अपने बच्चों को दीनी तालीम से आरास्ता करें मुसलमान: मौलाना किछौछवी

संभल (उत्तर प्रदेश)
शिक्षा को इस्लाम में प्राथमिकता दी गई है और शिक्षा ग्रहण करना हर मुसलमान का कर्त्तव्य है। हमें चाहिए कि अपने बच्चों को दीनी तालीम से आरास्ता करें। तालीम हासिल करके ही व्यक्ति ज़लालत और गुमराही के अंधेरे से बच सकता है।इन विचारों को हज़रत मौलाना सैयद मोहम्मद अशरफ किछौछवी (संस्थापक एवं अध्यक्ष ऑल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड) ने सैफ खां सराय, संभल में ग़ौसुल आलम मेमोरियल एजुकेशनल सोसायटी द्वारा आयोजित दारुल उलूम ग़ौसुल आलम के दस्तारबंदी के मौके पर आयोजित एक सभा में किया। मौलाना किछौछवी ने कहा कि ज्ञान की रोशनी लेकर निकलने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है कि वह समाज में फैली बौद्धिक अंधेरे को दूर करें। नबवी शिक्षाओं की भरोसेमंद दस्तार का तकाजा है कि लोगों को अज्ञान के दलदल से निजात दिलाई जाए। उन्होंने कहा कि इसकी शुरुआत नैतिक रूप से परिपक्वता और मजबूती से करनी चाहिए। हर धर्म प्रचारक के लिए आवश्यक है कि पहले वह सीरते नबवी का अध्ययन करे उसके बाद प्रचार प्रसार का कार्य करे जिसे कुरान ने खुलके अज़ीम से याद किया है। नफरतों, तिरस्कार और मानव जाति के अपमान के बजाय सूफ़िया का व्यवहार यानी प्रेम, भाईचारे, सहानुभूति को बढ़ावा देने की सख्त जरूरत है। मुस्लिम क़ौम जहां धर्म से दूरी और बेरग़बती का शिकार होती जा रही है। खुद इसके लिए व्यावहारिक नमूना बनकर दूसरों को उसकी दावत देनी होगी। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि दीन सिर्फ शरई उलूम की पासदारी नहीं करता बल्कि उस पर अमल करने के लिए दुनियावी तक़ाज़ों कि की भरपाई की तरग़ीब देता है। सभा का आगाज़ कारी मोहम्मद शोएब अशरफी की तिलावत से हुआ। बदायूं से तशरीफ़ लाए कारी सैयद गुलाम अली अशरफी ने नात व मन्क़बत के नज़राने पेश किये। हज़रत मुफ्ती सैयद वसीम अशरफ बदायूंनी ने किताब व सुन्नत की रौशनी में फ़ज़ाइले अहले बैत पर ख़िताब किया। हज़रत अल्लामा मुफ्ती सईद वाक़िफ़ अली अशरफी (प्रिंसिपल जामिया सोफिया, किछौछा शरीफ) के अलावा अन्य स्थानीय-उलमा ने भी नसीहत में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। जलसा की क़यादत हजरत मौलाना हाफ़िज़ सखावत हुसैन अशरफी ने फ़रमाई और सञ्चालन कारी राहत अली अशरफी ने किया। बैठक में शकील अहमद अधिवक्ता (महासचिव संभल अयूब) मौलाना खलील, कारी आमिर अशरफी , कारी एहसान, कारी गुलजार अहमद, मोहम्मद इरफ़ान अशरफी, हाजी रियाज़ुल हुसैन, हाफिज अब्दुल कादिर, मोहम्मद शादाब, मोहम्मद आदिल , अब्दुल गफ्फार अशरफी, हाफिज कमर आलम के अलावा हजारों की तादाद में फरज़नदान तौहीद ने शिरकत फरमाई। जलसा का समापन सलात सलाम और देश में शांति और खुशहाली की दुआ पर हुआ।

