جگہ نہیں ہوسکتی۔ میں نے مرکزی حکومت کو کارروائی کے لیے لکھا ہے، لیکن کچھ بھی نہیں ہوا۔مرکزی حکومت اور مدرسہ بورڈ کو یہ یقینی کرنے کے لیے بلایا جا سکتا ہے کہ تشدد کی وکالت کرنے والی آیات کی لغوی تعلیم سے بچنے کے لیے کیا اقدامات اٹھائے گئے ہیں۔حالانکہ بنچ اس معاملے پر غور کرنے کو تیار نہیں تھی اور اس درخواست کو‘’بالکل فضول، سطحی اور غیر سنجیدہ‘ قرار دیتے ہوئے مسترد کردیا اور 50,000 روپے جرمانہ عائد کیا۔
ہم عدالت عالیہ کے شکر گزار ہیں کہ اس نے بر وقت صحیح اور آئینی قدم اٹھا تے ہوئے وسیم رضوی کی دائر کردہ پی آئی ایل کو خارج کردیا،جس سے آنے والے دورا کے ایک اہم فتنے کا سد باب ہوگیا۔رہ گئی بات وسیم رضوی کے وکیل کی دلیل کی تو اس میں کوئی دم خم نہیں،اس کے دلیلوں کو عادالت عالیہ نے یکسر مسترد کردیا۔ یہ ایک حقیقت ہے کہ یہ کامیابی کسی ایک فرد یاتنظیم کی نہیں ہے کہ بلکہ پورے ملک کے تمام محبین وطن اور فرزندان اسلام کی اجتماعی کوششوں کا نتیجہ ہے،اس میں ہر مکتب فکر کے لوگوں نے کوشش کی،خاص کر وسیم رضوی جس فرقے سے ہو نے کادعویدار ہے اس نے بھی بڑھ چڑھ کر اس کے رد وابطال میں حصہ لیا۔آل انڈیا علما ومشائخ بورڈ ہمیشہ ہی مسلم مسائل کو امن اور قانون کے دائرے میں رہتے ہوئے حل کر نے کی وکالت کرتا ہے۔الحمد للہ۔بورڈ کی اکثر شاخوں کی جانب سے اس کے خلاف احتجاج اور مظاہرہ ہوا،اور حسب قانون وانتظام میمورنڈم بھی جگہ جگہ پیش کیاگیا۔اور آئندہ بھی اس طرح کے مسائل میں اسی طرح کا لائحہ عمل طے کیا جائے گا۔البتہ میں عدالت عالیہ سے درخواست کروں گا کہ صرف جرمانے سے وسیم رضوی کے جرم پر پردہ نہیں ڈالاجاسکتا۔اسے ہر حال میں گرفتا رکیا جائے اور اسے قرار واقعی سزادی جائے۔بورڈ کے تمام رضا کاران،ممبران،اور عوام اہل سنت کا شکریہ جنھوں نے میری آواز پر لبیک ک ہتے ہوئے،بورڈ کے بینر تلے اس ملعون ک؁ خلاف جمع ہو کر اپنے جذبہ ایمانی کاثبوت پیش کیا۔اللہ تعالی ہمیں اسی طرح استقامت اور پامردی سے ملت کے کاموں کو کرنے کی توفیق رفیق ؑطا فرمائے۔آمین

Yati Narasimhanand hate speech creates communal divide, AIUMB calls for strict legal action

April 08,2021 New Delhi

All India Ulama and Mashaekh Board (AIUMB), an apex body of India’s Sunni Sufi Muslims have condemned the hate speech made by Yati Narasimhanand Saraswati, declaring him a ‘hate preacher disguised as sadhu sant’.

AIUMB Chhattisgarh branch has lodged a complaint against Narasimhanand Saraswati, saying that he’s trying to harm the syncretic culture and the peaceful Ganga-Jamani Tehzib of India. “He insulted Hazrat Muhammad ( pbuh), the benefactor of humanity and messenger of mercy for the whole world, and is making offensive remarks against his noble personality which is completely reprehensible”, the statement said. It should be noted that in Islam, religious leaders of any religion are respectable and to make insulting remarks against them, by using abusive words is haraam (strictly prohibited). Similarly, the person who hurt the feelings of millions of Muslims in India by abusing Prophet Muhammad (pbuh) should be considered a criminal and must be strictly dealt with as per the law of the land, it added.
Having stated the above, All India Ulama and Mashaekh Board Chattisgarh Unit led by Qari Mohammad Imran Ashrafi and General Secretary Noman Akram Hamid filed the report in Thana City Kotwali and requested the government and administration to take strict action against Narasimhanand and punish him.

