ऑल इंडिया उलमा माशाईख बोर्ड के कार्यकर्ताओं ने वृक्षारोपण कर मनाया अपने अध्यक्ष का जन्मदिन।

5 जुलाई 2020, नौतनवां महाराजगंज
ऑल इंडिया उलमा माशाइख़ बोर्ड के कार्यकर्ताओं ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफ़ी फोरम के चेयरमैन विश्वविख्यात इस्लामिक धर्मगुरु हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी का जन्मदिन वृक्षारोपण कर मनाया इस अवसर पर लोगों ने अलग अलग स्थान पर पेड़ लगाये ।
देश के हर हिस्से में आल इंडिया उलमा व मशाइख़ बोर्ड के कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर पेड़ लगाये और ज़मीन को हरा भरा रखने का संकल्प दोहराया वैसे भी स्वयं बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने हर मौके पर लोगों से पेड़ लगाने की अपील की है ताकि हमारे इस काम से हम अपनी आने वाली नस्लों को शुद्ध हवा दे पाएं।वहीं इसके साथ हज़रत सय्यद अशरफ किछौछवी ने यह भी कहा कि पेड़ लगाते वक्त यह भी याद रखना चाहिए कि हमें पेड़ जैसा बनना है जो हमें हवा देता है,फल देता है , छाया देता है और जब सूख जाता है तो जलाने के काम आता है और किसी से उसका मजहब उसकी ज़ात उसका मसलक नहीं पूछता यही सूफिया का तरीका रहा है।उनकी इसी बात से प्रेरणा लेकर आज उनके जन्मदिन पर बोर्ड के कार्यकर्ताओं ने वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया।
महाराजगंज में हाजी सय्यद इफ्तेखार साहब, मौलाना कमरे आलम अलीमी साहब, सय्यद अफ़ज़ाल अहमद, सय्यद वहाज अहमद, सय्यद मोहम्मद अता, सय्यद मोहम्मद हस्सान, सय्यदा हिबा बतूल शकील हाशमी आसिफ हाशमी, वसीम सिद्दीकी,मोहम्मद अतीक़ अंसारी ओलमा मशाइख़ बोर्ड के जिला अध्यक्ष मौलाना बरकत हुसैन मिस्बाही व मीडिया इंचार्ज मास्टर शमीम अशरफी ने नौतनवां के G N मार्केट कंपाउंड में वृक्षारोपण कर राष्ट्रीय अध्यक्ष का जन्मदिन मनाया।

पौधारोपण अभियान में जुटा ऑल इंडिया उलमा मशाइख बोर्ड

मस्जिद ग़रीब नवाज़ के संस्थापक हाजी सय्यद इफ्तेखार हुसैन के हाथों हुआ पौधरोपण

13 जून महाराजगंज,
आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड की महाराजगंज शाखा द्वारा कोरोना वायरस की महामारी के बीच में एक अनूठा अभियान शुरू किया गया है , पौधारोपण अभियान जिसके अन्तर्गत लगातार अलग अलग जगहों पर पेड़ लगाये जाने हैं,इस बात की जानकारी आल इंडिया उलमा मशाईख बोर्ड महाराजगंज शाखा के प्रवक्ता मास्टर शमीम अशरफी ने दी।


मस्जिद ग़रीब नवाज़ के संस्थापक एवं व्यस्थापक हाजी सय्यद इफ्तेखार हुसैन साहब ने
बताया कि पेड़ लगाना सुन्नत है कोरोना की वजह से जिस तरह लोगों ने देखा कि प्रकृति ने खुद को दुबारा से रिचार्ज किया लिहाज़ा अब हम सब की बड़ी ज़िम्मेदारी है कि इसे अब दूषित न करें ,खूब पेड़ लगाए ताकि आने वाले समय में पूरी पृथ्वी पहले ही की भांति हरी भरी नजर आए उन्होंने बताया कि बोर्ड का यह राष्ट्रव्यापी अभियान कई वर्षों से चल रहा है और बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी के आह्वाहन पर मुसलमानों के सभी त्योहारों पर यह कार्य किया जाता रहा है ,और जहां मानवता के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वाह बोर्ड द्वारा किया जा रहा है भूखों को खाना खिलाया जा रहा है वहीं आने वाली नस्लों को साफ हवा मिले इसके लिए भी प्रयास तेज हैं।