मदरसे दीन का क़िला हैं,यहाँ से हमेशा शांति व भाई चारे का पैगाम दिया गया है

सैयद मोहम्मद अशरफ किछौछवी
सूफ़िया ए किराम ने दुनिया के सामने धर्म का प्रचार करने के लिए सुन्नते रसूल ﷺका अहसन तरीक़ा पेश किया। उन्होंने भारतीय सभ्यता और संस्कृति अपनायी और लोगों के साथ प्यार, मोहब्बत और ख़ुलूस का बर्ताव किया और आपके पास आने वाले से उसके धर्म और जाती न पूछते हुए उसके दुःख दर्द को दूर करने की कोशिश की। यही कारण है कि उनके किरदार और अख़लाक़ की बदौलत लाखों की संख्या में लोगों ने इस्लाम क़ुबूल किया।
उक्त विचार हज़रत मौलाना सैयद मोहम्मद अशरफ किछौछवी (संस्थापक एंव अध्यक्ष आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड) ने कलियर शरीफ में अल जामिया तुल अशरफ़ीअ ज़िया ए मखदूम के संगे बुनियाद के अवसर पर जलसा को संबोधित करते हुए व्यक्त किये।
उन्होंने मुसलमानों के पिछड़ेपन का ज़िक्र करते हुए कहा कि हमारी इस बुरी दशा का कारण क़ुरआन व हदीस की शिक्षाओं का पालन न करना है। सूफ़ी विद्वानों ने प्रेम, भाईचारे, और मानव सेवा का जो पाठ पढ़ाया है उस पर अमल करके ही हम सफलता की राह पर अग्रसर हो सकते हैं।
मौलाना किछौछवी ने कहा कि हमारी ज़िम्मेदारी है कि बुज़ुर्गाने दीन ने इस्लाम की जिन शिक्षाओं को हम तक पहुँचाया है उन पर अमल करें और अपने किरदार व अमल द्वारा इस्लाम की सही तस्वीर पेश करें। मौलाना ने ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ का कथन ”मुहब्बत सबके लिए नफरत किसी से नहीं”का हवाला देते हुए कहा कि हमें शांति, प्रेम और भाईचारे का वातावरण बनाये रखना है और देश के विकास और खुशहाली में अपना रोल अदा करना है।
क़ारी मुशर्रफ हुसैन ने कहा कि मदरसे दीन का क़िला हैं और दीन की तब्लीग में उनका महत्वपूर्ण चरित्र है। मदरसों ने बुज़ुर्गाने दीन के मिशन को जारी रखा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इंशा अल्लाह आने वाले समय में अल जामिया तुल अशरफ़ीअ ज़िया ए मखदूम भी दीन व सुन्नियत के प्रचार व प्रसार में अपना महत्वपूर्ण रोल अदा करेगा।
सभा का आग़ाज़ क़ारी इरशाद की तिलावत से हुआ, सञ्चालन क़ारी इरफान अशरफी ने अंजाम दिया। क़ारी मुर्सलीन ने नात का नज़राना पेश किया। क़ारी आसिम अशरफी (व्यवस्थापक) ने आने वाले मेहमानों को धन्यवाद् ज्ञापित किया। जलसा में अली शान, आज़ाद साबरी, अली खान, इकरार खान आदि के अलावा बड़ी संख्या में लोग मोजूद रहे। सभा का समापन सलात व सलाम और देश में समृद्धि और शांति की विशेष दुआ पर हुआ।