In fact, the people of the organisation to which Narsinghanad is associated should also take action against him so that such people can be restrained, the AIUMB Chhattisgarh branch said.

It is a known fact that even before this incident, Yati Narasimhanand Saraswati has made inflammatory statements to disrupt social harmony and communal unity in the country. In one earlier incident, he insulated the Indian Ironmen and our former President Dr. A, P, J Abdul Kalam by calling him a ‘Pakistani agent’.

With such an absurd statement, this person has been defaming the respected national heroes of India, which we Indians cannot tolerate at all. Therefore, the administration should seriously and promptly rectify this gross violation of the law which is spewing venom and promoting communal disharmony. Then only the current anger in the Muslim community will end and such hate rhetoric can be curbed.

Source: ClickTV

Yati Narasimhanand hate speech creates communal divide, AIUMB calls for strict legal action

ऐआईयूएमबी छत्तीसगढ़ शाखा ने नरसिंहानन्द के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी

रायपुर, 06,अप्रेल, 2021
ऑल इंडिया उलमा व मशाएख़ बोर्ड 36 गढ़ यूनिट
ने नरसिंहानंद सरस्वती साधू संत के भेष में छुपे हुए दंगाई
के खिलाफ थाना सिटी कोतवाली में शिकायत दर्ज की।
नरसिंहानंद सरस्वती हिन्दोस्तान की गंगा जमनी तहज़ीब को खंडित करने वाला नेता है जिसने अपने एक इंटरव्यू में पूरे संसार के लिए रहमत और इंसानियत के मुहसिन हज़रत मुहम्मद ﷺ की शान में गुस्ताख़ी की और आप की शख्सियत पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहा है जो निंदनीय है यह भी स्पष्ट रहे कि इस्लाम धर्म में किसी भी धर्म के सम्मानित और धर्म गुरुओं को बुरा भला कहने से मना किया गया है, उसी धर्म के संस्थापक पैगम्बर ए इस्लाम के ख़िलाफ़ अपमानजनक शब्दो का इस्तेमाल कर उक्त व्यक्ति ने भारत के करोड़ो मुसलमानों की भावनाओं को ठेस पहुचाई है।
आज ऑल इंडिया उलमा व मशाएख़ बोर्ड 36 गढ़ यूनिट के उपाध्यक्ष क़ारी मोहम्मद इमरान अशरफ़ी एवं जनरल सेक्रेटरी नोमान अकरम हामिद की अगुआई में थाना सिटी कोतवाली में नामज़द रिपोर्ट कर शासन एवं प्रशासन से अनुरोध किया कि उक्त व्यक्ति के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई कर सज़ा दे और ये व्यक्ति जिस भी पार्टी से जुड़ा हुआ है उस पार्टी के लोग भी इस के खिलाफ ऐक्शन ले ताकि ऐसे लोगो पर लगाम लगे।
ज्ञात हो कि इससे पहले भी इसने सामाजिक समरसता और साम्प्रदायिक एकता को खंडित करने वाले बयान दिए हैं, कभी भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ.ए,पी,जे अब्दुल कलाम को पाकिस्तानी एजेंट बताकर भारतीय आयरनमेन का अपमान किया था।
अपने ऐसे बेतुके बयान से भारत के सम्मानित साधू संतो के समाज को भी ये व्यक्ति बदनाम कर रहा है जिसे हम कतई तौर पर बर्दाश्त नही कर सकते.
अतः प्रशासन इसपर गंभीरता पूर्वक अतिशीघ्र उचित करवाई करे ताकि समाज में उत्पन्न रोष का अंत हो और ऐसे बयानबाज़ों पर अंकुश भी लग सके