और इसी अभियान के अन्तर्गत मस्जिद ग़रीब नवाज़ के संस्थापक एवं ओलमा मशाइख़ बोर्ड महराजगंज के सरपरस्त हाजी सय्यद इफ़्तेख़ार हुसैन ने मस्जिद कम्पस में पौधे लगाए।और लोगों से भी एक व्यक्ति एक पौधा अभियान में जुड़ने की अपील की।
इस मौके पर मौलाना क़मर आलम अलीमी साहब, डॉक्टर नेहाल अशरफी, सय्यद सेराज अहमद, सय्यद अफ़ज़ाल अहमद सय्यद वक़ार अहमद, सय्यद वहाज अहमद, शकील हाशमी, आसिफ हाशमी साहबान मौजूद रहे।

रमज़ान के सबक को पूरे साल याद रखने के अज़्म लेने का दिन है ईद : सय्यद अशरफ

25 मई ,दिल्ली
आल इन्डिया उलमा व मशाईख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फ़ोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने देश एवम दुनिया के तमाम लोगों को ईद के पर्व की बधाई देते हुए कहा कि ईद का दिन हमने जो इबादतें की है पूरे रमज़ान के महीने में हमारे अल्लाह से उसकी मजदूरी मिलने का दिन है ,उन्होंने आगे कहा कि याद रखिए यह दिन सिर्फ खुश होने के लिए नहीं बल्कि इस बात का अपने रब से वादा करने का भी दिन है कि हमने माहे रमज़ान में जो सीखा है पूरे साल हम उस पर अमल करेंगे ,हमने खुद भूखा रह कर जो उन लोगों की भूख का अहसास किया है जिनके पास खाना नहीं है लिहाज़ा हम यह पूरी कोशिश साल के आइंदा महीनों में भी करते रहेंगे कि कोई भूखा न सोने पाये अगर ऐसा न हुआ तो रमज़ान का सबक हमने लिया ही नहीं।
हज़रत ने कहा कि पूरी दुनिया कोरोना की आफत से दो चार हैं लिहाज़ा हमें मदद का सिलसिला बंद नहीं करना है और लोगो की मदद करते रहना है ,इस बार की ईद एक अलग ही तरह की है जहां हम लोगो को गले नहीं लगा पायेंगे लेकिन इस बार दिल ज़रूर जुड़ें हैं गले मिलने का दिखावा नहीं है दिल मिले हैं क्योंकि इस लॉकडाउन ने हमें रिश्तों की अहमियत समझाई है हमें हमारे पड़ोसी के लिए हमारा फ़र्ज़ याद दिलाया है लिहाज़ा यह ईद ज़्यादा खुशी की ईद है।
हमें ईदगाहों में नमाज़ न पढ़ पाने का गम है लेकिन हम अल्लाह के बन्दों की मदद कर अपने रब का शुक्र अदा कर रहे हैं कि मालिक तूने हमें इस लायक बनाया कि हम तेरे बन्दों की मदद कर सके।उन्होंने कहा कि सभी लोग अपने घरों में रहकर ईद मनाएं अपने वालिदैन ,अपने बीवी बच्चो,भाई बहनों के साथ और सब मिलकर अपने रब से दुआ करें कि दुनिया जल्द इस कहर से आज़ाद हो और हम सब मस्जिदों को अपने सजदों से सजा दें।
उन्होंने कहा कि लॉकडाउन 31 मई तक है तो इस बार हमारे पास शव्वाल के 6 रोज़े रखने का पूरा मौका है जो पहले हम अपनी काहिली की वजह नहीं रख पा रहे थे इस बार हम अपने अल्लाह को राज़ी करने के लिए उसका भी एहतमाम करें,अपना फितरा जरूरतमंद तक ईद की नमाज़ से पहले पहुंचा दें और फिर अपने घर में अपने रब का शुक्र अदा करें।
सभी को ईद की खूब मुबारकबाद इस दुआ के साथ कि मालिक दुनिया को इस आफत से अपने हबीब के सदके आज़ाद कर दे और दुनिया में हर बीमार को शिफा दे,परेशानहालों की परेशानी दूर फरमाए और हमारा मुल्क अमन का गहवारा बने और खूब तरक्की करे।