होशियार रहिये लोग चोला बदल रहे हैं -सय्यद मोहमम्द अशरफ

नेपाल :आल इंडिया उलमा व मशाईख़  बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष  हज़रत मौलाना सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछ्वी एक जलसे को सम्बोधित  करने नेपाल बॉर्डर पहुंचे! उन्होंने वहां लोगों से मुलाक़ात की, उनके हालात जाने, उनकी परेशानियाँ सुनीं  और उन्हें सरकार  तक पहुँचाने  का वादा किया, उसके बाद उन्होंने जलसे से अवाम को सम्बोधित  किया !
हज़रत ने जलसे को खिताब करते हुए कहा कि मुसलमानों को अपना किरदार पेश करना होगा, ज़ुल्म ख़ुद बखुद हार जायेगा लेकिन अफ़सोस की बात है कि आज हम अमल से दूर हैं, हमें दुनिया को अपने किरदार द्वारा बताना होगा कि इस्लाम मोहब्बत का धर्म है ,न कि शर का ! इसलिए  हम सब की ज़िम्मेदारी बनती है कि लोगों के काम आयें और  बिना किसी भेदभाव  के सबके दुःख सुख में खड़े होकर  उनकी मदद करें और अपने देश से  बेपनाह मोहब्बत करें क्योंकि हमारे आक़ा  जनाब मोहम्माद मुस्तफा   सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि अपने देश  से मोहब्बत करना आधा ईमान है !
हज़रत ने कहा कि आपको होशियार रहना होगा क्योंकि लोग अब अपना भेष बदल रहे हैं, उनकी कोशिश है कि किसी तरह आपके बीच घुस कर आपको नुक़सान  पहुँचाया जाये! आल इंडिया उलमा व मशाईख़  बोर्ड शासन और प्रशासन को लगातार बता रहा है कि लोग अब धोखा देने के लिए नए नए पैंतरे अपना रहे हैं, जिनका अक़ीदा ही वसीले पर नहीं हैं वह अपना रिश्ता ख्वाजा ग़रीब नवाज़ से जोड़ रहे हैं !
हज़रत किछौछवी ने कहा कि जब आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड ने इनकी हक़ीक़त खोल दी तो अब यह लोग फरेब दे रहे हैं ! इसलिए  अब होशियार रहने की ज़रूरत है,क्योंकि अगर हम धोका खाया  तो नुक़सान  बड़ा होगा ! अमन क़ायम करने की और इसे महफूज़ रखने की ज़िम्मेदारी हम मुसलमानों की है और यह सिर्फ तब ही मुमकिन है जब हम सिर्फ मोहब्बत वाले बन जाएँ, आपसी रंज़िशों को   खतम कर दीजिये, आपसी मनमुटाव मिटा दीजिये, मुसलमान मोहब्बत वाला होता है, नफरत का तो इस्लाम से रिश्ता ही नहीं है ! सब तक यह पैग़ाम आम कीजिए “मोहब्बत सबके लिए नफरत किसी से नहीं ” जलसे का समापन सलातो सलाम के बाद देश  में अमन की दुआ के साथ हुआ !

सब्र शुक्र और मोहब्बत मोमिनों के यही हथियार हैं -सय्यद मोहम्मद अशरफ

नवगढ़:ऑल इंडिया उलमा व मशाईख़  बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष  सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी आज एक जलसे में शिरकत करने सिद्धार्थनगर के नवगढ पहुंचे यहाँ उन्होंने जनसमूह को खिताब करते हुए कहा कि मुसलमानों  को हर समय  तीन बातों का ख्याल  रखना चाहिए, न सिर्फ मुसलमानों को अगर सभी इस बात का ख्याल रखें तो देश  में अमन के दुश्मन नहीं कामयाब हो सकते, हज़रत ने कहा कि सब्र शुक्र और मोहब्बत यही वह तीन बातें  हैं ।
हज़रत ने अवाम  को आगाह किया कि लोग हमारे देश  पर बुरी नज़र लगाए हुए हैं, वह हमें  आपस में लड़वाना चाहते हैं ताकि हमारे देश  का अमन खतरे में पढ़ जाये और हम विकास न कर पाएं, अब यह देखना होगा कि कौन हैं वह लोग जो अमन खतरे में डालना चाहते हैं । हमें  एकजुट होकर उनका मोहब्बतों से मुक़ाबला करना है, हमारे पास सब्र शुक्र  और मोहब्बत के तीन हथियार हैं जिससे हम इन्हें हरा देंगे ।
हज़रत किछौछवी ने कहा कि हमें  हरगिज़ ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए जिससे किसी और की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचे, उन्होंने साफ़ तौर पर कहा कि गाय के ज़बीहे पर पूरी तरह रोक लगनी चाहिए, हम सरकार  से माँग करते हैं  कि इसे मुकम्मल तौर पर पूरे देश में बंद किया जाए, उन्होंने लोगों से कहा कि अल्लाह के रसूल जनाब हज़रत मोहम्मद मुस्तफा  सल्लल्लाहु अलैहि वस्सल्लम ने फ़रमाया कि गाय के गोश्त में बीमारी है और इसका दूध दवा और इसके घी में शिफा है तो बीमारी की तरफ क्यों बढ़ा जाए बल्कि  उससे बाज़ आया जाए  अगर कोई सरफिरा ऐसा करता है तो उसे रोका जाना चाहिए ।
हज़रत ने आगे कहा कि मोहब्बतों को आम कीजिए,  हर इंसान कि मदद कीजिए, बिना मज़हब और मिल्लत का फ़र्क़ किए  यहाँ तक कि जानवरों के साथ भी नरमी बरतना इस्लाम है। हज़रत ने अंत  में कहा कि हम वही पैग़ाम लेकर आए जो  हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज़ ने दिया जो इस्लाम की असल तालीम भी है यानि ‘मोहब्बत सबके लिए नफरत किसी से नहीं’ सबको इसी पर अमल करना होगा, यही कामयाबी है। प्रोग्राम  का समापन सलात व सलाम के बाद देश और दुनिया में अमन की दुआ के साथ हुआ।