By: सलीम चिश्ती

وسیم رضوی کی سیاسی مفاد کے لئے گھٹیا حرکت: سید محمد اشرف کچھوچھوی

آل انڈیا علماء ومشائخ بورڈ کا عدالتی کارروائی کا انتباہ
نئی دہلی 13/مارچ(پریس ریلیز)
وسیم رضوی کے قرآن کریم کی 26/ آیات کو قرآن پاک سے ہٹانے اور مذکورہ آیات کو دہشت گردی کو فروغ دینے کا سبب قرار دیتے ہوئے سپریم کورٹ میں عرضی داخل کرنے پر آل انڈیا علما ومشائخ بورڈ کے قومی صدر و ورلڈ صوفی فورم کے چیئرمین حضرت سید محمد اشرف کچھوچھوی نے عدالتی کارروائی کی بات کہتے ہوئے عوام سے مشتعل نہ ہونے، احتجاج و مظاہرہ و جلسے اور سوشل میڈیا پر گالی گلوج نہ کرنے کی اپیل کی ہے۔ بورڈ کے صدر نے کہا کہ وسیم رضوی کی یہ حرکت صرف پبلیسٹی بٹورنے اور سیاسی مفادات حاصل کرنے کی غرض سے کی گئی گھٹیا حرکت ہے، ملحد وسیم رضوی نے قرآن کریم کے حوالے سے جو بد بختانہ اور گستاخانہ بیان دیاہے وہ کسی بھی طرح قابل قبول نہیں،یہ وہ مطالبہ ہے جس کی جرات وہمت پچھلی صدیوں میں بڑا سے بڑا دشمن اسلام نہیں کر سکا۔حتیٰ سرکار رسالت مآب کے زمانے میں اہل کتاب یہودونصاریٰ بھی نہ کر سکے۔افسوس کہ مسلمانوں کا ہمیشہ سے المیہ رہاہے کہ جوکام دشمن پوری طاقت وقوت کے باوجود نہیں کر سکتا اسے مسلمانوں میں سے دلال کھڑے کر کے کروانے کی کوشش کرتا ہے۔
حضرت نے مزید کہا کہ قرآن اللہ کی کتاب ہے اور رسول اکرم کا قیامت تک باقی رہنے والا معجزہ ہے جس میں تبدیلی کی ذرہ برابر بھی گنجائش نہیں،وسیم رضوی کی حرکت کوئی نئیبھی نہیں ہے،اس سے پہلے بھی کئی بار اسلام اور شعائر اسلام کے خلاف ایسی حرکتیں ہوتی رہی ہیں۔اسلام دشمن طاقتوں کو سب سے زیادہ تکلیف جس بات سے ہے وہ قرآن کا محفوظ ومامون ہو نا ہے،کیونکہ دنیا جہان کی کتا بیں بد ل گئیں مگر قرآن آج تک نہیں بدلااور یہ اس کی حقانیت کی دلیل ہے۔قرآن کریم میں صاف لکھا ہے کہ قرآن کو اللہ نے نازل کیا ہے اور وہی اس کی حفاظت کرنے والاہے۔لہٰذا قرآن پاک کا ایک لفظ بھی ادھر ادھر نہیں کیا جا سکتا۔ لیکن اس کا یہ بھی مطلب نہیں کہ ہم ہاتھ پر ہاتھ دھرے بیٹھے رہیں،بلکہ ہر قانونی طریقے سے اس کی مخالفت کی جائے،اس کے خلاف احتجاج درج کرایاجائے۔مگر صبر اور ہوش وحواس کادامن ہاتھ سے نہ جانے دیاجائے۔کسی بھی علاقے کے ذمہ داران جب آپ کو آواز دیں تو قانونی بالادستی قائم رکھتے ہوئے احتجاج میں شریک ہوں اور زیادہ سے زیادہ ضلع مجسٹریٹ اور گورنر کومیمورنڈم دیں۔اگر کورٹ میں کارروائی ہوتی ہے تو اس کو فالوکریں اور اپنا ہر ممکن تعاون پیش کریں۔

Husain Sherani

नफरत का इलाज सिर्फ मोहब्बत है, इसी से समाज का इलाज सम्भव: सय्यद मोहम्मद अशरफ

नफरत का इलाज सिर्फ मुहब्बत है इसे से समाज का इलाज संभव – सय्यद अशरफ

19 फरवरी 2021 शुक्रवार, अजमेर राजस्थान

हज़रत ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती रहमतुल्लाह अलैहि के उर्स के मौके पर आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने दुनिया भर में हज़रत ख़्वाजा गरीब नवाज से अकीदत रखने वालों को उर्स की बधाई देते हुए कहा कि दुनिया का इलाज सिर्फ मुहब्बत है ,क्योंकि मुहब्बत नाइंसाफी को खतम करती है और इंसाफ हर बुराई को खतम कर देता है ,क्योंकि बिना इंसाफ कायम किए अमन नहीं हो सकता।

