आतंक को नकारने के लिए पाक की आवाम मुबारकबाद की पात्र – सय्यद अशरफ

26 जुलाई/लखनऊ

“आतंक को नकारने के लिए पाक की आवाम मुबारकबाद की पात्र ” यह बात वर्ल्ड सूफी फोरम व आल इंडिया उलमा व मशायख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने पाकिस्तान इलेक्शन में आतंकी सरगना हाफ़िज़ सईद की पार्टी को एक भी सीट न मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए कही ।उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की आवाम ने साफ तौर से बता दिया है कि वह दहशतगर्दी को किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं करना चाहते और अमन के साथ हैं ।
हज़रत ने कहा कि इस बार पाकिस्तान में जो बदलाव दिखाई दे रहा है वह हमारे मुल्क के लिए बेहतर है हम उम्मीद करते हैं कि नई हुकूमत से दोनों देशों के ताल्लुकात बेहतर होंगे हज़रत ने इमरान खान को बधाई देते हुए कहा कि हम दुआ करते हैं कि इमरान खान सूफिया की तालीम पर अमल करते हुए पाकिस्तान में मोहब्बत की फिजा को बहाल कर आवाम की बेहतरी के लिए काम करें।हज़रत ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि दोनों मुल्को के सम्बन्ध बेहतर होंगे।
उन्होंने कहा कि आतंक को रोकना सबकी ज़िम्मेदारी है अगर हमने इसे नहीं समझा तो सबका नुक़सान होगा लिहाजा दोनों मुल्कों को क़दम से क़दम मिलाकर चलना होगा।

 

By: Yunus Mohani

دہشت گردی کو نکارنے کے لئے پاکستانی عوام کو مبارک باد: سید محمد اشرف

پاکستانی عوام نے انتہا پسندی اور تشدد کے مقابلے امن اور مروت کو ترجیح دیا
لکھنؤ یوپی، (پریس رلیز)26 جولائی
حالیہ پاکستانی انتخاب میں پاکستانی عوام نے دہشت گردی کو سرے سے نکارتے ہوئے انتہا پسندی کے خلاف اپنی منشاء کو صاف ظاہر کرکے بڑا فیصلہ لیا ہے۔حافظ سعید جیسے مبینہ انتہا پسندکی حمایت یافتہ پارٹی کو ایک بھی سیٹ نہ دے کر پاکستانی عوام نے دہشت گردی کے خلاف یکسر کھڑے ہو کر یہ صاف کردیا کہ پاکستانی عوام کبھی بھی نفرت اور تشدد کی حمایت نہیں کر سکتی۔ اس عوام کے اس موقف کے لئے وہ مبارک باد کے مستحق ہیں۔یہی حوصلہ نئی حکومت کو دہشت گردی کے خلاف سخت اقدام کرنے میں مدد گار ثابت ہوگا۔ ان خیالات کا اظہار ورلڈ صوفی فورم کے صدر اور آل انڈیا علماء و مشائخ بورڈ کے بانی حضرت سید محمد اشرف کچھوچھوی نے اپنے بیان میں کیا۔انہوں نے مزید کہا کہ پاکستان میں یہ نیا بدلاؤ نئی امیدوں کو جنم دے رہا ہے۔اس نئی حکومت سے یہ امید ہے کہ اب دونوں ملکوں کے درمیان حالات میں بہتری آئے گی۔سید محمد اشرف نے عمران خان کو مبارکباد پیش کرتے ہوئے کہا کہ ہم دعا کرتے ہیں کہ عمران خان پاکستان کی اکثرعوام کی عقیدت و محبت کا احترام کرتے ہوئے صوفیا کی تعلیمات پر عمل پیرا ہوکر پاکستان میں محبت و اخوت اور ہمدردی اور انصاف کی فضا قائم کریں گے اور ذاتی مفادات اور غیر ضروری سیاست میں پھنسنے کی بجائے عوام کی بہتری اور امن کے قیام و فروغ کو ترجیح دیں گے۔انہوں نے کہا کہ ہمیں نئی حکومت سے پوری توقع ہے کہ دونوں ملکوں کے بیچ رشتے کو بھروسہ اور اعتماد کی بنیاد پر بہتر کریں گے۔ کیوں کہ دونوں ملکوں کے درمیان خوشگوار رشتوں کے بیچ سب سے بڑی دیواروں میں سے ایک دہشت گردی ہے۔ اور عمران خان سے ہم یہ توقع کرتے ہیں کہ ان کا پہلا قدم انتہا پسندی اور تشدد کے تمام راستوں کو مسدود کرنا ہوگا۔