ईद मीलादुन्नबी किसी धर्म के लिए नहीं, पूरी इंसानियत के लिए ख़ुशी का दिन-सय्यद अशरफ

लखनऊ(28 अप्रेल 2017)

इस्लाम शांती और सलामती का धर्म है और हज़रत मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्ल्म
तमाम इंसानों के पैग़ंबर हैं! इसलिए  ईद-मीलादुन्नबी को किसी धर्म से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए, यह पूरी इंसानियत के लिए ख़ुशी का मौक़ा है। सूफ़ियाए किराम  ने भी हुज़ूर ﷺ की शांति , आपसी सहिष्णुता और  मोहब्बत की शिक्षाओं को आम किया है। यही कारण है कि उनके जीवन के किसी कोने में घृणा का नाम व निशान तक नहीं मिलता, उन्होंने हर अच्छे और बुरे को अपने पास बिठाया और अपनी शिक्षाओं और प्रेम द्वारा उसे प्यार करने वाला बना दिया! हक़ीक़त  में इस्लाम की उज्ज्वल शिक्षाओं द्वारा ही समाज से घृणा और आतंक  के वातावरण को समाप्त किया जा सकता है! इन विचारों को आल इंडिया उलमा व मशाइख़ बोर्ड के संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष  हज़रत मौलाना सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने लखनऊ कार्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए रखा। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने साफ़ कहा कि हम भी मानते हैं कि छुट्टियों से काम प्रभावित होता है इसलिए इन्हें  कम किया जाना चाहिए लेकिन ईद मीलादुन्नबी की  छुट्टी समाप्त करना सही निर्णय नहीं है क्योंकि यह त्यौहार शांति का त्यौहार है,शांतिपूर्ण  तौर पर इसे मनाया जाता है।
हज़रत ने कहा ” मुसलमानों की ज़िम्मेदारी है कि इस्लामी शिक्षाओं को अपने  जीवन के हर क्षेत्र में अपनाएं , ज्ञान प्राप्त करें, दूसरों की भावनाओं का ख्याल रख्खें, तनाव का माहौल उत्पन्न न होने दें और मोहब्बत का पैग़ाम आम करें।
बैठक की अध्यक्षता करते हुए सय्यद शादान शिकोही (प्रदेश अध्यछ ) ने कहा कि किसी भी संगठन की शक्ति उसके सदस्य होते हैं, इसलिए  हमें सदस्यता अभियान पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है। उन्होंने बोर्ड की तहसील स्तर तक इकाइयों के बनाये जाने पर ज़ोर दिया और उम्मीद जताई कि जल्द ही ज़िला शाखाओं से यह काम शुरू कर दिया जाऐगा । उन्होंने सुझाव दिया कि घृणा और आतंक के वातावरण में एक समीति का गठन किया जाऐ जिसमें सभी धर्मों के लोगों की भागीदारी हो जो सूफ़ी शांति संदेश को जन जन तक पहुंचाएं! उनके इस सुझाव का भी लोगों ने स्वागत किया।
हज़रत मौलाना मक़बूल अहमद सालिक मिस्बाही  ने बोर्ड के उद्देश्यों और कार्यक्रमों को लोगों तक पहुंचाने के लिए एक मासिक पत्रिका शुरू किये जाने का प्रस्ताव रखा जिस पर बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि इंशाअल्लाह जल्द ही  ग़ौसुल आलम मासिक उर्दू में और सूफी विज़न नाम से अंग्रेजी में मासिक निकाला जाएगा जिसकी तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं।
मुफ़्ती सय्यद अज़बर अली ने भी ईद मीलादुन्नबी की छुट्टी को खत्म किये जाने पर अफ़सोस ज़ाहिर किया!
बैठक में मस्जिदों के इमामों की  समस्याओं पर विचार किया गया और यह प्रस्ताव किया गया कि  मस्जिद के इमामों का एक संगठन बनाया जाये जिसके तहत मस्जिद के इमामों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित किया जाए और उनकी समस्याओं को दूर करने का प्रयास किया जाये जिससे  उनकी आर्थिक समस्याओं  के समाधान  में मदद मिल सके।
बैठक में सय्यद हम्माद अशरफ किछौछवी (प्रदेश सचिव),सय्यद सिराज अशरफ ,मौलाना इश्तियाक क़ादरी (लखनऊ ज़िला अध्यक्ष ) हाफिज़  मुबीन अहमद (सदर बरेली), क़ारी मोहम्मद अहमद बक़ाई, क़ारी मोईनुद्दीन, मुफ्ती सय्यद निसार अहमद, सय्यद इज़हार मुराद , मौलाना गुलाम रब्बानी, मौलाना हसीब मिस्बाही, मुफ्ती नसीम अख्तर अशरफी ,निगार आलम , क़ारी इरफान अहमद संभली, एडवोकेट हाशमी, मोहम्मद आलम ,असद कुरैशी , अब्दुर्रहमान मौजूद रहे! बैठक का समापन सलाम, देश में शांति और व्यवस्था की दुआ पर हुआ।