नाइंसाफी से नफरत पनपती है और नफरत सिर्फ नुकसान कर सकती है इससे कोई फायदा हासिल नहीं किया जा सकता है,उन्होंने उर्स के मौके पर चिश्ती मंज़िल झालरा दरगाह अजमेर शरीफ में आयोजित बोर्ड की प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होंने यह विचार रखे।
बोर्ड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हज़रत अम्मार अहमद अहमदी उर्फ नय्यर मियां रुदौली शरीफ ने कहा कि समाज में हमेशा मुहब्बत का संदेश इन सूफियों की बारगाह से दिया जाता रहा है , इन वालियों की चौखट पर कभी किसी से उसका मज़हब,उसकी जात उसकी पहचान नहीं पूछी गई हमेशा बिना किसी भेदभाव के लोगों की ज़रूरत को पूरा किया गया यही वजह है कि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज़ के आंगन में एक ऐसा गुलदस्ता नजर आता है जिसमें हर रंग ,नस्ल के फूल है जो आप पर निसार हुए जाते है उन्होंने सभी को उर्स की मुबारकबाद दी।
बोर्ड के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हज़रत सय्यदी मियां मदारी मकनपुर शरीफ ने कहा कि आपसी भाईचारे की जो सीख सूफियों ने दी वह हमारे मुल्क की मजबूती की जमानत है अगर इसे तोड़ा गया तो देश का नुकसान तय है,मुहब्बत ही एक ऐसा रास्ता है जिससे दुनिया को खूबसूरत बनाया जा सकता है उन्होंने लोगों को उर्स की मुबारकबाद देते हुए कहा कि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज़ से अकीदत का पहला क़दम यह है कि सबसे मुहब्बत की जाए।
बोर्ड के कर्नाटक राज्य के प्रदेश अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हज़रत सय्यद तनवीर मियां ने कहा कि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज़ रहमतुल्लाह अलैहि का पैग़ाम नफरत किसी से नहीं मुहब्बत सबके लिए इस दौर में कामयाबी का नारा है क्योंकि जिस तरह हर रोज़ नफरत को परोसा जा रहा है और आग लगाने की कोशिश हो रही है यही पैग़ाम है जो हमें महफूज़ रख सकता है उन्होंने लोगों को उर्स की मुबारकबाद देते हुए कहा कि अब होशियार भी रहना होगा क्योंकि नफरत ने मुखौटा बदला है और मुहब्बत के आंगन को अपनी साजिशों के लिए इस्तेमाल करने का मंसूबा बना लिया है लिहाज़ा नफरत वाला अगर कोई संदेश या किसी नफरत के एजेंडे को पैरवी अगर यहां का सहारा लेकर की जाए तो समझ जाए कि यह नकली पैकिंग वाला है जिसने खाल ओढ़ ली है।
बोर्ड के राष्ट्रीय सचिव सय्यद सलमान चिश्ती ने लोगों को उर्स की मुबारकबाद देते हुए कहा कि दुनिया कोरोना के बाद काफी बदली है और हमने समझ लिया कि नफरत से सिर्फ नुकसान है और मुहब्बत ही अकेला रास्ता है कामयाबी का लिहाज़ा सभी हुज़ूर गरीब नवाज़ के पैग़ाम पर अमल करें।

इस मौके पर बोर्ड द्वारा मास्क का वितरण जायरीनों के बीच किया गया और देश एवम दुनिया की सलामती की दुआ की गई देश में मुहब्बत ,अमन,और इंसाफ कायम रखने का अज्म भी लिया गया।
यूनुस मोहानी