Yunus Mohani

ईद के नाम पर फिज़ूलख़र्ची के बजाये ज़रूरतमंदों की मदद करे मुसलमान: ए.आई.यू.एम.बी

उलमा मशाइख बोर्ड की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

04 मई, शेरानी आबाद, नागौर , राजस्थान

आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड दिल्ली के ज़िम्मेदार हाफिज हुसैन शेरानी ने बताया कि बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फ़ोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी समेत बोर्ड एग्जीक्यूटिव कॉउंसिल की ईद को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग मीटिंग हुई जिस में भारतीय मुसलमानों से अपील करते हुए कहा गया कि:
रमजानुल मुबारक के पूरे महीने में विशेष रूप से आखिरी अशरे में अच्छी तरह से इबादत करें, सरकार द्वारा बरती जाने वाली सावधानियों का पालन करें और कोरोनो वायरस के खात्मे के लिए दुआ करें, पूरी दुनिया और हमारा प्यारा देश भारत कोरोना वायरस से परेशान है, एक हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं, हजारों मरीजों का इलाज किया जा रहा है, अर्थव्यवस्था प्रभावित है, पूरा देश निराशा की स्थिति में है, ऐसे हालात में ईद के नाम पर ज़्यादा फ़िज़ूल खर्ची न करें, कपड़ों की खरीदारी हरगिज़ न करें , बल्कि नए के बजाय पुराना साफ सुथरा कपड़ा पहनें, और ज़रूरतमंदों की मदद करें, रमजान के आखिरी दिनों में अगर बाजार खुल भी जाए तो कृपया खरीदारी के लिए न जाएं, भीड़ जमा होगी तो खतरा है कहीं आप वायरस का शिकार न हो जाएँ, एक अच्छा भारतीय होने के नाते हमारी नैतिक ज़िम्मेदारी है हम इस आज़माइश के दौर में ईदुल फ़ित्र सादगी, और चुप्पी के साथ मनाएं, फितरा आखिरी अशरा से पहले अदा करने की कोशिश करें ताकि ज़रूरतमंदो तक उनका हक़ पहुँच जाए और अपने इलाक़े के इमाम व मोअज़्ज़िन का खास ख्याल रखें।


मीटिंग में कनाडा से शाह हसन जामी, कर्नाटक से हज़रत सैय्यद तनवीर हाशमी, महाराष्ट्र से हज़रत सैय्यद आलमगीर अशरफ, तेलंगाना से हज़रत सैय्यद आले मुस्तफा पाशा, यूपी से हज़रत सय्यदी मियां, यूनुस मोहानी, दिल्ली से हज़रत सैय्यद फरीद निज़ामी, मौलाना मकबूल और राजस्थान से हाजी सैय्यद सलमान चिश्ती व हुसैन शेरानी शामिल रहे.

आख़िर में कोरोना वायरस की महामारी से छुटकारा पाने के लिए ख़ास दुआ की गई ।

By: Husain Sherani

उलमा मशाईख बोर्ड दिल्ली व अल अशरफ ट्रस्ट का रमज़ान में राशन बाँटने का सिलसिला जारी !