Pictures: AIUMB Protest all over India and condemns terror attack on Uri and demands action against Pakistani Government

whatsapp-image-2016-09-26-at-8-39-48-pm
whatsapp-image-2016-09-26-at-8-40-51-pm
whatsapp-image-2016-09-26-at-8-41-28-pm
img-20160924-wa0008
img-20160924-wa0003
img-20160924-wa0005
whatsapp-image-2016-09-23-at-6-05-39-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-6-05-32-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-47-56-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-47-51-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-38-14-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-38-22-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-38-53-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-42-43-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-35-51-pm
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-36-54-pm
+
whatsapp-image-2016-09-23-at-3-15-01-pm

 

Pictures: Protest and Press Conference against Zakir Naik and his Preaching:26th July’16

13882313_1740141359607990_2157733750391649296_n
Nagpur1
Korba1
Korba2
Delhi
Bhatinda
Modassa
Lucknow Protest ki photo aur Memorandum dete AIUMB Lko Sadar Maulana Ishteyaq Ahmad Ashrafi.
Korba
Mirzapur1
Ajmer
Pilibhit
IUMB press conference at Mirzapur. Addressing press conference, Maulana Mukhtar Alam Ashrafi (Khalifa Huzur Qutubul Mashaikh) at Mirzapur u. P. India
Mirzapur
Hanumangarh Rajasthan
Ajmer1
image4
image3
Akbarpur UP
Telangana
Telangana1
Akbarpur
Dissa Gujrat
Sambhal1
Sambhal2
Dissa 2
Pilibhit
Moradabad
Nagpur 23
Lucknow (2)
Lucknow
hanuman garh

 