देश का माहौल खराब करने की हो रही है साजिश : सय्यद मोहम्मद अशरफ

07 जनवरी 2021 नई दिल्ली,
आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड के अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक नफरत के वाहक द्वारा हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज की शान में गुस्ताखी कर सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल करने पर सरकार से मांग की है कि इस तरह के लोगों पर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाये,क्योंकि इस तरह की बाते करने वाले देश के दुश्मन है और देश को तोड़ने की साजिश कर रहे हैं ,क्योंकि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज में हर धर्म और मजहब के लोग आस्था रखते हैं लिहाज़ा यह देश एवम दुनिया के करोडों करोड़ लोगों की भावनाओं को आहत करने वाला है और इस प्रकार देश का माहौल खराब करने की साजिश रची जा रही है।
उन्होंने कहा कि यह देश गंगा जमुनी तहजीब का देश है यहां सभी की भावनाओं का आदर होता है ऐसे में ऐसे लोग देश के हर कोने में नजर आ रहे हैं जो देश को कमज़ोर करने की कोशिश में दिन रात एक किए हैं यह साफ तौर से विदेशी साजिश जान पड़ती है ,हमारी सीमाओं पर अपनी गंदी नजर गड़ाये लोग हमारे मुल्क के माहौल को खराब करने के लिए इस तरह के लोगों को प्रोत्साहन से रहे हो सकते है इसकी गंभीरता से जांच होनी चाहिए और नफरत के वाहकों को तुरंत सलाखों के पीछे भेजा जाना चाहिए।
हज़रत ख़्वाजा गरीब नवाज़ की शान में गुस्ताखी किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जा सकती यह भारत की ज़मीन सूफ़ी संतों की ज़मीन है इनके दरबार से मुहब्बत का संदेश आम होता है और भारत की सुन्दरता यहां दिखाई देती है लेकिन यह नफरत के सौदागर इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रहे और विदेशी ताकतों के हाथों में खेल कर देश को कमज़ोर करने में लगे हुए हैं।
हज़रत ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री और ग्रह मंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि जल्द से जल्द ऐसे लोगों की गिरफ्तारी हो और देश का माहौल खराब करने वालों को सलाखों के पीछे धकेला जाए ,हज़रत ने कहा कि पूरे देश में अलग अलग जगहों पर इस प्रकार का काम ऐसे देशद्रोहियों के द्वारा किया जा रहा है अभी मध्य प्रदेश से जिस प्रकार धार्मिक स्थलों पर हमले के जो वीडियो वायरल हुए वह सब इसी ओर इशारा करते हैं।
उन्होंने कहा कि हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज पर भद्दी अपमानजनक टिप्पणी करने वाले व्यक्ति को तुरंत गिरफ्तार करने की हम मांग करते हैं भारत को कमज़ोर करने वालो को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता सरकार फौरन कार्यवाही करे ।

By: Yunus Mohani

रीयल्टी पर बात हो रियूमर्स पर नहीं : सय्यद मोहम्मद अशरफ

27 दिसंबर 2020, नई दिल्ली
आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड के अध्यक्ष एवम वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर मचे बवाल पर कहा है कि किसी को भी अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए बल्कि हकीकत पर बात होनी चाहिए ,मुंबई में एक मुस्लिम संगठन द्वारा यह बहस छेड़ी गई है कि जो वैक्सीन भारत में आ रही है उसमें इस्लाम में हराम की गई चीज़ों को इस्तेमाल किया गया है,इस बात से एक नई बात निकल पड़ी है।
हालांकि यह सवाल इंडोनेशिया से उठा जहां चीन में निर्मित कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल किया जाना है क्योंकि यह कहा जा रहा है कि उस वैक्सीन में इस्लाम में हराम पोर्क बेस्ड जिलेटिन का इस्तेमाल हुआ है लिहाज़ा इस वजह से मुसलमान इसे नहीं लगवा सकते और यही बहस हमारे मुल्क में आ पहुंची है जबकि हमारे यहां अभी चीन में निर्मित वैक्सीन को आयात करने का कोई फैसला नहीं हुआ है ,लिहाज़ा इस बहस का अभी कोई औचित्य नहीं है।
उन्होंने कहा लेकिन यह ज़रूरी है कि जो वैक्सीन भारत के लोगों को दी जानी है उसका कंपोजीशन लोगों को बताया जाये यह जानने का उनका हक़ है ,अगर ऐसी बात कही जा रही है तो उसमें कोई बुराई नहीं है क्योंकि हर दवा की पैकिंग पर उसमें इस्तेमाल की जाने वाली चीजों को लिखा जाता है अगर ऐसा कोई मामला है तो इसे भी लोगों को बता दिया जाना चाहिए इसमें कोई बुराई नहीं है।
हज़रत ने कहा लेकिन इसे विवाद का विषय बनाने का काम किसी को भी नहीं करना चाहिए क्योंकि इस वक्त इस महामारी से निपटने के लिए जो भी ज़रूरी है किया जाना है, क्योंकि जान बचाना फ़र्ज़ है और जान पर अगर बन आती है और इसके सिवा कोई विकल्प मौजूद नहीं है तो इसे है लगवाना होगा ,इसलिए इस पर पहले तहकीक होनी चाहिए फिर कोई बात कहनी चाहिए जोश में की गई बातों से सिर्फ समाज में गुमराही फैलती है ।
इससे पहले भी इस तरह के विवाद हो चुके हैं जब एक आयु्वेदिक दवा बनाने वाली कम्पनी के उत्पादों में मानव अस्थियों के प्रयोग की बात आई थी लिहाज़ा ऐसी कोई भी चीज जो हमारे जैन समुदाय के भाइयों ,हिन्दू समाज के लोगों और मुसलमानों के यहां धार्मिक रूप से वर्जित है उसका उपयोग किया गया है तो जानकारी देना आवश्यक है क्योंकि यह सभी की धार्मिक आस्था का सवाल भी है और अगर ऐसा कोई विकल्प मौजूद है जिसमें ऐसा तत्व शामिल नहीं है तो उसे प्राप्त करने का हक़ है वरना महामारी से निपटने के लिए जो भी आवश्यक होगा उसे सभी को लगवाना होगा ऐसे में किसी भी प्रकार का विवाद पैदा करना उचित नहीं होगा।अगर किसी बात पर सवाल उठा है तो उसकी हकीक़त भी बता दी जानी चाहिए इससे समाज में विश्वास बढ़ता है और सवाल का जवाब ना मिलने पर भ्रम फैलता है।