26 अप्रैल 2020, नई दिल्ली

आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड और अल अशरफ ट्रस्ट के तत्वाधान में ज़रूरतमन्द व असहाय लोगों तक मदद पहुंचाने का सिलसिला रमज़ान के मुबारक महीने में भी जारी है, बोर्ड के लोग हर जगह ज़रूरतमंदों तक राशन किट और दूसरी ज़रूरी सहायता पहुंचा रहे हैं।
बोर्ड दिल्ली शाखा के सेक्रेटरी सय्यद शादाब हुसैन रिज़वी अशरफी के नृतत्व में सय्यद सऊद अख्तर व उम्मे फातिमा अशरफ अन्य के साथ मिलकर दिल्ली में लॉक डाउन के पहले दिन से दिल्ली के कोने कोने में पहुँच कर हक़दार तक राशन पहुँचा रहे हैं, यह सिलसिला रमज़ान शरीफ में भी जारी है, पहले रोज़े बोर्ड दिल्ली शाखा ने लगभग 100 हक़दार घरों तक राशन पहुँचाया ताकि उन्हें रोज़े रखने में कोई परेशानी पेश न आए.

बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी की लोगों से हर जरूरतमंद शख्स की हर संभव मदद पहुंचाने की अपील के बाद से राष्ट्रीय स्तर पर यह काम किया जा रहा है।

बोर्ड ने सभी से अपील की है कि देशभर में लोग सिर्फ अपने घर के 100 मीटर के दायरे की ज़िम्मेदारी उठा लें तो पूरे देश में कहीं कोई भूख से नहीं मर सकता, इस तरह हम भूख के साथ कोरोना को हरा कर नई तारीख लिख सकते हैं कि जिस देश में इतनी बड़ी आबादी रहती हो वहां लाकडाउन के बावजूद भी लोगों ने यह बताया कि इंसानियत के जरिए हम बड़ी से बड़ी चुनौती को पार कर सकते हैं। नबी की तालीम यही है कि अगर तुम्हारा पड़ोसी भूखा है और तुम खाना खा रहे हो तो तुम हरगिज़ मोमिन नहीं हो सकते, देश के 30 करोड़ मुसलमान इस पर अमल कर देश के सभी भूखों का पेट भर दे इसके लिए उन्हें सिर्फ 2 लोगों के खाने का इंतजाम करना है।

हक़दार तक हक़ पहुँचाना असल इबादत : सय्यद मोहम्मद अशरफ

22 अप्रैल, बुधवार: किछौछा अम्बेडकर नगर।
आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्ल्ड सूफी फ़ोरम के चेयरमैन हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी अपनी ख़ानक़ाह खानकाहे अशरफिया शैखे आजम सरकारें कलां में बोर्ड और अल अशरफ ट्रस्ट के तत्वाधान में पिछले कई दिनों से हक़दार तक उनका हक़ पहुंचा रहे हैं, लगातार यहां से जरूरतमंदों को राशन बांटा जा रहा है, रमज़ान राशन किट के तौर पर ख़ानक़ाह से लगभग 600 हक़दार घरों तक राशन पहुँचाया जायेगा।
इस मौक पर हज़रत ने कहा कि रमज़ानुल मुबारक का पाक महीना शुरू होने वाला है, हमारी ज़िम्मेदारी बनती है लोगों तक राशन पहुँचाया जाये ताकि रमजान में उन्हें रोज़े रखने की कोई परेशानी पेश ना आये। उन्होंने कहा कि रमज़ान के महीने में हम खुसूसी इबादतें करते हैं लेकिन कोरोना वायरस की वजह से हुकूमत ने लॉक डाउन लागू कर रखा है और शरीअत ने भी इंसानी ज़िंदगी को बड़ी एहमियत दी है इसलिए इंसानी ज़िंदगी की हिफाज़त करते हुए एहकामे शरीअत की पाबन्दी की जानी चाहिए।
हमें चाहिए, लॉक डाउन में पिछले दिनों की तरह इमाम, मोअज़्ज़िन समेत सिर्फ पांच लोग पांच वक़्त की नमाज़ों की तरह तरावीह का भी एहतेमाम करें । ज़्यादा से ज़्यादा क़ुरान मजीद की तिलावत की जाये, कहीं भी किसी भी हालत में भीड़ नहीं लगानी है , हमारी दीनी और समाजी दोनों ज़िम्मेदारी है कि कहीं कोई भूखा न रह जाए, इसका खास ख्याल रखें।
हज़रत ने खुसूसी कहा, लाउड स्पीकर का इस्तेमाल सेहरी और इफ्तार का वक़्त बताने के लिए छोटे से एलान के लिए किया जाये और सेहरी के लिए जगाने वगैरह के लिए लाउड स्पीकर का इस्तेमाल न करें।
उन्होंने रमज़ानुल मुबारक में लोगों से घर में ही रहकर इबादत करने और कोरोना वायरस की महामारी से छुटकारा पाने के लिए ख़ास दुआ करने की अपील की ।