Photographs from World Sufi Forum:17-20 March 2016

10347081_1109544639076238_5486837036986406483_n
10398996_1109546432409392_8170228559478639214_n
10422319_1111908642173171_7049232563432849135_n
11059866_1265383636824290_6845258786735091385_n
11217558_1111916568839045_6810247115342239297_n
12038364_1267193313309989_3065863221407710509_n
12039762_1265389933490327_7998651375695831062_n
12049356_1267399819956005_3612603431406460882_n
12105722_1111723038858398_2169317638157195745_n
12105722_1111732788857423_3698773842671657497_n
12321196_1111924188838283_1587219026790021707_n
12321204_1109544052409630_4005515810331074492_n
12321336_1111922255505143_7662303436728081747_n
12321498_1111918785505490_1507473836832522857_n
12321677_1109544149076287_5612250251042094259_n
12321679_1109439562420079_8376901944526837756_n
12321696_1267190603310260_4108370083157055099_n
12376357_1267399856622668_4956925824876930970_n
12400672_1109540779076624_1690365916451079947_n
12417531_1267398169956170_4142746432125867894_n
12417543_1109440045753364_392321053996436340_n
12417729_1267181376644516_7492128612810941427_n
12417785_1111735115523857_8150914942018186431_n
12418047_1111915958839106_3446844880968045057_n
12472362_1267398556622798_4171864271972901771_n
12472369_1111909165506452_8749067387947120408_n
12472568_1267403783288942_6444892972186706149_n
12472581_1267401556622498_3590748525470967802_n
12472724_1111909475506421_3376208400933228541_n
12472803_1111908952173140_2000984664794962895_n
12494693_1111913995505969_3131042857703907108_n
12494861_1109440052420030_5292428471370786651_n
12495147_1111930865504282_5089947902538676788_n
12512245_1109543545743014_4225262864951012809_n
12512348_1111723952191640_8147116366730671481_n
12523974_1111926405504728_5976944544704550549_n
12523983_1111911115506257_5765674998013819275_n
12592625_1109546032409432_3718054791146055717_n
12670544_1111910445506324_5679440326943764994_n
12670644_1111731255524243_6048669721264809992_n
12670648_1109543462409689_4164152878919055515_n
12670660_1111921175505251_5235221192126052795_n
12670684_1111927285504640_5336016675082862239_n
12670756_1109440099086692_7745385550438634268_n
12670896_1111917452172290_2399818367281472417_n
12671719_1265390183490302_3491369931995722953_o
12705630_1267396703289650_671534399973333338_n
12800272_1267182023311118_2642165858457198781_n
12801538_1267396886622965_1217548302416156429_n
12801548_1265389473490373_5384885466673711115_n
12801550_1111722032191832_1174894925951631800_n
12801574_1111909728839729_6416295952338205858_n
12801629_1111912172172818_891280849266757382_n
12803273_1265389570157030_4724673126241369225_n
12885978_1111721165525252_5089690506053720983_o
12919639_1111916468839055_5691280695680629467_n
12919697_1111927335504635_8537116879842241733_n
12919756_1109440272420008_2289363396139359854_n
12919845_1265377500158237_3768125138651895540_n
12919874_1111981852165850_1661184721548727510_n
12920271_1109543599076342_6659463680617990392_n
12920275_1267190646643589_1721602387382488339_n
12920340_1267181759977811_360557180905791269_n
12920355_1111723245525044_2163351531470038641_n
12920359_1111726812191354_4593184301204433431_n
12920420_1111921028838599_5098755907307913627_n
12923083_1267403076622346_7184580880112904841_n
12923211_1109440239086678_5070113925055367339_n
12923273_1109544722409563_8688468742470887008_n
12923306_1267398479956139_4383268532436905453_n
12923388_1265385853490735_973620952298340499_n
12924402_1111927558837946_4676274328426521035_n (1)
12924425_1109546279076074_1085383935502906622_n
12928202_1109439572420078_1480761403687394134_n