By: यूनुस मोहानी

सय्यद अफजल मियाँ देश के लिए गौरव थे : सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी

20, दिसंबर 2020, किछोछा, अम्बेडकर नगर
जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व रजिस्ट्रार और एडीजी (IPS) भोपाल मध्य प्रदेश के सय्यद मोहम्मद अफजल मियां देश के लिए एक अहम शख्शियत थे। आप एक खुश अख़लाक़, एक साहिबे किरदार शख्शियत हमारे बीच से रुखसत हुई है। आप बहुत ही नेकदिल और रहमदिल अफसर थे। इतना ऊंचा पद संभालने के बावजूद आप विनम्र स्वभाव और सहनशीलता के प्रतीक थे। बेशक, आपका निधन न केवल जमात-ए-अहल-ए-सुन्नत बल्कि पूरे देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है।
उक्त बातें आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन हजरत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने अपनी ख़ानक़ाह अशरफिया किछौछा मुकद्दसा में एक समारोह को संबोधित करते हुए व्यक्त की । हजरत ने कहा कि मरहूम अफ़ज़ल मियां देश की खिदमत के साथ-साथ दीनी तालीम से युवाओं को जोड़ने का उनका लक्ष्य निरंतर जारी था। देश की तरक्की और मज़लूमो को न्याय मिले इसलिए उन्होंने आईपीएस को चुना और समाज सेवा में जुट गए।
उन्होंने युवाओं को शिक्षित होकर ही उन मुकामों को हासिल करने का लक्ष्य बताया जिसके लिए आज का युवा सोच रखता है। दीनी तालीम के साथ साथ आज के हालात पर उनका विशेष ध्यान रहता था। निश्चित ही हम सबको यह कमी सदियों तक महसूस होगी। हज़रत सय्यद अफ़ज़ल मियाँ बरकाती मारहरवी का निधन एक बहुत बड़ी क्षति है जिसकी भरपाई मुश्किल है। हज़रत ने अंत में दुआ फ़रमाई की अल्लाह तआला आपके दरजात बुलन्द फरमाए और घर परिवार और अकीदतमंदों को सब्र अता फरमाए ,आमीन