Congratulate to Pakistani People for rejecting Terrorism : Syed Muhammad Ashraf Kichhochhawi

Lucknow, UP, (Press release) 26 July 2018

In recent Pakistan Assembly election result Pakistani people rejected any type of support to Terrorism as they totally denied to give any seat to known terror symbol of terrorism Hafiz Saeed Party. By this, they clearly declared their opinion and stand on any type of terror. They expressed their will of peace and harmony on their ground. This was stated by the founder of All India Ulama & Mashaikh Board and president of World Sufi Forum Hazrat Syed Muhammad Ashraf Kichhochhawi. He further stated the newly elected government is expected to make healthy relation between India and Pakistan by clearly countering every aspect of terrorism and to maintain the peace and harmony by respecting the Sufi believes and teaching as the majority of Pakistani Muslims. Syed Ashraf Congratulated Emran Khan on his big victory and praised for him for good relation between the two country and working for the sake of common people. He said Pakistan has always believe in Sufi tradition and it always has a strong effect in the mass. Emran Khan is expected to spread those Sufies teachings to counter any kind of hate and violence.

By: Abdul Moid Azhari

मज़लूम की पहचान मज़हब से न करें, नफरत के एजेंडे को बढ़ने से रोकें : सय्यद मोहम्मद अशरफ

25 जुलाई/अम्बेडकरनगर

मज़लूम की पहचान मज़हब से न करें, नफरत के एजेंडे को बढ़ने से रोकें” यह विचार वर्ल्ड सूफी फोरम व आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक, अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने हज़रत मख़दूम अशरफ जहांगीर सिमनानी रहमतुल्लाह अलैहि की दरगाह पर हाज़िरी के बाद मीडिया से कही, उन्होंने कहा हम जब मज़लूम की पहचान उसके मज़हब या ज़ाति की बुनियाद पर करते हैं तो नफरत के एजेंडे को ताक़त मिलती है और वह कामयाब हो जाता है।
हज़रत ने कहा कि मज़लूम सिर्फ मज़लूम होता है उसका कोई धर्म या ज़ा नहीं होती लेकिन खास तौर से इस बात को कहना कि यहां मरने वाला मुसलमान है या दलित या फिर कोई और तो इससे समाज में एक तरह का खौफ पनपता है और नफरत फैलती है. हमारा प्रयास होना चाहिए कि अतिताईयों के मक़सद को कामयाब न होने दें जो हम को ज़ाती और धर्म के साथ बांटना चाहते हैं ताकी उनके खतरनाक इरादे कामयाब हो जाएं।
उन्होंने कहा कि सूफिया ने गंगा जमुनी तहज़ीब को जन्म दिया जिसमें नफरत के लिए कोई जगह नहीं है, हमारा मुल्क अपनी इसी खूबसूरती और इस मोहब्बत वाली तहज़ीब के लिए जाना जाता है। कुछ देश के दुश्मन हमसे हमारी यह तहज़ीब छीनना चाहते हैं, हमें मज़हब और ज़ाती के नाम पर बांट कर वह अपने घिनौने एजेंडे को कामयाब करने पर तुले हैं।
हज़रत ने कहा कि मीडिया को भी अपनी ज़िम्मेदारी निभाते हुए इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि नफरत बढ़ाने वाली बातों और खबरों को रोका जाए, यह मुल्क मेरा और आपका नहीं बल्कि हमारा है, हम मिलकर इसका मुस्तक़बिल संवार सकते हैं, हम का माना हिन्दू और मुस्लिम से है, साथ में भारत में रहने वाले सभी धर्म के मानने वाले हैं अगर हम को मैं और तुम में बदला दिया गया तो देश का बड़ा नुक़सान होगा ।
उन्होंने साफ शब्दों में सरकार से कहा कि अब सरकार तय करे कि देश में क़ानून का राज चलेगा या भीड़ फैसला करेगी? हिन्दू ,मुसलमान ,सिख ,ईसाई सब आपस में हैं भाई भाई, क्या यह अब सिर्फ एक जुमला बन गया है या फिर मुल्क की बुनियादी ज़रत है ?