12928203_1109544575742911_4464703123646137865_n
12928230_1267193403309980_7994119627961063773_n
12928281_1265377033491617_3398690181303478765_n
12928291_1111909802173055_5759350165115767627_n
12928392_1109440002420035_1672954318107401209_n
12931008_1111914555505913_5815119313231094508_n
12931197_1267398433289477_6838496532576793475_n
12931217_1111722832191752_5675060173914892466_n
12931241_1111728362191199_7041205648552566042_n
12932637_1267403696622284_364607608078153977_n
12932729_1111733752190660_575650433107217290_n
12932793_1267193129976674_2483885475519038919_n
12933066_1267402099955777_4262771542335344168_n
12933163_1111922042171831_887786246841895214_n
12936630_1267191186643535_3529208920668425790_n
12936724_1111728792191156_5601479350188773392_n
12938115_1111926185504750_2599355959683930753_n
12938173_1111922468838455_938365898796393248_n
12938186_1111910822172953_883612408715555665_n
IMG-20150531-WA0028
13001294_1030714190341200_6277686903408727845_n
12963524_833634153408115_452751396191705893_n
12936721_1134780559889521_5517746289344697125_n
12924425_1134780279889549_5274092146356831346_n
12932716_1134780259889551_2778864134523336853_n
12932762_1135187789848798_122177159908351324_n
12928224_1136590179708559_8261018048423425933_n
12400990_10154065706869049_8947776172447971084_n
156073_1256050797757574_7938361157029764332_n
10402862_1256050794424241_8667969038866732559_n
1915852_1256050731090914_7507723619850829049_n
8325e938-b53a-4390-8e7d-e5845a42eae9
12512242_10153268178786735_8251464789229096575_n
12803259_10153550836489211_518891476724474301_n
12814350_1155868987787211_3166977775221291302_n
6165_1155868664453910_3966116894637999923_n
IMG_20160318_021157
20160313133014 (2)
DSC_6374
DSC_6375
DSC_6377
DSC_6379
DSC_6380
405_1109440429086659_8086880055035711579_n
5669_1267192853310035_8240175264057294648_n
6788_1265384193490901_5606638703342036221_n
7666_1265389736823680_1492982302423502645_n
934146_1109540285743340_3287950881485391145_n
940916_1111728885524480_5004518365351731316_n
943860_1267181753311145_2487150649359563910_n
944004_1109544212409614_8278897078190883378_n
944910_1109540329076669_6601346702740344044_n
946451_1109440365753332_9215004395818652754_n
1001122_1265389520157035_1271452550873606704_n
1235485_1109540015743367_6820651262362632108_n
1517678_1267191153310205_34831561290703320_n
1655944_1109439595753409_8927783138238138475_n
1916383_1265376726824981_6650996910875604540_n
1918306_1109540332410002_4234046994150096240_n
1934661_1267191426643511_1792777873199634470_n
1934743_1109439782420057_6171076024824552026_n
1934743_1109540839076618_4057618611435491545_n

World Sufi Forum meeting in haimo gadwi hall Rajkot. Organised by AIUMB Sawrashtra Unit.

a187c95d-d04f-4102-981e-87e855f7413a
0547f5ed-aa51-4a8e-b3fe-fd05105101f2
e2087faa-c9bb-4bfe-92f1-6552a893e3f7
12417693_10208521947348472_4889090180452120845_n
12509743_10208521947068465_3845084607866800860_n
12508701_10208521946188443_3126181629486612697_n
12494943_10208521944868410_2667704268512252369_n

 

Lecture on Hussain Day,22 Nov 2015,Bangalore

12274417_991085064305122_4376412660639136350_n (1)
11224255_985501284863500_5272480235763617346_n
12294845_990544661025829_6432971811305037874_n
12308499_990544637692498_2930332714195305859_n
11222063_990544557692506_8483715131772082869_n
12316092_990544067692555_755563969163817556_n
11202813_990543604359268_202937895466007826_n
11221760_990543484359280_2126836134947647142_n
12295339_990543024359326_6855471780608398919_n
12308628_990542161026079_5903234428388654859_n
12250156_990542164359412_6693572050623784809_n