By: Husain Sherani

AIUMB मुरादाबाद शाखा ने ज़रूरतमंदो को राशन और ज़रूरी सामान बांटा

8 April, Moradabad
आल इंडिया उलेमा व मशाईख बोर्ड ज़िला मुरादाबाद की शाखा के ऑफिस अशरफ नगर नसीरपुर मदरसा अल्जामीअतु साबिरा लिल बनात में बोर्ड के जिम्मेदारो ने गरीब मजदूर और ज़रूरतमंदो को राशन और ज़रूरी सामान बांटा। मुरादाबाद शाखा के ज़िला सचिव कारी मो आमिर रज़ा अशरफी ने बताया कि राशन के सामान में आटा चावल दाल तेल चीनी चाय की पत्ती दूध खर्च पानी के लिये कुछ पैसे भी बाटे गये। बोर्ड के ज़िला कनवेनर कारी हसनैन अशरफी , कारी मजहर अशरफी , मौलाना नासिर अशरफी , मौलाना शफीक मिस्बही ,मौलाना नसीम अशरफी , कारी नजारुल हसन, मो. रज़ा, आदि ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। बताते चलें कि बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष सय्यद मो अशरफ किक्छौछवि के हुक्म पर पूरे मुल्क की शाखाओं के ज़रिए मदद का कार्य चल रहा है। और बोर्ड ने शबे बारात के मौके पर अपने घरों में रह कर ही इबादत करने और कब्रिस्तान में ना जाकर घर पर ही फातिहा और दुआ करने की अपील की है। एवं पूर्णबंद का पूरी तरह से पालन करने और मुल्क की सलामती की अपील की है।

AIUMB सम्भल शाखा के ज़िम्मेदारों ने बांटा ज़रूरत मंदों को राशन किट

8 April, Sambhal.
अल अशरफ ट्रस्ट व आल इंडिया उलेमा मशाइख़ बोर्ड यूथ ब्रिगेड की टीम भी लॉक डाउन में राहत सामग्री बांटने में जुट गई है। बुधवार की देर शाम दोनो संगठनों ने राशन किट का वितरण किया। लॉक डाउन में ज़़्रूरत मंदों व असहाय लोगों को भूखे पेट न रहने का निर्णय लेते हुए पदाधिकारी किट लेकर लाक डाउन की वजा सै ज़रूरत मंदों के घर पहुंचे। जानकारी के अनुसार 20 किलो वज़नी किट में घरेलू खानपान का सभी जरूरी सामान रखा गया है। फहद शाह अशरफी, मोहम्मद अशरफ़ अशरफी, हाजी नकी, गुल फ़राज़, शुऐब अशरफी, मौलाना अज़ीम अशरफ (हेड ऑफ़िस ए॰आई॰यू॰एम॰बी॰ दिल्ली ), हाजी नकी,कासिम अशरफी, जाने आलम, आफताब, मोहम्मद बिलाल, कारी इरफान, कारी मुशर्रफ़, कारी शमीम अहमद, कारी वसीम, कारी फहीम, सग़ीर अहमद, कारी फुरकान अशरफी आदि शामिल रहे।