 

By: यूनुस मोहानी

सिर्फ क़ानून बना देने से नहीं बल्कि उसे सख्ती और ईमानदारी से लागू करने से रुकेगी हत्याएं : सय्यद मोहम्मद अशरफ

17 जुलाई/ हनुमानगढ़ राजस्थान.

“सिर्फ क़ानून बना देने से नहीं बल्कि उसे सख्ती और ईमानदारी से लागू करने से रुकेगी हत्याएं” यह बात वर्ल्ड सूफी फोरम व आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक, अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने सर्वोच्च न्यायलय द्वारा संसद में भीड़ द्वारा हत्या करने पर क़ानून बनाने की बात कहने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही ।उन्होंने कहा कि सिर्फ क़ानून होने से कुछ नहीं होगा अगर उसे ईमानदारी से लागू न किया जाऐ।
हज़रत ने कहा, भीड़ जिस तरह सड़कों पर उतर कर निर्दोष लोगों को मार रही है यह भयावह स्थिति है इससे अगर सख्ती से नहीं निपटा गया तो फिर जंगलराज को कोई नहीं रोक पाऐगा और पूरा देश जल उठेगा। आज पूरी दुनिया हमारे मुल्क की तरफ हसरत भरी निगाहों से देख रही है मगर हमने इस हिंसक भीड़ को नहीं रोका तो विकास की कल्पना भी बेईमानी है।
उन्होंने कहा कि राज्य और केन्द्र  सरकार की ज़िम्मेदारी है कि ऐसे उपद्रवी भीडतंत्र को किसी प्रकार का संरक्षण न मिले और इन्हें हर स्तर पर हतोउत्साहित किया जाऐ।अपराधियों से सख्ती से निपटा जाना चाहिए, लोगों को भी सचेत रहते हुए किसी के बहकावे में नहीं आना चाहिए और क़ानून को किसी भी क़ीमत हाथ में नहीं लेना चाहिए।
क़ानून तब ही प्रभावी होता है जब उसका खौफ लोगों के दिल में हो अगर उसको लागू करने वाले ईमानदारी से क़ानून तो बनाया जाऐ लेकिन उसको सख्ती से लागू करवाने की गारंटी भी सरकार को देनी चाहिए क्योंकि इस तरह भीड़ द्वारा किसी की हत्या हमारे समाज के धीरे धीरे वहशी हो जाने का संकेत है, इसे रोका जाना चाहिए। मोहब्बत का पैगाम सब तक पहुंचाया जाए ताकि नफरत की आग को ठंडा किया जा सके।

By: Yunus Mohani

अफवाहें आग लगा रही हैं और नफरत जानें ले रही हैं : सय्यद मोहम्मद अशरफ

15 जुलाई/ खुंजा राजस्थान

अफवाहें आग लगा रही हैं और नफरत जाने ले रही है, यह बात एक जलसे को खिताब करते हुए वर्ल्ड सूफी फोरम एवम आल इंडिया उलमा व मशाइख़ बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कही, उन्होंने कर्नाटक में गूगल के इंजीनियर मोहम्मद आज़म की एक अफवाह के चलते भीड़ के ज़रिए हत्या पर बोलते हुए कहा कि मुल्क खतरनाक दौर से गुज़र रहा है, सोशल मीडिया जहां एक ताक़तवर ज़रिया है अपनी बात रखने का, नफरत के सौदागरों ने उसे हथियार बना लिया है।
उन्होंने कहा कि अब वक़्त अा गया है सरकार को फौरन कोई ऐसा तरीका अपनाना होगा जिससे यह प्लेटफार्म भी बच जाए और वैचारिक आतंकी इसे अपना हथियार भी न बना सके।हज़रत ने कहा, बच्चा चोरी के इल्जाम में एक पढ़े लिखे इंसान को वहशी भीड़ मार देती है, यह कैसा समाज हमने बना दिया है, क्या यही विकास का मॉडल है ?