By: नुरूलहुदा मिस्बाही। भारत डेली न्यूज

जिससे मुल्क में खुशहाली आती हो उस बात का समर्थन : सय्यद मोहम्मद अशरफ

13 दिसंबर,2020,नई दिल्ली,रविवार
आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने एक बयान जारी कर कहा कि हम हर उस बात का समर्थन करते हैं जिससे देश के हर नागरिक को उसका हक़ मिलता हो और देश में खुशहाली आती हो।
उन्होंने कहा कि देश में जिस तरह देश का किसान सड़कों पर है और लगातार हुकूमत से कृषि बिल वापिस लेने की मांग की जा रही है उसमें सरकार और किसानों दोनों के जरिए अलग बात की जा रही है, जहां किसानों की बात है उनका मानना है कि यह देश के किसानों के हक़ में नहीं वहीं सरकार कह रही है कि यह किसानों को बहुत फायदा पहुंचाने वाला है,लेकिन सरकार ने काफी हद तक कानून में बदलाव की बात की है जिससे यह समझ तो आता है कि कुछ कमी ज़रूर रह गई ऐसे में गंभीरता से विचार की ज़रूरत है।
हमारा मुल्क खेती पर निर्भर है ऐसे में अपने खेत छोड़ कर किसान सड़क पर हैं इससे देश का नुकसान हो रहा है लिहाज़ा सरकार को इस पर फौरन फैसला लेना चाहिए और इस गतिरोध को समाप्त करना चाहिए, उन्होंने कहा कि किसी भी हाल में आंदोलन को मज़हबी रंग नहीं देना चाहिए और न हीं इसे हिंसक होना चाहिए जिस तरह कुछ पोस्टर को लेकर विवाद हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण है।
सभी गतिरोध के बाद भी देशहित सर्वोपरि रखना है इसे सरकार को भी समझना चाहिए, उन्होंने कहा कि हर जायज़ मांग का हम समर्थन करते हैं जिससे देश का फायदा होता है हर उस बात का विरोध सबको करना चाहिए जिससे देश का अहित होता है।
हज़रत ने कहा कि हमारा काम है कि देश की और देश के लोगों की दोनों की सेवा करें, अभी हमारे देश के लोग सड़कों पर अगर आये है तो भी हमारा कर्तव्य है कि इनकी सेवा सत्कार की जाये, यह बात सरकार को भी समझ आनी चाहिए, उन्होंने कहा कि हमने बोर्ड के लोगों को निर्देशित किया है कि वह खिदमते खल्क के जज्बे के साथ लोगों की खिदमत करें और लोगों की परेशानी में काम आयें यही धर्म है,।
उन्होंने यह भी कहा कि देश के किसानों की जायज़ मांगों को सरकार को फौरन मान लेना चाहिए और इस मसले को जल्द से जल्द हल करना चाहिए ।

By: Yunus Mohani

अग्निकांड में तबाह परिवारों के साथ खड़ा है बोर्ड, जल्दी मिलेगा प्रतिनिधिमंडल: सय्यद अशरफ

29 नवंबर रविवार,नई दिल्ली,
आल इंडिया उलमा मशाइख़ बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने संजरी चौक मालेगांव महाराष्ट्र में हुए भीषण अग्निकांड पर अफसोस जताते हुए कहा है कि ऐसे दौर में जब कोरोना महामारी की वजह से कारोबार चौपट है ऐसे में जिन लोगों के आशियाने जल गए हम सब उनके साथ खड़े है आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड का एक प्रतिनिधिमंडल जल्द ही मौके पर पहुंच कर जिन लोगों का नुकसान हुआ है उनसे मुलाक़ात करेगा और मुमकिन मदद करने की कोशिश करेगा,
हज़रत ने कहा कि सभी का फ़र्ज़ है कि वह मुसीबतजदा लोगों की मदद को आगे आएं बिना किसी भेदभाव के यही हमारा इन्सानी और दीनी फरीजा है ग्यारहवीं के इस मुकद्दस महीने में इस बार गौसे आजम की न्याज को इस तरह भी करे क्योंकि इस बार हर साल की तरह घरों में ढेग पकवा कर आप लोगों को बुला कर नहीं खिला पा रहे हैं क्योंकि महामारी का दौर चल रहा है तो इसे इस तरह किया जाए कि इस तरह जहां ज़रूरत है वहां हम खुद को पहुंचाएं और परेशान लोगों की मुमकिन मदद करें।
हज़रत ने महाराष्ट्र सरकार से भी अपील की है कि वह पीड़ित परिवारों को उचित मदद करे ताकि उनके नुकसान की भरपाई की जा सके।
उन्होंने कहा कि लोगों की मदद करते वक्त उनका मजहब,मसलक और जात पात न देखी जाए बल्कि हर परेशानहाल की मदद को आगे आया जाए इससे जहां हमसे हमारा खुदा खुश होगा वहीं समाज में मोहब्बत भी फैलेगी जो नफरत के जहर को खतम कर देगी।

By: यूनुस मोहानी