उलमा व मशाईख बोर्ड ने बेहतर कार्य के लिये पुलिस टीम को सम्मानित किया

9 April, Moradabad.

कोरोना वाइरस के इस कहर में डाक्टर, पुलिस और सफाई कर्मी एक योद्धा की तरह डट कर कार्य कर रहें हैं। इसी को देखते हुए मुरादाबाद जिले की आल इंडिया उलेमा व मशाईख बोर्ड के जिम्मेदारों ने बोर्ड के ज़िला कार्यालय अशरफ नगर नसीरपुर के मदरसा अल्जामिअ तुस्सबीर लिल बनात पर थाना ज़िला मुरादाबाद थाना मैनाठेर की पुलिस टीम को थाना प्रभारी मनोज कुमार और उनकी टीम को उनकी बेहतर कार्य के लिये उन्हे हार माला पहना कर एवं गुलाब के फूल देकर सम्मानित किया। और उसके हौसलों की तारीफ की।
बोर्ड के ज़िला सचिव कारी मो आमिर रज़ा अशरफी और मौलाना हसनैन अशरफी,.मौलाना नासिर अशरफी ,कारी मज़हरुल हसन अशरफी ,ने जनता से पूर्ण बंद का मुकम्मल तौर पर पालन करने एवं पुलिस प्रशाशन का सहयोग और उसका हौसला बढ़ाने की अपील की।

घरों में रहकर कोरोना को और आपसी सहयोग से भूख को हराना है : AIUMB

उलमा मशाईख बोर्ड व अल अशरफ ट्रस्ट ने शेरानी आबाद में राहत बांटी।

12 अप्रैल 2020 रविवार , शेरानी आबाद, नागौर, राजस्थान,

आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड और अल अशरफ ट्रस्ट के तत्वाधान में गरीब और असहाय लोगों तक मदद पहुंचाने का सिलसिला दूर दराज गावों में पहुंच चुका है और बोर्ड के लोग हर जगह ज़रूरतमंदों तक राशन किट और दूसरी ज़रूरी सहायता पहुंचा रहे हैं।
दिल्ली ऑफिस के ज़िम्मेदार हाफ़िज़ हुसैन शेरानी ने मोहम्मद खान, गौस मोहम्मद, मोहम्मद रफीक व अन्य के साथ मिलकर इसी कड़ी में शेरानी आबाद के गौसिया मोहल्ला में राहत बांटी, लगातार यह सिलसिला जारी है, बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी की लोगों से हर जरूरतमंद शख्स की हर संभव मदद पहुंचाने की अपील के बाद से राष्ट्रीय स्तर पर यह काम किया जा रहा है।
बोर्ड ने सभी से अपील की है कि देशभर में लोग सिर्फ अपने घर के 100 मीटर के दायरे की ज़िम्मेदारी उठा लें तो पूरे पूरे देश में कहीं कोई भूख से नहीं मर सकता, इस तरह हम भूख के साथ कोरोना को हरा कर नई तारीख लिख सकते हैं कि जिस देश में इतनी बड़ी आबादी रहती हो वहां लाकडाउन के बावजूद भी लोगों ने यह बताया कि इंसानियत के जरिए हम बड़ी से बड़ी चुनौती को पार कर सकते हैं। नबी की तालीम यही है कि अगर तुम्हारा पड़ोसी भूखा है और तुम खाना खा रहे हो तो तुम हरगिज़ मोमिन नहीं हो सकते, देश के 30 करोड़ मुसलमान इस पर अमल कर देश के सभी भूखों का पेट भर दे इसके लिए उन्हें सिर्फ 2 लोगों के खाने का इंतजाम करना है।

Yunus Mohani