हज़रत ने कहा कि क़ुरआन में अल्लाह ने फरमाया कि" ईमान वालों जब तुम्हारे पास कोई खबर आए तो उसकी खूब तहक़ीक़ कर लिया करो "लिहाजा यही उसूल है कि किसी बात को मान लेने से पहले उसकी तहकीक ज़रूरी है आज लोग बिना तहक़ीक़ के हर बात को सच मान कर नफरत की आग में बेगुनाहों की जान लेने पर तुले हैं।

उन्होंने कहा, कहीं दलित, कहीं मुस्लिम कहीं महिलाएं नफरत का शिकार हो रही हैं,ऐसे में हुकूमत की ज़िम्मेदारी बनती है कि वह ऐसे इंतज़ाम करे जिससे वैचारिक आतंकी कामयाब न होने पाए, हज़रत ने शदीद ग़म और ग़ुस्से का इजहार करते हुए कहा कि एक तरफ पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में ज़हरीली सोच के मालिक बम धमाके कर बेगुनाहों की जान ले रहे हैं, और हमारे मुल्क में अफवाह को बम की शक्ल में इस्तेमाल कर बेगुनाहों की जान ली जा रही है, हम इसकी सख्त मज़म्मत करते हैं और अहले अमन से अपील करते हैं कि लामबंद होकर नफरत की आंधियों के खिलाफ खड़े हो जाइए, मोहब्बत के चिराग का मुहाफिज़ खुदा है।

By: यूनुस मोहानी

अलग देश की बात करने वाले मुसलमानों के दुश्मन : सय्यद मोहम्मद अशरफ

10 जुलाई/लखनऊ “अलग देश की बात करने वाले मुसलमानों के दुश्मन” यह बात वर्ल्ड सूफी फोरम एवम् आल इंडिया उलमा व मशाईख बोर्ड के संस्थापक अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने कश्मीर के मुफ्ती नसीरुल इस्लाम के उस बयान पर कही जिसमें मुफ्ती ने कहा था कि अगर भारत सरकार शरीयत अदालत नहीं दे सकती तो मुसलमानों को अलग देश दे दिया जाए। हज़रत ने कहा कि ये मुसलमानों के साथ दुश्मनी निभाना है न की उनकी हिमायत करना क्योंकि हम हिन्दुस्तानी मुसलमान अपने मुल्क से मोहब्बत करने वाले हैं, हमने जिन्ना का भी विरोध किया और ऐसे लोगों का भी हम कड़ा विरोध करते हैं।
उन्होंने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने बेवक्त की शहनाई बजाई है और नादान लोग इसकी धुन को नफरत का राग बना रहे हैं जबकि दारुलक़जा को समाधान केंद्र के तौर पर आप बिना हमारे मुल्क के कानून और संविधान से टकराए बिना बना सकते हैं तो इसमें इतना शोर मचाने का क्या मतलब है?
हज़रत ने यह सवाल भी पूछा कि बोर्ड ने इस वक़्त क्यों यह बात शुरू की जबकि ऐसी कोई दिक्कत है नहीं, उन्होंने कहा कि इसमें सियासत की बू अा रही है, मुल्क के मुसलमान हरगिज़ ऐसी बेबुनियाद बातो के साथ नहीं है और हम  बेबुनियाद बयानबाज़ी की कड़ी निन्दा करते हैं और देश बांटने की बात करने वालो से मुसलमानों को होशियार रहने की अपील करते है ।
 By:
यूनुस मोहानी

मज़हब के नाम पर मौत का कारोबार बर्दाश्त नहीं, आतंकी क़ायर हैं : सय्यद मोहम्मद अशरफ

मॉरीशस /2 जुलाई

मज़हब के नाम पर मौत का कारोबार बर्दाश्त नहीं, आतंकी क़ायर हैं, यह बात वर्ल्ड सूफी फोरम के चेयरमैन व आल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड के संस्थापक, अध्यक्ष हज़रत सय्यद मोहम्मद अशरफ किछौछवी ने अफगानिस्तान में सिख समुदाय पर किए गए आतंकी हमले पर अफसोस जताते हुए कही।
उन्होंने कहा कि आतंकी क़ायरों की बहकी हुईं भीड़ का हिस्सा हैं जो मज़हब का चोला ओढ़ कर बेगुनाह लोगों को शिकार बना रहे हैं, हज़रत ने कहा कि हम इसकी घोर निन्दा करते हैं और सिर्फ निन्दा ही नहीं करते हैं बल्कि दुनिया के सभी अमन पसन्द लोगों  से अपील करते हैं कि आतंक के विरूद्ध धर्म क्षेत्र और जाति का भेद भूल कर खड़े हो जाईए, हमें इस नासूर को समाज से मिटाना ही होगा वरना कोई सुरक्षित नहीं है।
हज़रत ने कहा, दुनिया को नफरत से लड़ने के लिए मोहब्बत का हथियार उठाना होगा क्योंकि बारूद से लगी आग को बारूद से नहीं बुझाया जा सकता, सबको आपस में मोहब्बत करनी होगी और ज़ुल्म से नफरत चाहे वह कहीं भी हो किसी पर भी हो, हमें इसमें दोहरा रवैया नहीं अपनाना चाहिए ।
उन्होंने कहा, हमारी सारी संवेदनाएं उन मज़लूमों के साथ हैं जो इस क़ायराना हमले का शिकार हुए, हम उनके परिवार वालों के लिए सब्र की दुआ करते हैं और जो लोग घायल है जल्द से जल्द उनके स्वस्थ होने की इश्वर से प्रार्थना करते हैं।
हज़रत ने लोगों से मुखातिब होते हुए कहा कि याद रखिए नफरत का इलाज सिर्फ मोहब्बत है अगर आप अमन कायम करना चाहते हैं तो मजलूम के साथ खड़े हो जाईए और ज़ालिम का पुरजोर विरोध कीजिए चाहे वो ज़ालिम कोई भी हो।

By: यूनुस मोहानी

हैवान का समाज में कोई स्थान नहीं, फास्ट ट्रैक में चले मुकदमा,फांसी हो : सय्यद आलमगीर अशरफ

सलोन /29 जून ,”हैवान का समाज में कोई स्थान नहीं,फास्ट ट्रैक में चले मुकदमा फांसी हो” यह बात खैरहा में जलसे को संबोधित करते हुए आल इन्डिया उलेमा व माशाइख़ बोर्ड यूथ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत मौलाना सय्यद आलमगीर अशरफ किछौछवी ने कही।

उन्होंने कहा, अगर हैवानों को समाज में खुला छोड़ा गया तो वह दिन दूर नहीं जब मुल्क की पहचान रेपिस्तान के तौर पर होगी ,उन्होंने कहा कि हैवान की पहचान मजहब की बुनियाद पर नहीं की जानी चाहिए बल्कि उसे सिर्फ दरिंदे के तौर पर देखा जाना चाहिए क्योंकि कोई भी मजहब इस तरह के घिनौने और आपराधिक कामो की इजाज़त नहीं देता।

हज़रत ने कहा कि हम हुकूमत से मांग करते हैं कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चला कर दरिंदे को 3 माह के भीतर फांसी पर लटका दिया जाए मजहबे इस्लाम में बलात्कारी की जैसी सज़ा का प्रावधान है अगर वैसी सजा दी जाय तो इस तरह की दरिंदगी पर रोक लग सकती है।
उन्होंने कहा कि बलात्कारियों की किसी भी सभ्य समाज में कोई जगह नहीं है इनका हर स्तर पर बहिष्कार किया जाना चाहिए और इस पर सांप्रदायिक राजनीत नहीं की जानी चाहिए। मौलाना ने कहा कि हम सब पीड़िता के साथ हैं क्योंकि मजहब यही सिखाता है कि मजलूम का साथ दो और ज़ालिम के खिलाफ खड़े हो उन्होंने कहा कि हम दरिंदे को फांसी दिलवाने के लिए भरसक प्रयास करेंगे ताकि हमारी और बहन बेटियां महफूज़ रह सके और दरिंदगी की शिकार हमारी बच्ची को इंसाफ मिल सके।

By: यूनुस मोहानी